भास्कर एक्सक्लूसिवदलाल बोला- 65 हजार दो, जहां चाहो एडमिशन लो:फिर न डिग्री मिलती है, न फीस वापस

भोपाल3 महीने पहलेलेखक: राजेश शर्मा

मध्यप्रदेश के करीब 242 नर्सिंग कॉलेजों की मान्यता खत्म की जा चुकी है। इसके बाद भी इनमें एडमिशन हो रहे हैं। दैनिक भास्कर रिपोर्टर ने गार्जियन बनकर अपनी भांजी के एडमिशन के लिए एक दलाल से संपर्क किया।

पड़ताल में पता चला कि एडमिशन देने का यह खेल प्रोविजनल लेवल (अस्थायी) पर किया जा रहा है। दलाल का दावा है कि कॉलेज को मान्यता नहीं मिली, तो उनके रुपए वापस कर दिए जाएंगे, लेकिन असल बात कुछ और है। दलाल के पास एक बार रुपए गए तो वापस नहीं आते। बता दें, इंडियन नर्सिंग काउंसिल ने जिन नर्सिंग कॉलेजों की मान्यता खत्म की है, वे दो-दो कमरों में चलते थे। उनका इन्फ्रॉस्ट्रक्चर भी अधूरा था।

पढ़िए, दलाल और भास्कर रिपोर्ट की बातचीत...

रिपोर्टर: इस सत्र का गड़बड़ लग रहा है। कैसे प्रवेश लेंगे?

दलाल: अभी कुछ भी क्लीयर नहीं है। जब भी परमिशन मिलेगी, उसके बाद ही एडमिशन देंगे।

रिपोर्टर: सीट खाली है या नहीं?

दलाल : 2022-23 में अभी एडमिशन नहीं होगा। काउंसिल जब परमिशन देगी, उसके बाद ही एडमिशन लेंगे।

रिपोर्टर: 95% संभावना कंफर्म है कि सीट मिल ही जाएगी?

दलाल: सर, रिस्क नहीं ले सकते। एक्चुअली होता क्या है कि हमने एडमिशन दे दिया। स्टूडेंट को पढ़ाया। पर, समस्या ये है कि बायचांस परमिशन नहीं मिली तो स्टूडेंट तो संस्था के ऊपर आएगा। कांउसिल भी ये बोलेगी कि हम तो लेटर निकाल चुके हैं कि परमिशन के बिना एडमिशन ना लें।

रिपोर्टर: कुछ छात्राओं ने एडमिशन ले लिया है। कुछ ने सागर में लिया है, कुछ ने ग्वालियर में और कुछ ने भोपाल में लिया है।

दलाल: हम प्रोविजन एडमिशन देते हैं। प्रोविजन एडमिशन में क्या रहता है कि बच्चा भी क्लेम नहीं कर पाएगा, तो हमें कोई ऑब्जेक्शन नहीं होगा। ऐसा करके हम उससे रुपए ले लेंगे।

रिपोर्टर: मतलब, प्रोविजनल आधार पर एडमिशन दे देंगे?

दलाल: हां।

रिपोर्टर: तो फीस क्या लेंगे?

दलाल: जो फीस लगेगी, वो बच्चे को रिटर्न होगी। प्रोविजनल में बच्चा जो भी पहचान सहित जमा करता है और परमिशन नहीं आती है, तो पैसा वापस कर देंगे।

रिपोर्टर: बीएससी फर्स्ट ईयर की फीस कितनी होगी?

दलाल: 65 हजार रुपए चल रही है फीस।

रिपोर्टर: डिस्काउंट?

दलाल: नहीं सर, कुछ भी नहीं।

रिपोर्टर: कुछ तो करेंगे 10-20 प्रतिशत कुछ तो डिस्काउंट करेंगे?

दलाल: सर, फिक्स है फीस।

रिपोर्टर: ये बताइए, सागर में एडमिशन मिल जाएगा?

दलाल: जहां आपको सुविधा हो, वहां एडमिशन करा लें।

रिपोर्टर: भोपाल में मिल जाएगा?

दलाल : भोपाल में भी कई कॉलेज हैं, पर ये आप पर निर्भर करेगा कि आपको कहां सुविधा होगी।

रिपोर्टर: भोपाल में कॉलेज कहां है?

दलाल: हम लोगों का ईंटखेड़ी, बैरसिया रोड पर।

रिपोर्टर: किस नाम से?

दलाल: जीवन ज्योति के नाम से।

रिपोर्टर: यह तो हमारे घर कोलार से तो बहुत दूर पड़ जाएगा। अच्छा ये बताएं, कहां लेना चाहिए हमको?

