पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • In 10 Years The City Will Become Like Dust And Smoke In The City, Neither The Air Will Be Pure Nor The Drinking Water Will Remain Clean.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चिंता की बात:धूल-धुएँ से 10 सालों में दिल्ली जैसे हो जाएँगे शहर के हालात, न हवा शुद्ध होगी न पीने का पानी स्वच्छ रह पाएगा

जबलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • न चेते तो हालात हो जाएँगे बद से बदतर, कोराेना खत्म होने के बाद भी मास्क पहनने की होगी आवश्यकता
  • कंडम वाहनों, डेयरियों, पराली जलाने वालों पर सख्ती जरूरी,10 क्विंटल गोबर रोजाना नदियों में बह रहा

शहर की फिजा धीरे-धीरे खराब हो रही है। गुरुवार को एक्यूआई 312 रहा, कारण शहर में धूल और धुएँ का गुबार अधिक होना है, जिससे लोगों का सड़कों पर चलना मुहाल हो जाता है। खासकर ठंड के मौसम में। इसकी वजह शहर में कंडम हो चुके वाहनों का दौड़ना है। वो दिन दूर नहीं जब शहर का भी हाल राजधानी दिल्ली की भाँति हो जाएगा। कोराेना खत्म होने के बाद भी लोगों को घरों के बाहर निकलने से पहले मास्क पहनने की आवश्यकता होगी।

इसके अलावा परियट व गौर की डेयरियों से निकला तकरीबन 10 क्विंटल गोबर रोजाना नदियों में बहाया जा रहा है। परियट की डेयरियों में हजारों मवेशी हैं, जिनसे रोजाना 6 से 7 क्विटंल गोबर निकलता है। इसके अलावा जानवरों का मूत्र व अन्य रसायन भी परियट का हिस्सा बन रहे हैं जिससे परियट का पानी एकदम काला जहरीला सा हो गया है। यही गंदा पानी आगे जाकर माँ नर्मदा में मिलता है। इसी तरह गौर के आसपास मौजूद डेयरियों से भी तकरीबन 3 क्विंटल गोबर रोजाना बहाया जा रहा है। यदि ऐसे ही हालात रहे तो माँ नर्मदा का जल हद दर्जे का प्रदूषित हो जाएगा, जो पीने योग्य ही नहीं बचेगा।

कंडम वाहनों की भरमार
शहर में 15 साल पुराने कंडम वाहनों की भरमार है। इसमें कॉन्ट्रेक्ट कैरेज (शहरी क्षेत्र के वाहन) की बसें, नगर वाहन सेवा की मिनी बसें, मेट्रो बसें, स्कूल-कॉलेज की बसें, टैक्सी, लोडिंग ऑटो, मैजिक, ट्रक, कारें, दोपहिया वाहन शामिल हैं, जो शहर के वातावरण को जमकर प्रदूषित कर रहे हैं।

पब्लिक ट्रांसपोर्ट छोड़ रहा धुआँ
यदि शहर के पब्लिक ट्रांसपोर्ट की बात की जाए तो इसमें शामिल अहम साधन ऑटो व मेट्रो ही धुआँ छोड़ते हैं। खासकर मेट्रो बसों से निकलने वाले धुएँ का गुबार कई मीटर तक चलती बसों से निकलता दिखाई देता है तो शहर में डीजल ऑटो के संचालन पर हाईकोर्ट ने रोक लगाई है, उसके बावजूद ऑटो का अवैध परिवहन शहर में धड़ल्ले से हो रहा है। कुल मिलाकर वातावरण का कबाड़ा किया जा रहा है।

दिल्ली में प्रतिबंधित वाहन यहाँ बिक रहे सस्ते
शहर में पुरानी कारों का बाजार नई की अपेक्षा ज्यादा फल-फूल रहा है। खासकर दिल्ली में प्रतिबंधित डीजल वाहन यहाँ सस्ती कीमत में मिल जाते हैं। कम दूरी तक चले इन वाहनों को खरीदना लोगों को ज्यादा बेहतर लगता है। भले ही इससे शहर की आबोहवा प्रदूषित क्यों न हो रही हो। आने वाले समय में वाहनों से निकले धुएँ से होने वाले प्रदूषण की वजह से लोगों का साँस लेना मुश्किल होगा, खासकर तेज ठंड पड़ने पर बुजुर्गों और बच्चों के बुरे हाल होने तय हैं।पी-4

कटनी से भी आ रहा प्रदूषण
कटनी जिले का एक्यूआई अधिकांश 3 सौ के पार ही रहता है। गुरुवार को कटनी का एक्यूआई 320 रहा। वहाँ बढ़ रहे प्रदूषण का असर भी शहर में देखने को मिलता है। कटनी में प्रदूषण बढ़ने की मुख्य वजह कचरा जलाना, पराली जलाना है।

ऐसे हैं डेयरियों के हालात

प्रदूषण के ये भी मुख्य कारण

  • मप्र पीसीबी कई बार डेयरियों को ईटीपी (एफ्लू एंट ट्रीटमेंट प्लांट) लगाने के निर्देश दे चुका है।
  • केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड डेयरियों को बंद करने के नोटिस जारी कर चुका है।
  • सख्ती न बरतने से डेयरी संचालकों के हौसले बुलंद हैं।
  • हर बार परियट का पानी डी ग्रेड ही रिजल्ट देता है।
  • प्रशासन की मनाही के बाद भी ग्रामीण क्षेत्रों में धड़ल्ले से पराली जलाना।
  • वाहनों के वर्कशॉप से निकला गंदा पानी बिना ट्रीटमेंट के नालियों में बहाना।
  • जला हुआ तेल जमीन में फेंक देना जिससे भूमिगत जल दूषित हाे रहा है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई लाभदायक यात्रा संपन्न हो सकती है। अत्यधिक व्यस्तता के कारण घर पर तो समय व्यतीत नहीं कर पाएंगे, परंतु अपने बहुत से महत्वपूर्ण काम निपटाने में सफल होंगे। कोई भूमि संबंधी लाभ भी होने के य...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser