ईसाई धर्मगुरु 4 दिन की पुलिस रिमांड पर:जबलपुर EOW ने बिशप को नागपुर से पकड़ा; 10 FD, 174 बैंक खातों की बात कबूली

जबलपुर4 महीने पहले

जबलपुर EOW ने बिशप पीसी सिंह को नागपुर एयरपोर्ट से सोमवार को गिरफ्तार कर लिया। टीम ने उसे CISF की मदद से पकड़ा है। EOW की टीम बिशप को जबलपुर लेकर आई। यहां उन्हें विशेष कोर्ट में पेश किया गया है। टीम ने कोर्ट से बिशप की रिमांड मांगी थी। कोर्ट ने बिशप को चार दिन की पुलिस रिमांड पर सौंपा है।

प्रारंभिक पूछताछ में बिशप ने EOW को कई अहम जानकारी दी है। अभी तक 10 एफडी में 2 करोड़ दो 2 लाख 95 हजार 190 रुपए की जानकारी मिली है। इसके साथ ही अलग-अलग बैंकों में 174 खाते मिले हैं, इसमें से 128 बैंक खाते सिंह और उसके परिवारवालों के नाम हैं, जबकि 46 खाते शैक्षणिक संस्थाओं के होना पाए गए हैं। सिंह पर देशभर में 99 केस भी दर्ज हैं।

EOW ने बिशप को जबलपुर लाकर विशेष कोर्ट में पेश किया।
EOW ने बिशप को जबलपुर लाकर विशेष कोर्ट में पेश किया।

जबलपुर EOW SP देवेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि बिशप को नागपुर एयरपोर्ट पर अभिरक्षा में लिया गया। बिशप के हर मूवमेंट पर हमारी नजर थी। हमें जानकारी मिली थी कि वह नई दिल्ली-बेंगलुरु होते हुए नागपुर आ रहा है। उसे जबलपुर में विशेष कोर्ट में पेश किया गया है।

जबलपुर में 8 सितंबर को EOW ने बिशप पीसी सिंह के घर छापा मारा था। तब उनका बेटा पीयूष (लाल घेरे में) घर पर मिला था।
जबलपुर में 8 सितंबर को EOW ने बिशप पीसी सिंह के घर छापा मारा था। तब उनका बेटा पीयूष (लाल घेरे में) घर पर मिला था।

बंदूकधारी साथ चलते थे
बिशप पीसी सिंह उर्फ प्रेमचंद सिंह अपने आप को किसी VIP से कम नहीं समझता है। उसने अपनी सुरक्षा के लिए गनमैन तैनात कर रखे हैं। टीम में आठ से 10 गनमैन रहते हैं। बंगले में भी बंदूकधारी जवान रहते हैं। मामला इतना बड़ा था कि जबलपुर SP देवेंद्र सिंह को सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल भी बुलवा लिया था।

मूलत: बिहार का रहने वाला
बिशप मूलतः बिहार का रहने वाला है। 1986 में सिंह ने डायोकेसन कार्यकर्ता के रूप में काम शुरू किया था। 1988 को क्राईस्ट चर्च केथेड्रल जबलपुर में डीकन के रूप नियुक्त हुए। इसके बाद 1990 में सेंट आग्स्तीन चर्च बिलासपुर में एक प्रेस्बिटर के रूप में नियुक्त हुए। 1995 से 1999 तक चेस्ट चर्च आफॅ क्राइस्ट, सीएनआई जबलपुर का प्रेस्बिटर प्रभारी बने। 25 अप्रैल 2004 को सीएनआई जबलपुर का बिशप बनाया गया।

EOW ने बिशप पीसी सिंह के घर से 1.65 करोड़ नकद जब्त किए थे। इस दौरान विदेशी मुद्रा भी जब्त की गई थी। तब उनका बेटा पीयूष (लाल घेरे में) घर पर मिला था।
EOW ने बिशप पीसी सिंह के घर से 1.65 करोड़ नकद जब्त किए थे। इस दौरान विदेशी मुद्रा भी जब्त की गई थी। तब उनका बेटा पीयूष (लाल घेरे में) घर पर मिला था।

सबसे ज्यादा यूपी के केस दर्ज
बिशप के खिलाफ अमानत में खयानत के 99 मामले देश के अलग-अलग राज्यों में दर्ज हैं। सबसे ज्यादा 42 उत्तर प्रदेश में मामले दर्ज है, जबकि राजस्थान में 24, महाराष्ट्र में 11, पंजाब में 6, एमपी में 4, छत्तीसगढ़ में तीन, दिल्ली में 3, झारखंड के 3 मामले शामिल हैं।

8 तारीख को जब टीम बिशप के घर पहुंची तो पता चला, वो जर्मनी में हैं।
8 तारीख को जब टीम बिशप के घर पहुंची तो पता चला, वो जर्मनी में हैं।

1 करोड़ 60 लाख रुपए मिले थे नकद
जबलपुर में 8 सितंबर को EOW ने बिशप पीसी सिंह के घर छापा मारा था। ट्रस्ट संस्थाओं की लीज रिन्युअल में धोखाधड़ी, 7 करोड़ से अधिक का टैक्स न चुकाने के मामले सामने आए। पीसी सिंह ने स्कूल से आए बच्चों की फीस के ढाई करोड़ से ज्यादा रुपए धार्मिक संस्था और खुद पर खर्च कर दिए। छापे में 17 संपत्तियों से संबंधित दस्तावेज, 48 बैंक खाते, 1 करोड़ 65 लाख से अधिक नकद, 18 हजार 352 यूएस डॉलर, 118 पाउंड समेत 8 फोर व्हीलर गाड़ियां बरामद हुईं। EOW ने 1.65 करोड़ रुपए कैश पकड़ा; 18 हजार डॉलर भी मिले

खबरें और भी हैं...