पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • District Administration Could Not Stop The Construction Of Illegal Houses, Divisional Commissioner Stirred Up The Demand File, Collectorate!

खसरा नंबर 662 का गड़बड़झाला:अवैध मकानों का निर्माण नहीं रोक पा रहा जिला प्रशासन, संभागायुक्त ने मँगाई फाइल, कलेक्ट्रेट में हड़कंप!

जबलपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
Advertisement
Advertisement

खसरा नंबर 662 में अवैध मकान बनते जा रहे हैं। उन्हें रोकने में प्रशासनिक अधिकारी नाकाम साबित हो रहे हैं।  रजिस्ट्री पर रोक लगाने के लिए खसरे के कॉलम नंबर 12 में जमीन का मद अंकित नहीं कराये जाने की जानकारी संभागायुक्त महेश चन्द्र चौधरी को जागरूक लोगों ने दी तो उन्होंने गड़बड़झाले की पूरी फाइल कलेक्ट्रेट से मँगा ली है। लिहाजा कलेक्ट्रेट में हड़कंप की स्थिति निर्मित हो गई है। जानकारी यह भी लगी है कि अतिशेष शासकीय जमीन में हो रहे अवैध निर्माण को रोकने के भी उचित कदम उठाए जाएँगे। मेडिकल अस्पताल के पीछे तालाब, ग्रीन बेल्ट और अतिशेष शासकीय मद की जमीन पर अवैध मकान धड़ल्ले से बनते जा रहे हैं। गढ़ा पुरवा स्थित खसरे नंबर 662 की जमीन बहुत दिनों से विवादों में फँसी रही। न जाने कब भू-माफियाओं की गिद्ध नजरें इस जमीन पर पड़ गईं और जमीन टुकड़ों में तब्दील होती गई। प्रशासनिक अधिकारियों ने भी जमीन की खरीदी-बिक्री में पूरा सहयोग दिया। नतीजतन तालाब, ग्रीन बेल्ट और शासकीय अतिशेष जमीन पर कांक्रीट का जंगल उगने लगा है।  

इस कारण संभागायुक्त ने फाइल मँगाई
खसरा नंबर 662 की जमीन को खुर्दबुर्द किये जाने की भनक जैसे ही संभागायुक्त को लगी, उन्होंने उक्त जमीन की हकीकत जानने के लिए कलेक्टर से पूरी फाइल मँगाई है। अब देखना यह है कि संभागायुक्त खसरा नंबर 662 के मामले में क्या निर्णय लेते हैं? प्रारंभिक रूप से जो जानकारी लगी है, उसके मुताबिक खसरा नंबर 662 में जिस छोर की जमीन शासकीय अतिशेष है, उस छोर पर मदन महल पहाड़ी के विस्थापितों को बसाया जा सकता है। संभागायुक्त चाहें तो इस जमीन को भू-माफियाओं से मुक्त कराकर उसका सदुपयोग किया जा सकता है।  

नई पोस्टिंग का हवाला देकर बचने की कोशिश में अिधकारी
संभागायुक्त ने 1 जुलाई को कलेक्टर को पत्र लिखा है और खसरा नंबर 662 की जाँच रिपोर्ट सहित पूरी फाइल भेजने के निर्देश दिए हैं। बताया यह जा रहा है कि अभी तक खसरा नंबर 662 की सही तरीके से न तो जाँच हुई है और न ही जाँच रिपोर्ट तैयार कराई गई है। अब जब संभागयुक्त ने जाँच रिपोर्ट सहित पूरी फाइल मँगा ली है तो तहसील कार्यालय में हड़कंप की स्थिति निर्मित हो गई है। तहसीलदार व एसडीएम नई पदस्थापना होने का हवाला देते हुए बचने का प्रयास कर रहे हैं।

कॉलम नं. 12 में दर्ज नहीं हो सका जमीन का मद
खसरा नंबर 662 की जमीन की रजिस्ट्री न हो पाए, इसके लिए खसरे के कॉलम नंबर 12 में जमीन का मद दर्ज किया जाना अति आवश्यक था। लेकिन तहसीलदार, पटवारी-आरआई आज तक खसरा नंबर 662 के कॉलम नंबर 12 में जमीन का मद अंकित नहीं करा सके। जिसके कारण आज भी खसरा नंबर 662 का बटांक करके धड़ल्ले से रजिस्ट्री और नामांतरण हो रहे हैं। 
पूरी फाइल देखकर ही कुछ बता सकते हैं
^खसरा नंबर 662 की जमीन संबंधी फाइल अभी मेरे पास नहीं है। मेरी नियुक्ति अभी हुई है। मैं पूरी फाइल पढ़ लेता हूँ। उसके बाद ही कुछ बता पाऊँगा।
अनूप कुमार श्रीवास्तव
 तहसीलदार गोरखपुर
मैंने आदेशित 
कर दिया था
^जब मैं गोरखपुर एसडीएम था, उस दौरान खसरा नंबर 662 के प्रत्येक खसरे में जमीन का मद कॉलम नंबर 12 में अंकित करने के लिए आदेशित कर दिया था। उसके बाद मेरा ट्रांसफर हो गया और मैं उसे देख नहीं पाया। आप नए अधिकारी से मिलकर वास्तविकता से अवगत हो सकते हैं।
अशीष पाण्डे, एसडीएम पाटन

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर कोई विवादित भूमि संबंधी परेशानी चल रही है, तो आज किसी की मध्यस्थता द्वारा हल मिलने की पूरी संभावना है। अपने व्यवहार को सकारात्मक व सहयोगात्मक बनाकर रखें। परिवार व समाज में आपकी मान प्रतिष...

और पढ़ें

Advertisement