पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बीमा कंपनी वादों से मुकरी:पति की मौत के दस महीने बाद भी नहीं मिल पाया बीमा क्लेम

जबलपुर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पीड़िता का आरोप; जो वादे किए गए थे उसे किया जा रहा दरकिनार

पॉलिसी बेचते वक्त तो बीमा कंपनी कई तरह के वादे करती है और उन्हीं वादों में आकर आम लोग अनेक पॉलिसी खरीद लेते हैं। जब बीमा कंपनी की आवश्यकता आम लोगों को होती है तो हाथ खड़े कर लिए जाते हैं। बीमित को न तो कैशलेस का लाभ दिया जाता है और न ही बीमा का क्लेम देने कंपनी तैयार होती है। बीमा कंपनी सीधे तौर पर धोखा देती नजर आती है।

यही कारण है कि पीड़िता अपनी पीड़ा बताने जाए तो जाए कहाँ। पीड़िता द्वारा जब अस्पताल के बिल, बीमा संबंधी दस्तावेज इंश्योरेंस कंपनी को सौंपे जाते हैं तो किसी न किसी तरह की खामी उसमें निकाल ली जाती है और उसके बाद क्वेरी भेजी जाती है। परिवार के सदस्य सारी जानकारियाँ जब शेयर कर देते हैं तो यह कहते हुए क्लेम निरस्त कर दिया जाता है कि यह नियम में नहीं आता है। नियम में आने के बाद ही हम क्लेम देंगे। पॉलिसी धारक को तरह-तरह से परेशान करने के बाद सीधे तौर पर वादे को नकारते हुए, सारे दस्तावेजों को फॉल्स बताकर पीड़ितों को ही चालबाज साबित करने में कंपनी लगी रहती है।
इन नंबरों पर बीमा से संबंधित समस्या बताएँ
इस तरह की समस्या यदि आपके साथ भी है तो आप दैनिक भास्कर, जबलपुर के मोबाइल नंबर - 9425324184, 9425357204 पर बात करके प्रमाण सहित अपनी बात रख सकते हैं। संकट की इस घड़ी में भास्कर द्वारा आपकी आवाज को खबर के माध्यम से उचित मंच तक पहुँचाने का प्रयास किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...