• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Jabalpur Police Solved The Case In 57 Hours, Picked Up Both Of Them As Soon As Devrani's Love Affair Was Confirmed, Then A Heart wrenching Incident

जबलपुर पुलिस ने 57 घंटे में कैसे सुलझाया केस:मां-बेटी के डबल मर्डर केस में देवरानी के प्रेमी को उठाया, फिर खुली दिल दहला देने वाली वारदात

जबलपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बेटी निशा झारिया (20) और मां बबली झारिया (40) की हत्या की गई थी। - Dainik Bhaskar
बेटी निशा झारिया (20) और मां बबली झारिया (40) की हत्या की गई थी।

जबलपुर के बरेला निवासी मां बबली और बेटी निशा हत्याकांड को सुलझाने के लिए पुलिस के सामने कई चुनौती थी। पुलिस ने आरोपियों को संदेह के आधार पर उठा तो लिया, लेकिन वे गुमराह करते रहे। पुलिस का हर दांव फेल हो रहा था। फिर क्राइम ब्रांच काे उतरना पड़ा तब जाकर 57 घंटे में इस हत्याकांड का खुलासा हुआ। पढ़िए पुलिस की पूरी इन्वेस्टिगेशन...

बरेला के वार्ड नंबर 16 निवासी एवं आंगनबाड़ी में सहायिका बबली झारिया (40) और उसकी बेटी निशा झारिया (20) 27 सितंबर की रात को गायब हो गई थीं। 28 को टेमरभीटा निवासी मायके वालों ने थाने में इसकी सूचना दे दी थी, पर पुलिस ने गुमशुदगी 30 सितंबर को दर्ज की। तीन दिन तक पुलिस मायके वालों को ही दोनों को रिश्तेदारी में खोजने की सलाह देते रहे। 1 अक्टूबर को बबली के पिता चंद्रभान झारिया ने एसपी से बेटी व नातिन के गायब होने की बात कहते हुए ढूंढने की गुहार लगाई थी। पुलिस इसके बाद ही सक्रिय हुई।

मां-बेटी की दोहरी हत्या का खुलासा करते हुए एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा।
मां-बेटी की दोहरी हत्या का खुलासा करते हुए एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा।

DSP अपूर्वा किलेदार ने किया कैंप
बरेला थाने में कोई टीआई तैनात नहीं है। अभी एसआई मुनेश लाल कोल प्रभारी के तौर पर कार्यरत हैं। ऐसे में इस बेहद संवेदनशील मामले की जांच के लिए DSP ग्रामीण अपूर्वा किलेदार ने 3 अक्टूबर को थाने में कैंप किया। प्रथम संदेही मालती और उसके प्रेमी संजू श्रीपाल के मोबाइल कॉल डिटेल निकलवाए। घटना वाले दिन की लोकेशन निकलवाई गई। लोकेशन पीड़िता के घर के पास मिली। थाने की एक महिला को सादे लिबास में मोहल्ले में भेजा गया, जो पड़ोसियों से पूछताछ कर उनके संबंधों के बारे में पुष्टि की।

4 अक्टूबर को मालती, संजू और सुरेश को पुलिस ने उठाया
डीएसपी ने 4 अक्टूबर को सुबह 11 बजे देवरानी मालती, उसके पति सुरेश और प्रेमी संजू को उठा लिया। पूछताछ में देवर सुरेश ने बताया कि वह 30 सितंबर को बरेला आया था। पुलिस ने वहां एक टीम भेज कर इसकी तस्दीक कराई। इसके बाद उसे उसी रात 10 बजे छोड़ दिया गया। पर मालती और संजू के विरोधाभाषी बयानों ने पुलिस को उलझा दिया। संजू हार्डकोर क्रिमिनल है, तो मालती भी काफी शातिर निकली। सुबह 11 बजे से रात 10 बजे तक बरेला पुलिस दोनों से कुछ नहीं उगलवा पाई।

क्राइम ब्रांच की टीम को बुलाया गया
उधर, इस मामले को लेकर राजनीतिक दबाव भी बढ़ने लगा था। खुलासा न होने पर स्थानीय लोगों ने 5 अक्टूबर को चक्का जाम की चेतावनी दी थी। आरोपियों के भ्रमित करने और राजनीतिक दबाव के बीच डीएसपी ने एसपी से बात की। इसके बाद मामले में क्राइम ब्रांच को लगाया गया। रात में टीम मौके पर पहुंची। क्राइम ब्रांच की पूछताछ में संजू ने हत्या की बात तो कबूल की, लेकिन दोनों के लाश को लेकर भ्रमित करने लगा। कभी वह बोलता कि उसने दोनों शवों को जला कर नहर में फेंक दिया है। कभी लाश को ही नहर में फेंकने की बात करता।

