• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Damohnaka Madan Mahal flyover is one of the most strenuous projects in the country, but now there will be no obstruction, the work will be completed on time

निर्माण कार्य / दमोहनाका-मदन महल फ्लाईओवर देश के सबसे अड़ंगों वाले प्रोजक्ट्स में, पर अब कोई भी रुकावट नहीं आएगी, समय पर पूरा होगा काम

Damohnaka-Madan Mahal flyover is one of the most strenuous projects in the country, but now there will be no obstruction, the work will be completed on time
X
Damohnaka-Madan Mahal flyover is one of the most strenuous projects in the country, but now there will be no obstruction, the work will be completed on time

  • केन्द्रीय परिवहन मंत्री गडकरी ने दैनिक भास्कर के संपादकों से बातचीत में कहा- जबलपुर बन सकता है ऑटोमोबाइल हब

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

जबलपुर. केन्द्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि दमोहनाका- मदन महल फ्लाईओवर में अब कोई रुकावट नहीं आएगी। हाँ, पहले इस फ्लाईओवर के निर्माण में इतने अड़ंगे आए कि यह देश के सर्वाधिक 10-15 अड़ंगों वाले प्रोजेक्ट्स में शामिल हो गया है। श्री गडकरी शनिवार को दैनिक भास्कर के देश भर के संपादकों से वीडियो काॅन्फ्रेन्सिंग के जरिए बातचीत कर रहे थे। करीब डेढ़ घंटे तक चली इस वीसी में जबलपुर से जुड़े कई मुद्दों पर चर्चा हुई। श्री गडकरी फ्लाईओवर से जुड़े प्रश्न पर हँस पड़े और कहा- 'मैंने भूमिपूजन किया था और इस बीच मध्य प्रदेश में सरकार बदल गई।

फ्लाईओवर निर्माण शुरू करने के रास्ते में आए दिन अड़ंगे आने लगे। मैंने तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ से बातचीत की। जबलपुर के सांसद राकेश सिंह भी लगे रहे और अक्सर मुझे फोन करके वास्तविक स्थिति से अवगत कराते रहे। हम एक मुश्किल हल करते, दूसरी आ जाती, पर हमने हार नहीं मानी, निर्माण की स्वीकृति के अलावा आवश्यक राशि भी दिलाई।' उन्होंने कहा कि यह सब को पता है कि मेरे पास पैसों की कोई कमी नहीं रहती। अब इस प्रोजेक्ट को पूरा करने में कोई दिक्कत नहीं होगी, यह समय पर पूर्ण होगा। 
सांसद चाहेंगे तो व्हीएफजे का उन्नयन होगा 
श्री गडकरी ने देश में ऑटोमोबाइल सेक्टर पर चर्चा करते हुए कहा कि जबलपुर में एक जमाने में शानदार ट्रक बना करते थे, तब भी वे सोचते थे कि यहाँ कॉमर्शियल वाहनों का उत्पादन क्यों नहीं होता?  इसी दौरान उन्हें बताया गया कि व्हीकल फैक्ट्री में वाहन निर्माण के तमाम संसाधन उपलब्ध होने के बावजूद उनका उचित दोहन नहीं हो पा रहा है और वहाँ कर्मचारियों की संख्या भी लगातार कम हो रही है।
इस समस्या का निराकरण कैसे होगा? श्री गडकरी ने कहा कि यदि सांसद राकेश सिंह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के सामने जबलपुर की व्हीकल फैक्ट्री के उन्नयन और वहाँ व्यावसायिक वाहनों के निर्माण का प्रस्ताव रखेंगे तो सरकार उस पर निश्चित रूप से सकारात्मक निर्णय ले सकती है। ऐसा प्रस्ताव आने पर उन्होंने न केवल सहयोग करने, बल्कि सरकार से स्वीकृति दिलाने की भी बात कही। हालाँकि पहले उन्होंने तत्काल कह दिया था- मैं इसका मंत्री नहीं हूँ।
तो ऑटोमोबाइल हब बन सकता है जबलपुर| श्री गडकरी ने यह भी कहा कि यदि वाहनों का व्यावसायिक निर्माण शुरू होता है तो अकेले व्हीकल फैक्ट्री 50-60 हजार युवाओं को रोजगार देने में सक्षम होगी। यही नहीं जबलपुर भी गुड़गाँव जैसे ऑटोमोबाइल हब में परिवर्तित हो जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि जबलपुर की सभी निर्माणियाँ अगर जुट जाएँगी तो एक लाख रोजगार पैदा होना आसान काम होगा। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना