• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • In Jabalpur, Two Youths Had Written A Complaint Of Robbery In A Dispute Regarding The Transaction Of Wage Money, Disclosed In 24 Hours

झूठी निकली लूट की वारदात:जबलपुर में पैसों के लेन-देन को लेकर हुए विवाद में लूट की लिखा दी थी शिकायत, 24 घंटे में खुलासा

जबलपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस की गिरफ्त में सतेंद्र व अनिकेत। - Dainik Bhaskar
पुलिस की गिरफ्त में सतेंद्र व अनिकेत।

मजदूरी के पैसों को लेकर हुए विवाद के बाद नरसिंहपुर के दो युवकों ने चरगवां में 1.05 लाख रुपए और बाइक लूट की झूठी शिकायत दर्ज करा दी। दिवाली के दिन हुई लूट की सूचना से पुलिस भी सकते में आ गई। लूट के नामजद आरोपियों ने सारा भेद खोल दिया। पुलिस ने झूठी शिकायत करने का प्रकरण दर्ज कर लिया है।

चरगवां थाना प्रभारी विनोद पाठक के मुताबिक गोटेगांव नरसिंहपुर निवासी सतेंद्र ने लूट की झूठी शिकायत दर्ज कराई थी। शिकायत में बताया था कि उसकी कपड़े की दुकान है। वह कपड़े खरीदने एक लाख 5 हजार रुपए लेकर दोस्त लाठ गांव निवासी अनिकेत के साथ जबलपुर निकला था। वह अपनी बाइक एमपी 49 एम 6724 से लाठ गांव से निकल रहा था तो वहीं का भूपत लोधी भी साथ हो लिया। वे दोपहर 12.30 बजे चरगवां क्षेत्र के बिछुआ के आगे पहुंचे थे, तभी मुकेश देशमुख और एक अन्य व्यक्ति मिल गए। भूपत भी वहीं उतर गया।

कट्‌टा सटाकर लूट लिए पैसे और बाइक

सतेंद्र ने शिकायत दर्ज कराई थी कि मुकेश ने कपड़े खरीदने के एक लाख रुपए होने का पता चलते ही उसका बैग छुड़ाने लगा। विरोध करने पर उसने कट्‌टा सटा दिया। मुकेश, भूपत और एक अन्य व्यक्ति ने मिलकर उसे और अनिकेत के साथ मारपीट की और पैसे और बाइक छीन कर फरार हो गए। सरेआम लूट की सूचना से पुलिस भी सकते में आ गई पर लुटेरों के नामजद शिकायत से पुलिस को संदेह हुआ।

चरगवां पुलिस ने लूट की झूठी रिपोर्ट का किया भंडाफोड़।
चरगवां पुलिस ने लूट की झूठी रिपोर्ट का किया भंडाफोड़।

नामजद लुटेरों से पूछताछ में शिकायतकर्ता की खुल गई झूठ

थाना प्रभारी पाठक के मुताबिक एक टीम तुरंत लाठ गांव भेजी गई। वहां भूपत के घर के पास बाइक मिल गई। पुलिस ने भूपत को हिरासत में लेकर मानेगांव बरगी स्थित अनुराग यादव के क्रेशर प्लांट से विजय नगर भवानी गोंदिया महाराष्ट्र निवासी मुकेश देशमुख को दबोचा। दोनों से पूछताछ में सतेंद्र और अनिकेत का झूठ खुल गया। पता चला कि मजदूरी में मिले 86 हजार रुपए को लेकर हुए विवाद में ये पूरी साजिश रची गई थी।

24 घंटे के अंदर पुलिस ने झूठी लूट का खुलासा किया

बरगी सीएसपी प्रियंका शुक्ला के मुताबिक सतेंद्र, अनिकेत पूर्व में मानेगांव में अनुराग यादव के क्रेशर में ही काम करते थे। सप्ताह भर पहले ही सतेंद्र ने लाठगांव में कपड़े की दुकान खोली है। दिवाली के दिन वह अनिकेत और मुकेश के साथ अनुराग यादव के क्रेशर प्लांट पर मजदूरी का पैसा लेने गया था। अनुराग ने सतेंद्र व अनिकेत को पैसे दे दिए। बावजूद दोनों ने मुकेश और भूपत से झूठ बोलते रहे कि पैसे नहीं मिले। दोनों ने अनुराग से इसकी पुष्टि की तो उनका भेद खुल गया। इसे लेकर उनके बीच विवाद हुआ था।

मारपीट का बदला लेने लिखा दी लूट

सतेंद्र और अनिकेत ने मारपीट का बदला लेने लूट की झूठी शिकायत दर्ज करा दी। फिर भूपत पटेल के पास खुद अपनी बाइक खड़ी कर दी, कि लगे वह लूट कर लाया है। चरगवां पुलिस ने सतेंद्र और अनिकेत के खिलाफ पुलिस को गुमराह कर लूट का प्रकरण दर्ज कराने पर मामला दर्ज करते हुए दोनों को गिरफ्तार कर लिया। जबकि भूपत और मुकेश को छोड़ दिया।