हत्या में शामिल राजा को उठाया, तब जाकर खुली पोल
क्राइम ब्रांच ने संजू से पूछताछ के आधार पर कोसमघाट निवासी राजा कोल को उठा लिया। इसके बार पूछताछ की रणनीति बदली। तीनों आरोपियों को अलग-अलग पूछताछ शुरू की। शुरू में तीनों पुलिस को भ्रमित करते रहे। इसके बाद क्राइम ब्रांच ने संजू पर सख्ती की। साथ ही राजा द्वारा सब कुछ बता देने का झूठ बोला। इसके बाद संजू जाकर टूटा, उसने स्वीकार किया कि उसी ने राजा व देवा के साथ मिलकर मालती के कहने पर मां-बेटी की हत्या की है। लाश को अपने गांव काशी महंगवा स्थित कैनाल किनारे झाड़ियों में दफना दिया है।

खुदाई में बेटी निशा के सबसे पहले हाथ दिखे थे।
खुदाई में बेटी निशा के सबसे पहले हाथ दिखे थे।

सुबह कराई निशानदेही, फिर तहसीलदार की मौजूदगी में हुई खुदाई
पुलिस संजू व राजा कोल को लेकर 5 अक्टूबर काे सुबह 6 बजे ही लेकर दफनाए गए स्थल की तस्दीक करवाने पहुंची। गड्‌ढे की तस्दीक कराई। इसके बाद दोनों को थाने भेजकर शव निकलवाने की कवायद शुरू की गई। तहसीलदार और एसडीएम पीके सेन गुप्ता की मौजूदगी में चार मजदूरों ने खुदाई का काम शुरू किया। लगभग तीन घंटे बाद पहले बेटी फिर मां के शव निकाले गए। आरोपियों ने दोनों के शरीर के कपड़े अलग कर नमक डालकर दफनाया था, ताकि लाश जल्दी सड़ जाए।

देवरानी के इश्क की भेंट चढ़ गईं मां-बेटी:देवरानी ने हार बेचकर 45 हजार रुपए में दी थी सुपारी, भतीजी की 4 माह बाद होनी थी शादी

संबंधों को उजागर करने से मालती थी नाराज
पांच अक्टूबर की रात 7.30 बजे एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने इस दोहरे हत्याकांड से पर्दा उठाया। बताया कि मालती का पिछले चार वर्षों से संजू से प्रेम प्रसंग चल रहा था। मालती और बबली झारिया का एक ही आंगन व बरामदा है। पति सुरेश की गैरमौजूदगी में संजू का इस तरह घर आने-जाने की जानकारी पड़ोस और मोहल्ले वालों को भी हो गई थी। संजू के आने को लेकर बबली व मालती में कई बार विवाद तक हो गया था। मालती को लगता था कि उसे संबंधों के बारे में बबली ने ही पड़ोसियों और मोहल्ले वालों को बताया है। इसके बाद उसने संजू के साथ मिलकर दोनों की हत्या की साजिश रची।

बरेला के इस घर में रहने वाली मां-बेटी की यहीं पर हत्या गला घोट कर की गई थी।
बरेला के इस घर में रहने वाली मां-बेटी की यहीं पर हत्या गला घोट कर की गई थी।

हत्या के बाद घर को व्यवस्थित कर दिया था
मालती ने गले का हार बेचकर 45 हजार रुपए संजू को दिए। संजू ने ये पैसे राजा और फरार चल रहे बिलहरी निवासी देवा ठाकुर को दिए थे। 15 हजार खुद भी रख लिए थे। 27 की रात पहले बाथरूम के लिए निकली बबली झारिया का गला कसकर मार डाला। फिर उसकी बेटी निशा को कमरे में घुसकर मार डाला। बाहर सो रहे ससुर पंचम को मालती पहले ही नींद की गोली खिला कर सुला चुकी थी। दोनों को मारने के बाद आरोपियों ने एक चादर में बांधा और बाइक लेकर लाश को ठिकाने लगाने निकल गए। इधर, मालती ने बबली के कमरे को व्यवस्थित किया और बाहर से ताला लगा दिया, जिससे लगे कि दोनों कहीं निकली हैं।

गिरफ्त में आए दोहरे हत्याकांड के आरोपी मालती, संजू और राजा कोल।
गिरफ्त में आए दोहरे हत्याकांड के आरोपी मालती, संजू और राजा कोल।

जघन्य वारदात में चिन्हित कराकर होगी विवेचना
एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने बताया कि इस जघन्य वारदात में चिन्हित कर विवेचना कराएंगे। मामले में हत्या, साक्ष्य छुपाने सहित एससी-एसटी का प्रकरण दर्ज किया गया है। फरार आरोपी देवा की तलाश जारी है। हत्या के लिए पैसे देने की बात की पुष्टि की जा रही है। कोशिश रहेगी कि इस केस को फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई हो और आरोपियों को सख्त से सख्त सजा मिल सके।

जबलपुर में मां-बेटी की हत्या कर दफनाया:अफेयर में आड़े आने पर देवरानी ने प्रेमी संग मिलकर रची साजिश; कत्ल के बाद 5 किमी दूर जंगल में दफना दी लाशें