पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आइसोलेशन कोच:12 दिन तक मदन महल में खड़े रहे अब यार्ड की शोभा बढ़ाएँगे आइसोलेशन कोच

जबलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रेल प्रशासन ने इन सभी कोच काे वापस ले जाने दिए निर्देश

कोरोना के बढ़ते संक्रमण और अस्पतालों में जगह न मिलने पर रेल प्रशासन ने संक्रमितों को आइसोलेशन के लिए 20 कोच को अपडेट कर आइसोलेशन कोच के रूप में तैयार किया था। ये आइसोलेशन कोच अब यार्ड की शोभा बढ़ाएँगे। करीब 12 दिन मदन महल स्टेशन पर खड़े रहने के बाद अब रेल प्रशासन ने इन्हें यहाँ से वापस भेजने का निर्णय लिया हैं। इन्हें वापस भेजने के पीछे यह कारण बताए जा रहे हैं कि इतने दिनों में एक भी संक्रमित मरीज यहाँ आइसोलेट हाेने नहीं आया है इसलिए ट्रैक से अलग करके इसे यार्ड ले जाया जा रहा है।

बताया जाता है कि पिछले माह संक्रमितों की संख्या में लगातार हो रही वृद्धि और अस्पतालों में मारामारी के चलते लोगों को इलाज कराना तो दूर आइसोलेशन तक के लिए भी जगह नहीं मिल रही थी। लोगों की इस तकलीफ के मद्देनजर रेलवे ने पहले 10 कोच को आइसोलेशन कोच के रूप में तैयार किया इसके 7 दिन बाद फिर 10 और कोच भी तैयार कर मदन महल स्टेशन पर खड़े किए गए। पाँच कोच में पूरी तैयारी {रेलवे सूत्रों की मानें तो इन 20 कोचों में से 5 कोच में लाखों रुपए खर्च करके पूरी तरह से आइसोलेशनयुक्त बनाया गया था। जिसमें नए पर्दे से लेकर कूलर, ऑक्सीजन पाइप, डस्टबिन, चादर, बर्थ को नया लुक दिया गया था।

भेड़ाघाट पहुँची ऑक्सीजन एक्सप्रेस
रेल प्रशासन द्वारा चलाई जा रही ऑक्सीजन एक्सप्रेस रविवार को भेड़ाघाट पहुँची। इससे पहले यह एक्सप्रेस शनिवार को बोकारो से रवाना होकर कोटशिला, झारसुगुड़ा, बिलासपुर, नई कटनी जंक्शन होते हुए जबलपुर के भेड़ाघाट स्टेशन और सागर के मकरोनिया स्टेशन पहुँची।

खबरें और भी हैं...