• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • In Jabalpur, Now The Crime Branch Raided The Fake Fertilizer seed Warehouse In Madhotal Area, Packing Of Fertilizer Was Being Done In The Name Of Gujarat Company

खाद-बीज गोदाम में लेवल लगाकर नकली पैकिंग का खेल:जबलपुर में अब क्राइम ब्रांच ने माढ़ोताल क्षेत्र में नकली खाद-बीज गोदाम पर दिया दबिश, गुजरात की कंपनी के नाम पर खाद की हो रही थी पैकिंग

जबलपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गोदाम से खाद-बीज की सैम्पलिंग करते कृषि विभाग के अधिकारी। - Dainik Bhaskar
गोदाम से खाद-बीज की सैम्पलिंग करते कृषि विभाग के अधिकारी।

जबलपुर क्राइम ब्रांच ने माढ़ोताल में दबिश देकर खाद-बीज के गोदाम चल रहे गोरखधंधे को उजागर किया है। रैंगवा पाटन बायपास स्थित इस गोदाम में गुजरात की नामी कंपनी का लेवल लगाकर जैविक खाद की पैकिंग की जा रही थी। यहां बीज भी बड़ी मात्रा में मिली है। बताते हैं कि ये बीज भी सब स्टैंडर्ड की है। मंगलवार 13 जुलाई को कृषि विभाग ने सैम्पलिंग लेते हुए गोदाम को सील करवा दिया। कृषि विभाग इस मामले में बुधवार को एफआईआर कराने की तैयारी में है।

विजय नगर निवासी रमेश खत्री का रैंगवा में सागर सीड्स नाम से गोदाम है। इसी नाम से उसकी बल्देवबाग में भी दुकान है। क्राइम ब्रांच ने माढ़ोताल पुलिस के साथ इस गोदाम पर दबिश दी थी। इसके बाद कृषि विभाग के अधिकारियों को मौके पर बुलाया गया था। गोदाम के अंदर जय किसान बीज भंडार और सागर सीड्स कार्पोरेशन नाम से बीज व जैविक खाद की बोरियां मिली। गोदाम के अंदर ही गुजरात की कंपनी के नाम पर जैविक खाद की पैकिंग की जा रही थी। रमेश खत्री ने बीज का लाइसेंस पेश किया है, लेकिन गुजरात की जैविक खाद बनाने वाली फैक्ट्री से उसका कोई संपर्क नहीं निकला।

गोदाम में सर्चिंग करते हुए कृषि विभाग और माढ़ोताल की पुलिस।
गोदाम में सर्चिंग करते हुए कृषि विभाग और माढ़ोताल की पुलिस।

खाद बनाने का लाइसेंस नहीं पेश कर पाया

पुलिस व कृषि विभाग की संयुक्त कार्रवाई के दौरान रमेश खत्री जैविक खाद बनाने का लाइसेंस नहीं पेश कर पाया। खाद व बीज के कारोबार से संबंधित उसके लाइसेंस की समयावधि भी खत्म हो चुकी है। गोदाम की जांच के दौरान कीटनाशक की हजारों बोरियां मिली हैं। गुजरात की एक कंपनी के नाम की बोरियां, स्टीकर, प्रिंटिंग व प्रेस का सामान मिला है। गोदाम में जायम, ग्रीन जायम, गोल्ड बीटा नाम से जैविक खाद बनाई जा रही थी। खाद में कीटनाशक का उपयोग किया जा रहा था।

कई साल से कर रहा था कारोबार

कृषि अधिकारियों ने बताया कि रमेश खत्री बीते कई साल से गोदाम में खाद बना रहा था। गुजरात की जिस कंपनी का लेबल लगाकर वह खाद बना रहा है उसके मालिक से संपर्क करने पर पता चला कि सागर सीड कार्पोरेशन तथा जय किसान बीज भंडार के नाम पर खत्री जबलपुर सहित सीमावर्ती जिलों में भी किसानों को खाद बीज बेचता है। गोदाम से जब्त खाद, बीज, कीटनाशक के सैंपल जांच के लिए कृषि विभाग ने लैब को भिजवाया है।

कार्रवाई में शामिल अधिकारियों का ये है दावा-

-सागर सीड कॉर्पोरेशन और जय किसान बीज भंडार नाम से रमेश खत्री के गोदाम में पैकिंग करने का प्रकरण सामने आया है। जांच में गुजरात की एक कंपनी का लेबल लगाकर जैविक खाद की पैकिंग की जा रही थी। इसका लाइसेंस वह नहीं पेश कर पाया। खाद, बीज व कीटनाशक के लाइसेंस की अवधि भी समाप्त हो चुकी है।

प्रतिभा गौर, एसडीओ, कृषि विभाग

-विजय नगर निवासी रमेश खत्री के गोदाम में दबिश दी गई थी। रमेश खत्री की बल्देवबाग में सागर सीड्स नाम से दुकान भी है। उसके गोदाम में मिले बीज व खाद की कृषि विस्तार अधिकारी रश्मि परसाई की अगुवाई में सैम्पलिंग कराई गई है। गोदाम को अभी सील कर दिया गया है। जांच रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई होगी।

रीना पांडे, टीआई माढ़ोताल

खबरें और भी हैं...