पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इमरजेंसी मोबाइल यूनिट से तत्काल पहुँचाए सिलेंडर:अस्पताल के मैनेजमेंट सिस्टम में आई खराबी, हुई ऑक्सीजन की कमी

जबलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहर में हर दिन ऑक्सीजन के टैंकर पहुँच रहे हैं जिससे अब प्लांट से भी भरपूर उत्पादन हो रहा है। सिलेंडर की भी कमी नहीं है इसके बाद भी शुक्रवार की सुबह मदन महल क्षेत्र में स्थित स्मार्ट सिटी अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से हड़कंप मच गया।

आनन-फानन में यातायात थाने में खड़ी इमरजेंसी मोबाइल यूनिट काे रवाना किया गया और अस्पताल में 10 मिनट में सिलेंडर पहुँचाये गये। एसएलआर ललित ग्वालवंशी ने बताया कि जब अस्पताल प्रबंधन से बात की गई तो बताया कि उनका वाहन सिलेंडर लेने रिछाई गया है।

उन्होंने बताया कि अस्पताल का मैनेजमेंट सिस्टम गड़बड़ाने से यह समस्या आई थी। इस मामले में मरीजों के परिजनों ने बताया कि यहाँ ऑक्सीजन को लेकर कई दिनों से समस्या बनी हुई है कुछ लोग ऑक्सीजन सिलेंडर भेज रहे हैं तब कहीं जाकर यहाँ ऑक्सीजन मिल रही है।

अब संस्था का भी कहना है कि वे सिलेंडर नहीं पहुँचा सकते। इस पर अस्पताल प्रबंधन काे हिदायत दी गई है कि शिकायत नहीं मिलनी चाहिये नहीं तो कार्यवाही की जायेगी। हालाँकि कुछ देर बाद ही अस्पताल का वाहन सिलेंडर लेकर पहुँच गया। वाहन के पहुँचते ही जो 7 सिलेंडर इमरजेंसी मोबाइल यूनिट से दिये गये थे वे सिलेंडर वापस लिये गये।
दुकान में रखे मिले आधा दर्जन सिलेण्डर
प्रतिनिधि, जबलपुर। देश के अन्य इलाकों की तरह ही अब शहर में भी ऑक्सीजन सिलेण्डरों की कालाबाजारी होते दिख रही है। ऐसा ही कुछ शुक्रवार को उस समय सामने आया जब नागरथ चौक स्थित एक दुकान में जिला प्रशासन एवं पुलिस की संयुक्त टीम ने दबिश दी तो महँगे दामों पर विक्रय के लिए यहाँ आधा दर्जन से ज्यादा सिलेण्डर रखे मिले।

इस संबंध में पुलिस ने बताया कि अरविंद एजेंसी नामक दुकान में सिलेण्डर रखे होने की सूचना मिलने पर जब यह टीम यहाँ पहुँची तब दुकान संचालक द्वारा इन सिलेण्डरों के वैध होने संबंधी दुहाई भी दी गई लेकिन कोरोना काल में केवल 5 पंजीकृत डिस्ट्रीब्यूटर होने के बावजूद इस तरह से िसलेण्डर रखे जाने को उचित नहीं माना गया और पुलिस ने दुकान को सील करते हुए सिलेण्डर भी जब्त कर लिए।

खबरें और भी हैं...