• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • During The Four day Vaccination, 9637 Health Workers Were Sent A Message And Invited 6553 People For Vaccination.

68 % ने ही लगवाया दूसरा डोज:चार दिन के वैक्सीनेशन में 9637 हेल्थ कर्मियों को मैसेज देकर वैक्सीनेशन के लिए बुलाया, 6553 लोग ही पहुंचे

जबलपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वैक्सीनेशन के दौरान दूसरा डोज लगवाते हेल्थ कर्मी। - Dainik Bhaskar
वैक्सीनेशन के दौरान दूसरा डोज लगवाते हेल्थ कर्मी।
  • छह मार्च तक मिलेगा मौका, एक मार्च से बुजुर्गों को लगना है टीका
  • दूसरा डोज लगवाने के 14 दिन बाद ही शरीर में तैयार होगा एंटीबॉडी

जिले में कोरोना से बचाव के लिए हेल्थ कर्मियों को टीके का दूसरा डोज लग रहा है। दूसरा डोज लगने के 14 दिन बाद ही शरीर में कोरोना से बचाव का एंटीबॉडी तैयार होगा। इसके बावजूद वैक्सीनेशन सेंटर में अब तक 68 % ही हेल्थ कर्मी दूसरा डोज लगवाने पहुंचे। छह मार्च तक दूसरा डोज लगवाने का मौका मिलेगा। इसके अलावा पहले और दूसरे चरण में वैक्सीनेशन से छूट गए फ्रंट लाइन वकर्स को भी टीके का पहला डोज लगाया जा रहा है।

जानकारी के अनुसार जिले में 22 फरवरी से टीके का दूसरा डोज लगना शुरू हुआ था। अब तक चार दिन का वैक्सीनेशन हो चुका है। पहला डोज लगवा चुके हेल्थ कर्मियों को दूसरे डोज के लिए बुलाया जा रहा है। अब तक 9637 लोगों को बुलाया गया। पर वैक्सीनेशन सेंटर पर 6553 लोग ही पहुंचे।
इस तरह चार दिन हुआ वैक्सीनेशन

  • 22 फरवरी को कुल 26 सेशन में कुल 3347 हेल्थ कर्मियों में 2063 ही वैक्सीन लगवाने पहुंचे
  • सात सेंटर्स पर 300 कर्मियों को पहले डोज के लिए बुलाया गया। इसकी तुलना में 390 को लोगों को डोज लगा
  • 24 फरवरी को कुल 32 सेशन में कुल 2213 कर्मियों में 1811 ने ही वैक्सीन लगवाया।
  • 12 सेंटर्स पर 200 कर्मियों को पहले डोज के लिए बुलाया गया। इसकी तुलना में 267 को टीका लगा।
  • 25 फरवरी को कुल 63 सेशन में 4077 हेल्थ कर्मियों में 2679 ने ही वैक्सीन लगवाया।
  • 13 सेंटर्स पर 267 कर्मियों को पहले डोज के लिए बुलाया गया। इसकी तुलना में 184 लोगों ने वैक्सीन लगवाई।

ये आ रही व्यवहारिक परेशानी
पहले चरण में कई हेल्थ कर्मियों को बिना ऑनलाइन प्रक्रिया पूरी किए ही वैक्सीन लगा दी गई थी। ऑफलाइन का रिकॉर्ड न चढ़ पाने की वजह से ऐसे कर्मियों के लिए दूसरे डोज का मैसेज ही जनरेट नहीं हो पाया। वैक्सीनेशन में कमी की ये भी एक बड़ी वजह है। पहले चरण में 17 हजार 500 के लगभग हेल्थ कर्मियों को वैक्सीन का पहला डोज लगा था। इतने ही लोगों को दूसरा डोज भी लगना है। चार दिन के वैक्सीनेशन में 68 % हेल्थ कर्मी ही पहुंचे।
इस तरह प्लान किया गया है दूसरे डोज का वैक्सीनेशन

  • 22 फरवरी को- 16, 18, 20, 21 व 25 जनवरी को टीके का पहला डोज लगवाने वाले स्वास्थ्य कर्मी।
  • 24 फरवरी को- 27 जनवरी को टीके का पहला डोज लगवाने वाले स्वास्थ्य कर्मी
  • 25 फरवरी को- 28 जनवरी को टीके का पहला डोज लगवाने वाले स्वास्थ्य कर्मी
  • 01 मार्च को- 29 जनवरी को टीके का पहला डोज लगवाने वाले स्वास्थ्य कर्मी
  • 03 मार्च को - 30 जनवरी को टीके का पहला डोज लगवाने वाले स्वास्थ्य कर्मी
  • 04 मार्च को - 3 व 4 फरवरी को टीके का पहला डोज लगवाने वाले स्वास्थ्य कर्मी
  • 06 मार्च को - 5 फरवरी को टीके का पहला डोज लगवाने वाले और दूसरा डोज लगाने से छूट गए स्वास्थ्य कर्मी।

आज तीन सेंटर्स बनाए गए
जिला टीकाकरण अधिकारी शत्रुघन दाहिया के मुताबिक आज मेडिकल, जिला अस्पताल विक्टोरिया और मनमोहन नगर में दूसरे डोज के लिए छूट गए 3084 लोगों को फिर बुलाया गया है।
कोविन पोर्टल-2 पर आम लोग करा पाएंगे रजिस्ट्रेशन
50 वर्ष और इससे अधिक की उम्र वाले और गंभीर बीमारी से पीड़ित लोगों को वैक्सीनेशन के लिए खुद रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इसके लिए सभी को अपने मोबाइल पर कोविन पोर्टल-2 एप डाउनलोड करना होगा। इसमें खुद अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके बाद उसे सरकारी और प्राइवेट अस्पताल का विकल्प चुनना होगा। सरकारी अस्पताल में नि:शुल्क टीका लगेगा। वहीं निजी अस्पताल में आयुष्मान कार्ड से पैसे कटेंगे। जिसके पास आयुष्मान कार्ड नहीं होगा। उसके लिए नकद पैसे लेने के विकल्प पर निर्णय होना है।

खबरें और भी हैं...