• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Hopefully! The Police Would Have Acted On Abhilasha's Note On September 24, The Family Members Reached The SP Office And Submitted A Memorandum, Demanding To Increase The Section

11वीं के स्टूडेंट सुसाइड मामले में नया खुलासा:काश! पुलिस ने 24 सितंबर को अभिलाषा के नोट पर कार्रवाई की होती, परिजनों ने SP कार्यालय पहुंच कर सौंपा ज्ञापन, धारा बढ़ाने की मांग

जबलपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रभारी एसपी राेहित काशवानी को ज्ञापन देते परिजन और कांग्रेसी। - Dainik Bhaskar
प्रभारी एसपी राेहित काशवानी को ज्ञापन देते परिजन और कांग्रेसी।

शोहदों से तंग आकर मस्ताना चौक निवासी अभिलाषा जैन (16) ने 07 दिसंबर को स्वयं को आग के हवाले कर दिया। जिसके चलते देर रात उसकी मौत हो गई। इस मामले में शुक्रवार को परिजन कांग्रेस नेताओं के साथ एसपी कार्यालय पहुंचे। प्रभारी एसपी रोहित काशवानी को ज्ञापन सौंपकर बताया कि 24 सितंबर को नोट छोड़कर सुसाइड करने निकली अभिलाषा के मामले में पुलिस ने कार्रवाई की होती तो वह बच सकती थी।

दरअसल अभिलाषा जैन को मुख्य आरोपी ने स्कूल से आते समय रास्ते में रोका था। अभिलाषा के बताने पर पिता मुकेश जैन किराए से रहने वाले मुख्य आरोपी के घर गए तो वहां विवाद हो गया। बाद में मुख्य आरोपी ने मुकेश जैन के खिलाफ घर में घुसकर मारपीट, धमकाने व एससी-एसटी का प्रकरण दर्ज करा दिया। उसी रात अभिलाषा घर में एक नोट छोड़कर निकली थी।

उस नोट में उसने मुख्य आरोपी द्वारा परेशान करने, धमकाने, मारपीट करने और ब्लैकमेल करने की बात कही है। आरोपी ने कई बार छात्रा के साथ मारपीट की थी। उस नोट में अभिलाषा ने इसका जिक्र करते हुए लिखा है कि उसके शरीर पर मारपीट के निशान इस बात के सबूत हैं।

24 सितंबर को अभिलाषा ने ये नोट लिखा था।
24 सितंबर को अभिलाषा ने ये नोट लिखा था।

24 सितंबर के नोट में अभिलाषा ने ये लिखा था

पापा जी मैं आत्महत्या करने जा रही हूं। क्योंकि अनुराग चौधरी पुरानी बस्ती में रहत है। क्योंकि जब मैं घर से बाहर निकलती अथवा स्कूल जाती हूं तो वो मेरा पीछा करता और मेरे नाम से सोशल नेटवर्क पर फर्जी आईडी चला रहा है। उसकी मां मुझ से धमकी दे के 5 हजार रुपए लेती है। अनुराग मारपीट करके मेरे साथ फोटो खींचता है। बोलता था कि अगर तुम ने मेरे साथ शादी नहीं की तो तेरे पापा के बीच रोड में मार डालेंगे।

मेरी मां नहीं हैं। आए दिन मेरे पापा के ना रहने पर घर आता और अपना हाथ काटता था और हीट खाकर कर मरने की धमकी देता था। और उसकी मां भी मुझे रोज फोन करके धमकी देती थी। पत नहीं उस को मेरा नंबर कहां से मिला। यदि में उसका फोन नहीं उठाती तो अलग नंबर से फोन करता था। समाज में अपने पापा की इज्जत को देखते हुए मैं अभिलाषा जैन उम्र 16 साल आत्महत्या करने जा रही हू। कृपया पापा आप मुझे ढूंढ़ने की कोशिश न करें। अनुराग ने मुझे मारा भी है। मेरे शरीर में इसके निशान हैं।

एसपी कार्यालय पहुंचे परिजनों ने सौंपा ज्ञापन।
एसपी कार्यालय पहुंचे परिजनों ने सौंपा ज्ञापन।

रांझी पुलिस ने अभिलाषा के नोट पर कार्रवाई नहीं की थी

परिजनों ने प्रभारी एसपी रोहित काशवानी को बताया कि रांझी पुलिस ने 24 सितंबर के नोट पर कार्रवाई की होती तो अभिलाषा को बचाया जा सकता था। रांझी पुलिस को ये नोट दिया गया था। इससे पहले 11 अगस्त को अभिलाषा ने थाने में एक शिकायत कर उसके नाम से सोशल साइट्स पर फर्जी आईडी बनाने की शिकायत की थी। उस फर्जी आईडी के आधार पर उसे ब्लैकमेल किया जा रहा था। तब भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। उस समय पुलिस ने ठोस कार्रवाई की होती तो शायद बात इतनी आगे ही नहीं बढ़ती।

06 दिसंबर को तीन घंटे तक थाने में अभिलाषा बैठी रही

बड़े पिता एवं जबलपुर जिला शहर कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता निर्मलचंद जैन ने ज्ञापन के माध्यम से बताया कि 06 दिसंबर को दोपहर दो बजे अनुराग और वरुण खन्ना धमकाने अभिलाषा जैन के घर पहुंचे थे। दोनों ने धमकी देते हुए बोला था कि आज तेरा और तेरे पापा का अंतिम दिन है। अभिलाषा इसकी शिकायत करने बहनों के साथ रांझी थाने गई थी।

थाने में धमकाने पहुंच गया था आरोपी

आरोपी इतने मनबढ़ थे कि वे थाने में ही पहुंच कर शिकायत वापस करने को धमकाने लगी। जब अभिलाषा ने पुलिस कर्मियों को उसके बारे में बताया तो वह भाग निकला। तीन घंटे तक वह थाने में शिकायत दर्ज कराने के लिए बैठी रही। एसआई महिला रघुवंशी आई तो उल्टे अभिलाषा को भला-बुरा बोला। इसके बाद टूट चुकी अभिलाषा ने घर आकर अगले दिन अग्निदाह कर लिया।

रांझी थाने का पूरा स्टाफ बदला जाए

परिवार और कांग्रेस पदाधिकारियों ने रांझी थाने में पदस्थ सभी स्टाफ को बदलने की मांग की है। आरोप लगाया कि पुलिस की निष्क्रियता और ढुलमुल नीति के तहत आए दिन वहां बड़ी घटना हो रही है। मनचले लड़कों का हौसला बढ़ता जा रहा है। बच्चियों का घर से निकलना दुभर हो गया है। पीड़ित परिवार को न्याय मिलना चाहिए और आरोपियों पर बालिगों की तरह केस चलाकर कार्रवाई की जाए।

ये खबरें भी देखें-

आत्मदाह करने वाली छात्रा मामले में खुलासा:11वीं की स्टूडेंट को चाकू अड़ाकर आरोपियों ने फोटो खींचा था, ब्लैकमेल कर वसूल रहे थे पैसे

आत्मदाह करने वाली छात्रा के पिता का दर्द:बेटी कहती थी- मैं डॉक्टर बनूंगी, गोद में तड़पती रही मेरी लाडो; दरिंदों को फांसी चढ़वा दो

दोस्ती+दुश्मनी+ब्लैकमेलिंग= सुसाइड:जबलपुर में 11वीं की स्टूडेंट ने आग लगाकर दी जान, सुसाइड नोट में लिखा- मेरी शिकायत पुलिस ने नहीं सुनी

धमकी-ब्लैकमेलिंग से तंग छात्रा ने खुद को आग लगाई, मौत:जबलपुर में 11वीं की स्टूडेंट ने नोट में लिखा- लड़कों ने जिंदगी बर्बाद की, 5 गिरफ्तार

खबरें और भी हैं...