दलाल: सर, अभी क्या है कि मैं बहुत व्यस्त हूं। दो–तीन कॉलेज हैं। एक स्नेह करके है वहां पर। उसका एड्रेस मैं आपको सेंड कर दूंगा और नंबर। आप जाकर वहां मिल लेना।

रिपोर्टर: ऐसा नहीं हो सकता कि पुख्ता एडमिशन मिल जाए, जहां ये प्रोविजनल का चक्कर न पड़े।

दलाल: सर, प्रोविजनल भी पुख्ता ही होता है, लेकिन बायचांस 1 परसेंट परमिशन नहीं आई, तो इश्यू है न सर। 100 परसेंट गारंटी कौन लेगा?

रिपोर्टर: ये तो बहुत सारे कॉलेज हैं, जहां अनुमति है।

दलाल: सभी कॉलेजों को लास्ट ईयर परमिशन मिली थी, कुछ को नहीं मिली थी। इस साल कितने को मिलेगी, इसकी गारंटी नहीं है। यदि परमिशन आएगी, तो एडमिशन कोई कैंसिल क्यों करेगा?

रिपोर्टर: अच्छा पैसा लौटाने की गारंटी रहेगी? पूरे 60 हजार लौटाएंगे?

दलाल : बिल्कुल, वो तो रहेगी।

20 हजार स्टूडेंट्स का भविष्य संकट में

मध्यप्रदेश मेडिकल यूनिसर्विटी में पास-फेल के खेल और नर्सिंग कॉलेजों के फर्जीवाड़े के चलते 20 हजार स्टूडेंट्स का भविष्य संकट में है। सत्र 2021-22 में मध्यप्रदेश मेडिकल यूनिवर्सिटी की अनुमति नहीं होने के बाद भी एडमिशन के लिए स्टूडेंट्स से दस्तावेज जमा कराने के साथ ही उनसे फीस भी जमा करा ली गई थी। अब स्टूडेंट्स फीस काे लेकर परेशान हैं।

इस बीच मध्यप्रदेश नर्सिंग काउंसिल ने आदेश जारी करते हुए इन कॉलेजों में एडमिशन लेने वालों के दस्तावेज वापस करने के निर्देश दिए गए हैं। इस आदेश में यह जिक्र नहीं किया गया है कि सत्र 2021-22 में एडमिशन लेने वाले स्टूडेंट्स की पढ़ाई का क्या होगा और उनके द्वारा जमा की गई फीस वापस की जाएगी या नहीं?

पढ़िए, कैसे लगा स्टूडेंट्स को चूना

धार के प्रयागराज कॉलेज में सीमा नाम की स्टूडेंट ने 2021-22 के लिए फर्स्ट ईयर में एडमिशन लिया था। उन्होंने 28 हजार रुपए की फीस भी जमा कर दी थी, लेकिन अभी तक कॉलेज में पढ़ाई शुरू हुई। वजह यह कि कॉलेज में मूलभूत सुविधाएं व जरूरी मापदंड पूरे नहीं किए गए। ऐसे में कॉलेज की मान्यता सस्पेंड कर दी गई। सीमा ने अपनी फीस व दस्तावेज लौटाने के लिए आवेदन किया, लेकिन अभी तक वह कॉलेज के चक्कर काट रही हैं।

भोपाल की सीमा ने धार के प्रयागराज कॉलेज में एडमिशन लिया था, लेकिन आज तक न तो उसके डॉक्यूमेंट वापस किए गए, न ही उसकी भरी फीस वापस की जा रही है।
भोपाल की सीमा ने धार के प्रयागराज कॉलेज में एडमिशन लिया था, लेकिन आज तक न तो उसके डॉक्यूमेंट वापस किए गए, न ही उसकी भरी फीस वापस की जा रही है।

अगले साल के लिए हो गया एडमिशन

इंदौर के परिजात नर्सिंग कॉलेज ने शिखा मुवेल को अगले साल यानी 2022-23 के लिए एडमिशन दे दिया। जबकि, कॉलेज को मौजूदा सत्र के लिए मान्यता अब तक नहीं मिली है। शिखा से 27 जून को एडमिशन देने के एवज में 20 हजार रुपए की फीस जमा कराई गई। जब उन्होंने अपने दस्तावेज व फीस वापस करने के लिए आवेदन किया, तो उन्हें राशि नहीं लौटाई गई। अब उन्होंने नर्सिंग काउंसिल में शिकायत दर्ज कराई है।

राजधानी भोपाल की शिखा का हाल भी सीमा जैसा है, न ताे उसे डॉक्यूमेंट्स लौटाए जा रहे हैं, न ही फीस लौटाई जा रही है।
राजधानी भोपाल की शिखा का हाल भी सीमा जैसा है, न ताे उसे डॉक्यूमेंट्स लौटाए जा रहे हैं, न ही फीस लौटाई जा रही है।

