• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • This Drone Can Fly With 30 Liters Of Water, Sprays Manure In One Acre In 6 Minutes, On Rent To Farmers

जबलपुर के स्टूडेंट ने बनाया देश का सबसे बड़ा ड्रोन:30 लीटर केमिकल लेकर उड़ सकता है, 6 मिनट में छिड़क देता है एक एकड़ खेत में खाद

जबलपुरएक वर्ष पहलेलेखक: संतोष सिंह

जबलपुर में इंजीनियरिंग के छात्र ने एक ड्रोन बनाया है। इसे फ्लाइंग चक्र नाम दिया है। उन्होंने इसे 6 साल की मेहनत के बाद तैयार किया है। ड्रोन की क्षमता 30 लीटर है। ड्रोन का वजन 20 किलो है। इस तरह 50 किलो वजन के साथ ये ड्रोन 6 मिनट में एक एकड़ खेत में खाद व कीटनाशक का छिड़काव कर सकता है। स्टूडेंट का दावा है कि देश में बना यह सबसे बड़ा ड्रोन है। किसानों को अब किराए पर ड्रोन उपलब्ध कराने की दिशा में काम शुरू किया है। दैनिक भास्कर खेती-किसानी सीरीज-20 में ड्रोन की खेती में उपयोगिता पर आइए जानते हैं आविष्कारक अभिनव सिंह और उनके बिजनेस पार्टनर अनुराग चांदना से…

2015 से कर रहा था काम

'मेरी पढ़ाई इंजीनियरिंग इलेक्ट्रॉनिक से हुई। पाटन तहसील में हम गांव के रहने वाले हैं। फैमिली खेती ही करती है। मैं अकसर उन्हें देखा करता था कि वे पीठ पर टंकी लटकाकर कीटनाशक स्प्रे करते थे। कई बार धान के पानी से भरे खेत में स्प्रे कमर की गहराई तक जाकर स्प्रे करते थे। वे पेस्टीसाइड के ऊपर से निकलने को मजबूर रहते हैं। तब मैं छोटे ड्रोन बनाता था। किसानों की मदद के लिए ड्रोन किस तरह से उपयोगी हो सकता है, इस पर सोचना शुरू किया। घरवालों ने बताया कि कम से कम 30 लीटर क्षमता का ड्रोन होना चाहिए। 2015 से इस पर काम कर रहा था।'

इस ड्रोन से 6 मिनट में एक एकड़ खेत में स्प्रे किया जा सकता है।
इस ड्रोन से 6 मिनट में एक एकड़ खेत में स्प्रे किया जा सकता है।

ड्रोन की मदद से गेहूं की बुआई भी कर सकते हैं

छोटे और बड़े किसानों की क्षमता को देखते हुए पांच से 30 लीटर क्षमता के अलग-अलग ड्रोन बनाए हैं। इनकी कीमत पांच से नौ लाख रुपए है। अभिनव का दावा है कि सरकार इस पर सब्सिडी प्लान करने जा रही है। इस ड्रोन की मदद से गेहूं की बुआई भी कर सकते हैं। 2020 में बीएचयू के साथ मिलकर ड्रोन से गेहूं की बुआई की थी। इसमें गूगल मैप में जाकर एरिया मार्क करना पड़ता है। गेहूं की लाइन से लाइन की दूरी और बीज की मात्रा ऑटोमैटिक प्लान कर सकते हैं। इसके बाद पूरा काम ड्रोन खुद करेगा।

50 हजार की पड़ती है बैटरी

इस ड्रोन के बैटरी को चार्ज करना पड़ता है। इसकी कीमत 50 हजार रुपए है। इसे 500 बार चार्ज कर सकते हैं। एक बार चार्ज करने पर आधे घंटे तक उपयोग में लाया जा सकता है। बैटरी की क्षमता 50 वोल्ट व 22 हजार एमएएच की है। बैटरी रिमूवल है। एक बैटरी निकाल कर दूसरी लगा सकते हैं। अनुराग की आर्थिक मदद से अब ड्रोन मैन्युफैक्चरिंग प्लांट लगाने की तैयारी है।

