पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • In Every Cremation, There Is A Request To Fast The Bone After The Funeral, Respect For The Feelings Of Family Members, There Is A Lockers Facility To Keep The Bones In All The Crematoriums

समस्या:हर श्मशान में अंत्येष्टि के बाद अस्थि संचय जल्द करने का अनुरोध, परिजनों की भावनाओं का भी सम्मान, सभी श्मशानों में अस्थियाँ रखने के लिए है लॉकर्स सुविधा

जबलपुर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रानीताल मुक्तिधाम में अंत्येष्टि स्थल भरे, प्लेटफार्म से नीचे करना पड़ रहा अंतिम संस्कार।
  • अस्थियाँ लेने 3 से 5 दिनों में पहुँच रहे परिजन, लोगों का कहना है कि संस्कार के लिए बुकिंग करनी पड़ रही

शहर में कोरोना के कारण मृत्यु दर बढ़ जाने से वर्तमान समय में शहर के ग्वारीघाट, रानीताल, करिया पाथर, हाथीताल श्मशानों में आम दिनों के मुकाबले औसत से बहुत ज्यादा शव आ रहे हैं। इसके कारण दाह संस्कार करने में प्लेटफॉर्म की कमी हो गई है। लोगों का कहना है कि कुछ श्मशानों में तो दाह संस्कार के लिए पहले से समय लेना पड़ रहा है। वहीं श्मशानों की देखभाल करने वाले कह रहे हैं कि दाह संस्कार के बाद खारी उठाने में तीन से पाँच दिन लग रहे हैं इसलिए प्लेटफॉर्म जल्दी खाली नहीं हो रहे हैं जिससे वर्तमान समय में समस्या हो रही है।

परिवार वालों की भावनाओं का सम्मान करते हुए उनसे खारी को उसी दिन उठा लेने की अपील की जा रही है ताकि प्लेटफॉर्म की समस्या न हो। हालाँकि सभी श्मशानों में लॉकर्स की सुविधा है जिनमें परिवार वाले अस्थियों को रखकर विधि विधान से आगे के संस्कार कर सकते हैं।

एक दर्द ऐसा भी - अलग-अलग मुक्ति के धाम लेकिन तस्वीरें एक जैसी
रानीताल श्मशान } में 12 प्लेटफॉर्म बने हुए हैं। श्मशान की देखरेख करने वाले मनीष तिवारी ने बताया कि आम दिनों में यहाँ पर 4 से 5 शव आते हैं लेकिन अभी 8 से 10 या इससे अधिक शव आ रहे हैं। परिवार वालों द्वारा दाह संस्कार के बाद 3 से 5 दिनों में अस्थियों का संचय किया जाता है इसलिए प्लेटफॉर्म की कमी हो रही है। परिवार वालों को दाह संस्कार के दिन ही अस्थियों को संचय करने की समझाइश दी जा रही है लेकिन इस पर अमल नहीं होने से समस्या बन रही है। प्लेटफॉर्म खाली नहीं होने पर बीच की जगह में या फिर जमीन पर संस्कार किया जा रहा है।

करिया पाथर श्मशान } 12 प्लेटफॉर्म दाह संस्कार के लिए हैं। श्मशान की देखरेख करने वाले राजेन्द्र तिवारी ने बताया कि हर साल पितृ पक्ष में मृत्यु दर बढ़ जाती है। लेकिन इस वर्ष कुछ अधिक शव आ रहे हैं। फिलहाल अभी तक प्लेटफॉर्म की कमी नहीं आई है। हालाँकि प्लेटफॉर्म की कमी होने पर परिवार की सहमति से अस्थियों को एकत्रित कर नाम-पते की पर्ची के साथ लॉकर्स में रखने की सुविधा यहाँ पर है।

हाथीताल श्मशान } 9 प्लेटफॉर्म दाह संस्कार के लिए बने हैं। श्मशान की देखरेख करने वाले सुनील गोस्वामी ने बताया कि अभी तक यहाँ पर शव के संस्कार को लेकर प्लेटफॉर्म की कमी नहीं आई है। अस्थियों को रखने के लिए श्मशान में आधुनिक 25 लॉकर्स बने हुए हैं।

ग्वारीघाट श्मशान } 36 शवों को एक साथ संस्कार करने के लिए प्लेटफॉर्म बने हुए हैं। श्मशान की देखरेख करने वाले गोलूपुरी गोस्वामी ने बताया कि यहाँ पर शेड में बने प्लेटफॉर्मों में अधिक शव एक दिन में आ जाते हैं तो फिर प्लेटफॉर्मों के बीच में बची जगह में संस्कार किया जाता है। इसके बावजूद भी यदि अधिक शव आ जाते हैं तो फिर श्मशान के बाजू में खाली पड़ी जगह में संस्कार किया जा सकता है। इस वर्ष अभी तक ऐसी स्थिति किसी भी दिन नहीं बनी है। जब प्लेटफार्मों के बाहर संस्कार करना पड़ा हो। यहाँ पर अस्थियों को रखने के लिए 36 लॉकर्स भी हैं जिनका उपयोग परिजन कर सकते हैं।

चौहानी श्मशान में जगह की कमी
कोविड-19 महामारी से मरने वालों का दाह संस्कार चौहानी श्मशान में किया जा रहा है। यहाँ पर दाह संस्कार के लिए 27 प्लेटफॉर्म हैं लेकिन अभी सबसे अधिक परेशानी हो रही है। जगह की कमी के कारण अग्नि शांत होने के बाद ही अस्थियों को एकत्रित करना पड़ रहा है। परिवार वाले लेना चाहते हैं तो अस्थियों को उन्हें दे दिया जाता है, नहीं तो मोक्ष संस्था के द्वारा नर्मदा जी में प्रवाहित कर दी जाती हैं। मोक्ष संस्था के आशीष ठाकुर ने बताया कि यहाँ पर प्रशासन एवं उनकी संस्था के माध्यम से शवों का संस्कार किया जाता है। चूँकि दूसरे जिलों के शवों का भी यहीं पर संस्कार होता है इसलिए कभी-कभी तो शवों के संस्कार के लिए जगह ही नहीं बचती है।

तिलवारा श्मशान
यहाँ कोविड-19 के सस्पेक्टेड शवों का संस्कार किया जा रहा है। यहाँ पर 3 प्लेटफॉर्म बने हुए हैं। यहाँ पर भी स्थिति ठीक नहीं बताई जा रही है। मोक्ष संस्था के सहयोग से यहाँ पर शवों का संस्कार किया जा रहा है। जब जगह नहीं बचती है तो जिनकी अस्थियाँ लेने वाला कोई नहीं है तो उनको नर्मदा जी में उसी दिन विसर्जित कर दिया जाता है। पी-2

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें