पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Jabalpur Police Disclosed Gang, Were Providing Bail For 13 Years, Network Spread Across Eight Districts

फर्जी बही बनाकर कराते थे जमानत:बेटे और समधन के साथ मिलकर 17 साल से चला रहा था गैंग; जबलपुर, कटनी समेत पांच जिलों में फैला है नेटवर्क

जबलपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फर्जी बही में आरोपी अपनी फोटो लगाकर दूसरे के नाम पर जमानत लेते थे। - Dainik Bhaskar
फर्जी बही में आरोपी अपनी फोटो लगाकर दूसरे के नाम पर जमानत लेते थे।
  • हनुमानताल पुलिस का खुलासा, सिविल लाइंस, ओमती और नरसिंहपुर में दर्ज है फर्जी जमानत का मामला, सात गिरफ्तार, एक फरार
  • आरोपियों से 14 फर्जी बही, 25 कोरी बही, 35 विभिन्न तहसील न्यायालयों की सील, 2 सील पैड, सीपीयू, माॅनीटर, कलर प्रिंटर, स्कैनर, लैमिनेशन मशीन जब्त

पांच जिलों में फर्जी बही बनाकर जमानत कराने वाले गिरोह का गुरुवार को हनुमानताल पुलिस ने भंडाफोड़ किया। आरोपी एक से डेढ़ हजार रुपए में फर्जी बही और आधार कार्ड तैयार करते थे। इसके बाद वे पांच से दस हजार रुपए लेकर जमानत कराते थे। ये गैंग पिछले 17 सालों से सक्रिय था। आरोपियों में पिता-पुत्र व समधन सहित कुल सात लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। वहीं एक फरार है।

एएसपी सिटी ने आज किया मामले का खुलासा
एएसपी सिटी अमित कुमार ने गुरुवार को इस फर्जीवाड़ा का खुलासा किया। बताया कि फर्जी बही के मामले में गाजीनगर गली नंबर एक निवासी मुन्ना उर्फ शौकत, उसका बेटा सद्दाम अली, रिश्ते की समधन गांजीनगर 10 नल के पास रहने वाली सलमा बी, सिंगुरसी अगरिया गोसलपुर निवासी उदय उर्फ पप्पू दाहिया, देवरी खुर्द स्टेशन रोड पनागर निवासी सुरेश उर्फ लंगड़ ठाकुर, झंडा चौक प्रेमसागर निवासी सोहनलाल भाट और शीतलामाई घमापुर निवासी महेंद्र जायसवाल को गिरफ्तार किया गया है। वहीं सरगना का बेटा अशरफ अली भी मामले में आरोपी है, लेकिन वह फरार है।

आरोपियों के पास से जब्त फर्जी बही और अन्य दस्तावेज।
आरोपियों के पास से जब्त फर्जी बही और अन्य दस्तावेज।

सरगना पर 50 से अधिक मामले हैं दर्ज, 10 फर्जी जमानत के
सीएसपी गोहलपुर अखिलेश गौर ने बताया कि मुन्ना उर्फ शौकत गोहलपुर थाने का निगरानी बदमाश है। सिविल लाइंस थाने में 2003 से 2018 तक इसके खिलाफ कुल 10 फर्जी जमानत कराने के प्रकरण दर्ज हैं। कई में यह मुख्य आरोपी है तो कुछ में सह आरोपी है। नरसिंहपुर काेतवाली में 2017 में दर्ज प्रकरण में यह फरार चल रहा है। इसके खिलाफ 50 के लगभग विभिन्न जिले में प्रकरण दर्ज है। इसकी जानकारी जुटाई जा रही है। गोहलपुर पुलिस इसके खिलाफ जिला बदर का प्रकरण भी तैयार कर रही है।

दो प्रकरणों में थी सलमा की तलाश
वहीं गिरफ्तार सलमा के खिलाफ 2018 में सिविल लाइंस में और 2020 में ओमती में फर्जी बही लगाकर जमानत कराने का प्रकरण कोर्ट के आदेश पर दर्ज है। दोनों ही प्रकरण में वह फरार चल रही थी। सिविल लाइंस मामले में तीन तो ओमती के प्रकरण में उस पर चार हजार रुपए का इनाम घोषित था। इस दोनों मामलों में भी पुलिस ने उसकी गिरफ्तारी की है।