फसल की पैदावार 25 प्रतिशत तक बढ़ जाएगी

अभिनव कहते हैं, फ्लाइंग चक्र सच में एक क्रांति है। किसान नौ बार फसल के बीच घातक रसायनों के साथ जाता है। इससे उस पर कैंसर की चपेट में आने का खतरा रहता है। ड्रोन की मदद से वह खुद की जान सुरक्षित रखने के साथ ही ऑटोमैटिक तरीके से खेत में खाद व कीटनाशक का छिड़काव कर सकता है। इससे कीटनाशक व खाद की मात्रा भी कम लगती है। पैदावार 25 प्रतिशत तक बढ़ जाती है। वहीं पानी की 90 प्रतिशत तक बचत होती है।

30 लीटर क्षमता के साथ उड़ान भरने वाला देश का सबसे बड़ा ड्रोन है फ्लाइंग चक्र।
30 लीटर क्षमता के साथ उड़ान भरने वाला देश का सबसे बड़ा ड्रोन है फ्लाइंग चक्र।

सर्विस मॉडल विकसित करने पर जोर
ड्रोन की कीमत पांच से नौ लाख के बीच है। सामान्य किसान इतना खर्च नहीं कर सकता है। अभिनव सिंह ने कहा कि हम एक सर्विस मॉडल विकसित कर रहे हैं। अगले एक साल में प्रदेश के सभी 272 तहसीलों में हम सर्विस पार्टनर तैयार करेंगे। यह उसी तहसील का व्यक्ति होगा। उसे हम ड्रोन उपलब्ध कराएंगे। उसे चलाना सिखाएंगे। सॉफ्टवेयर देंगे। वह क्षेत्र में सर्विस के तौर पर ड्रोन सेवा मुहैया कराएगा। एक किसान को प्रति एकड़ पेस्टीसाइड और खाद डालने में लगने वाले खर्च के बराबर 199 रुपए में इसे उपलब्ध कराएंगे। चयनित युवकों को एग्रीकल्चर ड्रोन पायलट का लाइसेंस भी दिलाएंगे।

भास्कर खेती-किसानी एक्सपर्ट सीरीज में अगली स्टोरी होगी खेती में बार कोड का प्रयोग, बढ़ाएगा प्रोडक्ट की विश्वसनीयता। आपका कोई सवाल हो तो इस नंबर 9406575355 वॉट्सऐप पर मैसेज करें।

ये भी पढ़ें-

ग्वालियर मेले में देश के टॉप क्लास ड्रोन:डेढ़ लाख से डेढ़ करोड़ तक कीमत, जमीन से लेकर आसमान की निगरानी में सक्षम; जानिए- क्वालिटी

खेत की मेड़ पर लगाएं चिरौंजी:JNKV ने टिशू कल्चर से चिरौंजी के 500 पौधे किए तैयार, 10 पेड़ से तीन लाख तक हो सकती है कमाई

फरवरी में लगाएं खीरा:दो महीने में होगी बम्पर कमाई, पॉली हाउस हैं, तो पूरे साल कर सकते हैं खेत

फरवरी में करें तिल की बुआई, नहीं लगेगा रोग:MP की सबसे बड़ी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी की चीफ साइंटिस्ट से जानें- कैसे यह खेती फायदेमंद

एक कमरे में उगाएं मशरूम:MP की सबसे बड़ी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी देती है ट्रेनिंग, 45 दिन में 3 बार ले सकते हैं उपज

मोदी का सपना पूरा करेगा MP का जवाहर मॉडल!:बोरियों में उगा सकेंगे 29 तरह की फसल-सब्जियां, आइडिया बंजर जमीन के साथ छत पर भी कारगर

अब हार्वेस्टर से काट पाएंगे चना फसल:चने के बीज की नई JG-24 प्रजाति विकसित, अगले साल से आम किसानों को मिलेगा

बायो फर्टिलाइजर से बढ़ाएं पैदावार:प्रदेश की सबसे बड़ी कृषि यूनिवर्सिटी ने कमाल के जैविक खाद बनाए, कम खर्च में 20% तक बढ़ जाएगी पैदावार