• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Eyewitnesses Spoke; Was Reading The Newspaper; There Was A Sound Of Shouting… Save Us, We Ran But The Mother And Daughter Were Burnt

धुआं इतना कि कोई नहीं दिखा...:चश्मदीद बोले- चिल्लाने की आवाज आई ...बचा लो, दौड़े लेकिन मां-बेटी जल चुके थे

जबलपुर15 दिन पहले

तारीख: 24 जनवरी 2023

समय: करीब 10 बजे

स्थान: गली नंबर 7, मक्का नगर

जबलपुर के मक्का नगर में गद्दे के कारखाने में हुई मां-बेटी की मौत के बाद मोहल्ले के लोग अभी भी सदमे में हैं। किसी ने उम्मीद नहीं की थी कि मोहल्ले में इस प्रकार का हादसा होगा। मौके पर जब दैनिक भास्कर की टीम पहुंची, तो मोहल्ले में चीख-पुकार मची हुई थी।

आखिर घटना कैसे हुई? कारखाने के सामने रहने वाली प्रत्यक्षदर्शी नजमा ने दैनिक भास्कर से बताया.....

संकरी गली में धुआं इतना की कोई दिखाई नहीं दे रहा था। मोहल्ले में भगदड़ मच चुकी थी। सिर्फ चिल्लाने की आवाज आ रही थी। बचा लो बचा लो... कोई मदद करो... लेकिन पूरा मोहल्ला बेबस था। क्योंकि आग पहली मंजिल पर लगी थी.. न कोई रास्ता था... किसी को कुछ समझ नहीं आ रहा था। सभी फायर ब्रिगेड का इंतजार कर रहे थे.... लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। मां और 5 वर्षीय बेटी आग की चपेट मे आ चुके थे। सुबह का समय था। मैं अखबार पढ़ रही थी। इसके पहले कुछ समझ पाते की पूरी गली में धुआं ही धुआं छा गया।

जैसे जैसे लोगों को पता चला कि मोहल्ले की गद्दे के कारखाने में आग लग गई है। वैसे ही मोहल्ले में आग की तरह धुआं फैल गया। सभी मोहल्ले के लोग आग बुझाने की कोशिश में जुट गए। लेकिन आग नहीं बुझा पाए हालांकि फायर ब्रिगेडको इसकी सूचना दी गई लेकिन 1 घंटे के बाद फायर ब्रिगेड और पुलिस मौके पर पहुंची। कारखाने में आग लगने के दौरान मां ने चिल्लाया था। 5 वर्षीय बेटी अक्सर मां के साथ आया करती थी। कभी-कभी कारखाने के नीचे पड़ोस में भी आती रही और चॉकलेट खाती थी... मां ऊपर काम करती थी बेटी नीचे खेला करती थी।

लेकिन अफसोस हम किसी भी प्रकार की मदद नहीं कर पाए। मां बेटी दोनों ही जिंदा जल गए। फायर ब्रिगेड ने काफी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। लेकिन सभी को जिस बात का डर था वही हुआ। मां-बेटी आग की चपेट में आ गए थे और दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। घटना के दौरान धुआं इतना था कि सांस लेने में भी दिक्कत जा रही थी।

5 वर्षीय बेटी खेल रही थी...

जबलपुर में मां और 5 साल की बेटी जिंदा जल गईं। आग रजाई गद्दा बनाने के कारखाने में लगी। मां अपने काम में लगी हुई थी, बेटी पास ही खेल रही थी। इतने में दो मंजिला इमारत में बने कारखाने को लपटों ने घेर लिया। रजाई गद्दे धू-धू कर जले। मां अपनी बच्ची को लेकर भाग पाती, धुएं के कारण दम घुटने से वहीं बेहोश हो गईं। मौके पर ही दोनों ने दम तोड़ दिया।

शॉर्ट सर्किट बनी वजह!

पुलिस का कहना है कि घटना के समय मां-बेटी ही कारखाने में थीं। शुरुआती जांच में शॉर्ट सर्किट से आग लगने की वजह सामने आई है। फायर ब्रिगेड की टीम ने आग पर काबू पाया। जिला प्रशासन ने मृतक के परिवार को 4-4 लाख रुपए की मदद देने की घोषणा की है। घटना शहर के मक्का नगर इलाके की है।