आरोपी महेंद्र की फोटो कापी से जब्त कम्प्यूटर आदि जब्त हुआ। इसी से फर्जी बही व कलर आधार कार्ड तैयार करते थे।
आरोपी महेंद्र की फोटो कापी से जब्त कम्प्यूटर आदि जब्त हुआ। इसी से फर्जी बही व कलर आधार कार्ड तैयार करते थे।

17 साल से फर्जी जमानत कराने का खेल
एएसपी अमित कुमार ने बताया कि ये गैंग 13 साल से फर्जी बही तैयार कर जमानत करा रहा था। गिरोह के पास से तेंदूखेड़ा दमोह, कटनी, नरसिंहपुर, मंडला, जबलपुर, जिले के विभिन्न तहसील और तहसीलदार के नाम की सील जब्त हुई है। आठ लोगों का ये गिरोह तहसील से लेकर जिला कोर्ट व हाईकोर्ट के अलग-अलग न्यायालय में नाम बदल कर जमानत कराते थे। इसके लिए फर्जी बही तैयार कर गैंग के लोगों की फोटो चस्पा की जाती थी।

कोर्ट के कुछ वकील और बाबुओं की सांठगांठ
प्रारम्भिक जांच में सामने आया है कि इस खेल में कोर्ट के कुछ वकील और बाबुओं की सांठगांठ भी है। वे ही जमानत कराने वाले आरोपियों का नाम इस गिरोह को उपलब्ध कराते थे। फिर गैंग फर्जी जमानतदार की व्यवस्था करता था। आरोपी के अपराध के अनुसार ये गैंग जमानत कराने के एवज में पैसा लेती थी। पूछताछ में गिरोह ने पांच से 10 हजार रुपए एक जमानत कराने के एवज में लेने की बात स्वीकार की है। पुलिस मुख्य सरगना मुन्ना उर्फ शाैकत अली को चार दिन की रिमांड पर लिया है।

एएसपी सिटी अमित कुमार फर्जी जमानत कराने वाली गिरोह का खुलासा करते हुए।
एएसपी सिटी अमित कुमार फर्जी जमानत कराने वाली गिरोह का खुलासा करते हुए।

जब्त फर्जी बही में ये मिला

  • मुन्ना उर्फ शौकत की फोटो लगी दो फर्जी बही (भू अधिकार ऋण पुस्तिका) मिली। बही में विवरण रमजान, बबलू, गफ्फार, राजू पिता मोह. सफी ग्राम डोंगरिया तहसीली बरगी का था।
  • उदय दाहिया उर्फ पप्पू की फोटो लगी दो फर्जी बही मिली। बही में खातेदार का नाम सुखुआ पिता स्व. मनुआ निवासी ग्राम सुड्डी बडवारा जिला कटनी और अधारकार्ड , जिसमें नाम सुखुआ पिता स्व. मनुआ निवासी ग्राम सुदरसी अगरिया टेकाना थाना सिहोरा लिखा हुआ है। इसमें भी फोटो उदय दाहिया की लगी है।
  • सुरेश उर्फ लंगड के पास एक फर्जी बही, जिसमें खातेदार भीकम पिता स्व. बाला प्रसाद ग्राम कुडेला तेंदुखेड़ा जिला दमोह और फर्जी आधारकार्ड जिसमें नाम भीकम सिंह निवासी तेंदुखेड़ा जिला दमोह लिखा है।
  • सद्दाम अली की फोटो लगी दो खाली बही जब्त हुई है। इसमें ब्यौरा बाद में भरा जाता। इसके लिए किसी के खसरे का इंतजाम करने में आरोपी लगे थे।
  • सलमा बी की फोटो लगी एक फर्जी बही, जिसमें खातेदार जैनुस्वा पति स्व. फैजुल्ला निवासी ग्राम खैरी कटंगी तहसील पाटन और एक फर्जी आधार कार्ड जिसमें जैनुस्वा लिखा है, लेकिन फोटो सलमा बी की लगी है जब्त हुआ।
खबरें और भी हैं...