एयरपोर्ट में मेल नर्स को विदिशा कॉलेज में फैकल्टी बता दिया

विदिशा के बीएम स्कूल ऑफ नर्सिंग में तरुण कटोले का नाम फैकल्टी के तौर पर दर्ज है। सरकारी रिकॉर्ड में उनका रजिस्ट्रेशन इस कॉलेज में होना बताया गया है, जबकि मेल नर्स तरुण कटोले पिछले 2 साल से भोपाल एयरपोर्ट में नौकरी कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि वे कभी विदिशा के बीएम स्कूल ऑफ नर्सिंग में ना तो पढ़ने गए और ना ही पढ़ाने के लिए कभी नौकरी के लिए आवेदन किया। उन्होंने बताया कि कॉलेज प्रबंधन ने उनके साथ धोखाधड़ी की है। इस बारे में नर्सिंग काउंसिल में लिखित शिकायत दर्ज कराई है, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।

नर्सिंग कॉलेजों के ठगे गए प्रदेश के 3 हजार से ज्यादा स्टूडेंट एक समूह बनाकर अपनी फीस वापसी और अन्य मांगों को लेकर प्रदेश व्यापारी आंदोलन करने की तैयारी में हैं।
नर्सिंग कॉलेजों के ठगे गए प्रदेश के 3 हजार से ज्यादा स्टूडेंट एक समूह बनाकर अपनी फीस वापसी और अन्य मांगों को लेकर प्रदेश व्यापारी आंदोलन करने की तैयारी में हैं।

प्रदेश के 3 हजार छात्रों से ठगी

भोपाल में ही 700 से अधिक स्टूडेंट्स की फीस रोकने का मामला सामने आया है। जबकि, पूरे राज्य में 3 हजार से ज्यादा स्टूडेंट हैं। इन छात्रों से 10 हजार से 30 हजार रुपए तक की फीस जमा कराई गई है। ऐसे ही एक स्टूडेंट रवि परमार का कहना है कि नर्सिंग काउंसिल ने अभी तक सिर्फ दस्तावेज को लेकर आदेश जारी किया है, लेकिन जमीनी स्तर पर हम न तो विद्यार्थियों की मदद कर रहे हैं, ना ही दस्तावेज मिल रहे हैं। ना ही नर्सिंग कॉलेजों द्वारा जमा की गई फीस वापस दे रहे हैं। यदि सरकार इसे गंभीरता से नहीं लेती है तो हमारे पास आंदोलन करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है।

कांग्रेस सरकार में मिली मान्यता, भाजपा सरकार में निरस्त

मध्यप्रदेश में नर्सिंग कॉलेजों का फर्जीवाड़ा ऐसा नहीं है कि वह पिछले एक साल में हुआ है। सरकार का दावा है कि कमलनाथ सरकार के दौरान 2020-21 के सत्र में 724 नर्सिंग कॉलेजों को मान्यता दी गई थी। इस दौरान सिर्फ 29 कॉलेजों की मान्यता निरस्त की गई थी, जबकि शिवराज सरकार के दौरान 2021-22 में 575 कॉलेजों को मान्यता दी। रिकॉर्ड के मुताबिक 242 कॉलेजों की मान्यता निरस्त की गई। यानी कमलनाथ सरकार ने महज 4% कॉलेजों की तुलना में शिवराज सरकार ने 30% कॉलेजों की मान्यता निरस्त की है।

यह है मामला

इंडियन नर्सिंग काउंसिल से पहले मध्यप्रदेश रजिस्टर काउंसिल ने इन कॉलेजों की मान्यता निरस्त कर दी थी। जांच में पाया गया कि ये सभी कॉलेज फर्जी डिग्री देते हैं और नॉन फंक्शनल हैं। इनकी मान्यता धारा 14(3) बी के तहत वापस ले ली गई है, जिनमें से 57 कॉलेज भोपाल में हैं। 60 से लेकर 250 तक सीटें हैं। ऐसे में मान्यता खत्म होने से करीब 20 हजार से ज्यादा स्टूडेंट्स की डिग्री संकट में है। अभी तक इनको लेकर स्पष्ट नहीं हुआ कि इनके भविष्य क्या होगा?

ये भी पढ़ें...

हाईकोर्ट ने चेताया- व्यापमं से बड़ा घोटाला हो जाएगा

​​​​​​मध्यप्रदेश के नर्सिंग कॉलेजों में बड़ा फर्जीवाड़ा चल रहा है। मेडिकल साइंस यूनिवर्सिटी के अंडर में फेक फैकल्टी वाले प्राइवेट नर्सिंग कॉलेज संचालित हैं। कई फैकल्टी ऐसे हैं, जो एक ही सेशन के दौरान कई कॉलेजों में काम कर रहे हैं। यह गड़बड़ी एक ही फैकल्टी का अलग-अलग रजिस्ट्रेशन नंबर दर्ज की गई है। इसकी एक बानगी देखिए, फैकल्टी का नाम है विष्णु कुमार स्वर्णकार, जो 15 नर्सिंग कॉलेजों में प्रिंसिपल, वाइस प्रिंसिपल और एसोसिएट प्रोफेसर है। 2021-22 के लिए 9 कॉलेजों की मान्यता निलंबित हो चुकी है। बाकी के 6 कॉलेजों में वो अब भी पदस्थ है। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...