राहत की खबर:डिस्चार्ज का आँकड़ा फिर ऊपर की ओर, 741 मिले नए संक्रमित, 975 लोग हुए डिस्चार्ज, कुल संक्रमित 35000 के पार

जबलपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • लॉकडाउन का कुछ सकारात्मक असर अब आने लगा सामने
  • लगातार बढ़ रहे ठीक होने वाले,

जब से दूसरी खेप का कोरोना फैला तब से भयावह स्थिति सामने आ रही थी लेकिन इसमें अब संक्रमण के लिहाज से कुछ सुधार होता भी दिख रहा है। जितने पाॅजिटिव मरीज सामने आ रहे हैं उसके मुकाबले स्वस्थ या डिस्चार्ज होने वालों की संख्या में इजाफा हो रहा है।

माना जाए तो लॉकडाउन से चेन भले ही न टूटी हो, लेकिन कुछ सकारात्मक परिणाम सामने आते दिखते नजर आ रहे हैं। बीते 24 घण्टों के दौरान अस्पतालों से जारी स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार 975 व्यक्ति डिस्चार्ज किए गये, वहीं 741 पीड़ित सामने आये। 7 पीड़ितों की इस दौरान मौत हुई। इस वायरस से जब से शहर में संक्रमण फैला है तब से लेकर अब तक 35 हजार से ज्यादा लोगों को अपनी गिरफ्त में लिया है। एक्सपर्ट का मानना है कि ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि कोरोना अपनी पीक से कुछ नीचे आ सकता है। एक्टिव केस घटे हैं तो स्वस्थ होने की दर भी बेहतर होने की स्थिति में है।

एक घण्टे में मिलेगी ऑक्सीजन - शहर के अस्पतालों में यदि कहीं पर ऑक्सीजन खत्म होती है और इसकी सूचना अस्पताल प्रबंधन देता है तो एक घण्टे के अंदर उसको सिलेण्डर पहुँचाने की व्यवस्था की जाएगी। नोडल अधिकारी ऑक्सीजन एसडीएम अनुराग तिवारी के अनुसार इसके लिए शहर में इमरजेंसी यूनिट बनाई है जो कमी होने पर तुंरत सिलेण्डर अस्पताल तक पहुँचाएगी।

प्रोटोकाॅल से 55 शवों का अंतिम संस्कार

श्मशान घाटों में खौफनाक मंजर के साथ अभी तक 70 और 80 जो प्रोटोकाॅल के तहत अंतिम संस्कार हो रहे थे उनमें बुधवार के दिन कुछ कमी आई है। बुधवार को चिन्हित मुक्तिधामों में 55 अंतिम संस्कार किये गये। शवों का अंतिम संस्कार करने वाले कर्मियों के अनुसार यह कमी अभी उतनी नहीं है लेकिन और दिनों के मुकाबले देखा जाए तो कुछ राहत भरी जरूर है। अस्पतालों के अलावा घरों से लाए गए शवों को कोविड गाइडलाइन के तहत चिन्हित मुक्तिधामों में पंचतत्वों विलीन किया जा रहा है।

2000 डिमाण्ड और मिले 682 रेमडेसिविर

शहर में रेमडेसिविर की किल्लत जो सामने आ रही थी वह अब भी बरकरार है। शहर के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती मरीजों को हर दिन के हिसाब से अभी 2000 इंजेक्शन चाहिए लेकिन अब भी इस अनुपात में यह नहीं मिल पा रहे हैं। बुधवार के दिन 682 इंजेक्शन निजी अस्पतालों को बाँटे गये। हेलीकाॅप्टर से एसडीएम आशीष पाण्डे नागपुर से 48 बाॅक्स लेकर जबलपुर पहुँचे, इनमें से 300 इंजेक्शन विक्टोरिया को मिलेंगे शेष अन्य जिलों को दिये जायेंगे। फिलहाल रेमडेसिविर इंजेक्शन का स्टॉक खाली है और लोग फिर से इसके लिए यहाँ से वहाँ भटकने लगे हैं। प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि जल्द ही नई खेप आयेगी।

खबरें और भी हैं...