• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Farming Can Be Done In Polyhouse Throughout The Year, Up To Rs 400 Per Kg In The Country And Rs 600 Per Kg In Foreign Countries

अनार-सेब से चार गुना महंगा है ये टमाटर:देश में 400 तो विदेश में 600 रुपए किलो बिकते हैं; बारिश में पॉली हाउस के जरिए प्रोडक्शन

मध्यप्रदेश5 महीने पहले

जैविक तरीके से टमाटर की खेती भी सफल हो सकती है। मिक्स वैरायटी के तौर पर उपजा सकते हैं। पैदावार भी भरपूर ली जा सकती है। खासकर चेरी टमाटर की खेती पॉली हाउस में सालभर हो सकती है। जब बारिश में टमाटर नहीं होता, तब भी चेरी टमाटर भरपूर उत्पादन देता है। देश में ये 400 रुपए तो विदेशों में 600 रुपए प्रति किलो तक बिकता है। यानी इसकी कीमत अनार और सेब से चार गुना तक ज्यादा है। एक एकड़ खेत में सालभर में 20 टन चेरी टमाटर उपजा सकते हैं। जैविक तरीके से चेरी टमाटर की खेती कैसे करें? भास्कर खेती-किसानी सीरीज-32 में आइए जानते हैं एक्सपर्ट अंबिका पटेल से…

प्रगतिशील किसान अंबिका पटेल ने बताया, जैविक तरीके से टमाटर उगाने पर चार महीने से रिसर्च की थी। इसमें दो तरह की किस्में ली थीं। छोटा चेरी बेर की तरह दिखने वाला टमाटर और एक हाइब्रिड किस्म। चार महीने के रिसर्च से पता चला कि जैविक तरीके से भी टमाटर की अच्छी फसल ली जा सकती है। हाइब्रिड टमाटर का अच्छा उत्पादन हुआ। चेरी टमाटर बहुत फला। दो महीने से लगातार फल आ रहे थे। अब लास्ट है, पर चेरी टमाटर पॉली हाउस में सालभर बो सकते हैं।

चेरी टमाटर गुच्छों में फलता है।
चेरी टमाटर गुच्छों में फलता है।

विदेशों में चेरी टमाटर की सलाद के तौर पर मांग

विदेशों में चेरी टमाटर की सलाद के तौर पर भारी डिमांड है। देश में भी इसकी काफी मांग है। सामान्य टमाटर अधिकतम 80 रुपए तक बिकता है। जैविक तरीके से उगाए गए टमाटर की कीमत 120 से 250 रुपए है। चेरी टमाटर की कीमत 400 रुपए देश में है। दुबई और अमेरिका में इसकी कीमत 600 रुपए से अधिक है। यहां सप्लाई की जाती है।

अंगूर की तरह होती है पैकिंग

चेरी टमाटर गुच्छे में फलता है। इसकी पैकिंग भी अंगूर की तरह की जाती है। एक्सपोर्ट करने के लिए चेरी टमाटर को थोड़ा कच्चा तोड़ना होता है, जिससे पहुंचने तक वह खराब न हो। एक एकड़ पॉली हाउस में 20 टन का उत्पादन हो सकता है। चेरी टमाटर को पूरे साल भर बोया जा सकता है। बारिश के दिनों में जब टमाटर की आवक नहीं रहती है और काफी डिमांड रहती है। तब भी इसकी उपज ले सकते हैं।

रेतीली व दोमट मिट्‌टी सबसे अच्छी

चेरी टमाटर गहरी रेतीली दोमट मिट्टी पर पीएच स्तर 6-7 में अच्छी उपज मिलती है। चेरी टमाटर के पौधे 19 से 30 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर अच्छी तरह से विकसित होते हैं। गर्मी में कम नमी की लगातार बारिश से बैक्टीरियल विल्ट, ब्लाइट, रोट और फ्रूट क्रैकिंग जैसी बीमारी की समस्या बढ़ जाती है।

चेरी टमाटर के बीज को ट्रे और कोको पिट में उगाएं

चेरी टमाटर का बीज छोटा होता है। इसे ट्रे और कोको पिट में अंकुरित करना चाहिए। अच्छी नर्सरी की स्थिति में अंकुर लें। पर्याप्त नमी के लिए सिंचाई ड्राप विधि से दें।। चेरी टमाटर में बुआई से रोपाई तक 20 से 30 दिन के बीच में कॉलर रूट, रूट रोट जैसी बीमारियां होने का खतरा रहता है।

पॉलीहाउस में सालभर चेरी टमाटर की खेती की जा सकती है।
पॉलीहाउस में सालभर चेरी टमाटर की खेती की जा सकती है।

चेरी टमाटर की नर्सरी 60 सेमी पर करें

चेरी टमाटर के पौधों की रोपाई पांच से छह पत्तियों वाली करनी चाहिए। पौधों की दूरी 60 सेमी और पंक्तियों की दूरी डेढ़ से दो मीटर रखनी चाहिए। रोपाई के तुरंत बाद सिंचाई करनी चाहिए। चेरी टमाटर में नाइट्रोजन और फॉस्फोरस की जरूरत पड़ती है। जैविक तरीके से खेती कर रहे हैं तो सिर्फ वर्मी कम्पोस्ट का प्रयोग करें।

भास्कर खेती-किसानी एक्सपर्ट सीरीज में अगली स्टोरी होगी, औषधीय खेती कर किसान हो सकते हैं मालामाल? खेती किसानी से संबंधित आपका कोई सवाल हो तो वॉट्सऐप नंबर 9406575355 पर मैसेज करें।

खेती से जुड़ी, ये खबरें भी पढ़िए:-

देश की पिंक सिटी में MP के गुलाब की डिमांड:जबलपुर में आधे एकड़ के पॉलीहाउस में गुलाब की पैदावार, रोज 7 से 8 हजार की सप्लाई

मुंबइया जॉब छोड़ शुरू किया स्टार्ट अप, बनाया ब्रांड:पिता करते थे जैविक खेती; बेटे ने उपज की पैकेजिंग कर प्रॉडक्ट बनाया, आज 17 जिलों में सप्लाई

कोराेना काल के सक्सेस स्टार्टअप की कहानी:जबलपुर के इंजीनियर ने बड़े पैकेज की जॉब छोड़ बनाई कंपनी, 2500 कस्टमर्स को घर बैठे 'ताजा' सब्जियाें की डिलिवरी

जबलपुर के स्टूडेंट ने बनाया देश का सबसे बड़ा ड्रोन:30 लीटर केमिकल लेकर उड़ सकता है, 6 मिनट में छिड़क देता है एक एकड़ खेत में खाद

करियर का नया ट्रेंड किसान कंसल्टेंसी:जबलपुर में पिता-पुत्री का स्टार्टअप; किसानों की आमदनी बढ़ाने में मदद की, चार्ज- प्रॉफिट में हिस्सेदारी

टेरिस या छत पर उगाएं ऑर्गेनिक सब्जी:आईटी की नौकरी छोड़ युवक ने ‘केंचुआ ऑर्गेनिक’ नाम से खड़ी की कंपनी, किचन गार्डन-ऑर्गेनिक खेती की देते हैं टिप्स

बैक्टीरिया बनाएंगे पौधों के लिए खाद:MP की सबसे बड़ी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी ने 30 बैक्टीरिया खोजे, सूखे में भी पैदा करेंगे भरपूर फस

फरवरी में लगाएं खीरा:दो महीने में होगी बम्पर कमाई, पॉली हाउस हैं, तो पूरे साल कर सकते हैं खेत

फरवरी में करें तिल की बुआई, नहीं लगेगा रोग:MP की सबसे बड़ी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी की चीफ साइंटिस्ट से जानें- कैसे यह खेती फायदेमंद

एक कमरे में उगाएं मशरूम:MP की सबसे बड़ी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी देती है ट्रेनिंग, 45 दिन में 3 बार ले सकते हैं उपज

मोदी का सपना पूरा करेगा MP का जवाहर मॉडल!:बोरियों में उगा सकेंगे 29 तरह की फसल-सब्जियां, आइडिया बंजर जमीन के साथ छत पर भी कारगर

काली हल्दी उगाइए, मालामाल हो जाइए..:800 से एक हजार रुपए किलो में बिकती है, ट्राइबल बेल्ट के किसानों को सबसे ज्यादा फायदा देगी

एक हजार रु. किलो वाली हल्दी की डिमांड!:किसान जैविक हल्दी उगाकर प्रोसेसिंग के बाद बदल सकते हैं खेती का ट्रेंड, विदेशों में भी है मांग