• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Jabalpur Warranty Had Shifted To Dewas After Marrying Sardarni, Was Selling Blankets By Ferrying Bikes To Indore, Dewas And Shahdol

चार सालों से पुलिस को छका रहा था:जबलपुर का वारंटी सरदारनी से शादी कर देवास में शिफ्ट हो गया था, इंदौर, देवास और शहडोल में बाइक से फेरी लगाकर बेच रहा था कंबल

जबलपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राजेश प्रधान (40) को चरगवां पुलिस ने चार साल बाद दबोचने में सफल रही। - Dainik Bhaskar
राजेश प्रधान (40) को चरगवां पुलिस ने चार साल बाद दबोचने में सफल रही।

जबलपुर पुलिस को चार सालों से छका रहा वारंटी शहडोल में नाटकीय अंदाज में गिरफ्तार हो गया। आरोपी शादी कर देवास में शिफ्ट हो चुका है। वह बाइक पर कंबल रखकर फेरी लगाकर देवास, इंदौर व शहडोल में बेचता था। आरोपी ने अपना सरदार का भेष बनाकर रह रहा था। पुलिस ने सबसे पहले उसकी मौजूदा समय की फोटो प्राप्त की, इसके बाद उसे शहडोल से गिरफ्तार किया।

चरगवां टीआई विनोद पाठक के मुताबिक चीरापौड़ी निवासी राजेश प्रधान (40) के खिलाफ 2014 में मारपीट और धमकी देने का प्रकरण दर्ज हुआ था। आरोपी को गिरफ्तार कर कोर्ट के समक्ष पेश किया गया था। जमानत पर रिहा होने के बाद तारीख पेशी पर वह पेश नहीं हुआ। 2017 में कोर्ट ने उसके खिलाफ म्यादी वारंट जारी कर दिया। तब से पुलिस को उसकी तलाश थी।

चरगवां पुलिस ने आरोपी को दबोचा।
चरगवां पुलिस ने आरोपी को दबोचा।

जमानत के बाद आरोपी ने कर ली शादी

टीआई पाठक ने बताया कि आरोपी ने जमानत पर छूटने के बाद शारदा चौक निवासी एक सरदारनी महिला से शादी कर ली। वह उसे लेकर देवास में बस गया। वहां उसे पीएम आवास भी मिल चुका है। आरोपी राजेश प्रधान वहां सरदार बनकर रहने लगा। वह चार-पांच अन्य लोगों के साथ बाइक पर कंबल लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में फेरी लगाकर बेचने लगा था। उसका कार्य क्षेत्र देवास, इंदौर और शहडोल था। पुलिस उसका पता लगाने के लिए शारदा चौक से लेकर इंदौर तक गई, लेकिन पता नहीं चल पाया।

पहले फोटो प्राप्त की, फिर तलाश में जुटी

चरगवां पुलिस के पास आरोपी की पुरानी फोटो थी। जबकि मौजूदा समय में वह सरदार की भेषभूषा में रहने लगा है। ऐसे में पुलिस ने उसके एक खास साथी तक पहुंच बनाने में कामयाबी पाई। यहां से उसका फोटो मिला। साथ ही आरोपी का मोबाइल नंबर भी मिला। इस मोबाइल को सर्विलांस सेल की मदद से पुलिस ने ट्रेस करना शुरू किया। आरोपी फेरी लगाकर कंबला बेचता है, इस कारण उसका लोकेशन लगातार बदल रहा था।

शहडोल में दबोचा गया आरोपी

इसी बीच चरगवां पुलिस को खबर मिली कि आरोपी राजेश प्रधान शहडोल निकला है। थाने की एक टीम प्रधान आरक्षक प्रदीप पटेल, आरक्षक राजेश मेहरा, शैलेन्द्र उईके के साथ शहडोल पहुंची। वहां टीम ने स्थानीय ब्योहारी पुलिस की मदद से वारंटी राजेश प्रधान (आदिवासी) पिता अर्जुन प्रधान उम्र 40 वर्ष को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस की गिरफ्त में आने के बाद भी वह अपना नाम गलत बता कर भ्रमित करने की कोशिश की, लेकिन पुलिस के आगे उसकी एक न चली। आरोपी को कोर्ट में पेश किया गया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया।

खबरें और भी हैं...