• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Jabalpur's Civil Lines Police Caught, Has Been Sentenced To Life Imprisonment In The Case Of Murder In Seoni

पैरोल से फरार हत्यारा गिरफ्तार:जबलपुर की सिविल लाइंस पुलिस ने दबोचा, सिवनी में मर्डर के मामले में हो चुकी है आजीवन कारावास की सजा

जबलपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिविल लाइंस पुलिस ने पैरोल से फरार एक आरोपी और चोरी के प्रकरण में फरार एक चोरी को दबोचा। - Dainik Bhaskar
सिविल लाइंस पुलिस ने पैरोल से फरार एक आरोपी और चोरी के प्रकरण में फरार एक चोरी को दबोचा।

नौ साल पहले 23 की उम्र में हत्या और साजिश के प्रकरण में आजीवन कारावास और तीन साल के सश्रम कारावास सहित अर्थदंड से दंडित आरोपी पैरोल से फरार हो गया था। 10 महीने बाद जबलपुर की सिविल लाइंस पुलिस ने आरोपी को धर दबोचा। आरोपी के खिलाफ सेंट्रल जेल की ओर से शिकायत दर्ज कराई गई थी।

सिविल लाइंस थाना प्रभारी डीएसपी हिना खान के मुताबिक जबलपुर सेंट्रल जेल की ओर से 26 जनवरी को मंजू डहेरिया के खिलाफ पैरोल से फरार होने की शिकायत दर्ज कराई थी। दरअसल कोविड के चलते मंजू डहेरिया को पैरोल मिला था। 26 जनवरी को उसे वापस सेंट्रल जेल पहुंचना था, लेकिन वह नहीं लौटा। तब से सिविल लाइंस पुलिस उसकी तलाश में जुटी थी।

मंजू डहेरिया को सिविल लाइंस पुलिस ने सिवनी से दबोचा।
मंजू डहेरिया को सिविल लाइंस पुलिस ने सिवनी से दबोचा।

हत्या के मामले में हो चुकी है सजा

टीआई के मुताबिक मंजू डहेरिया ने 23 वर्ष की उम्र में 2012 में सिवनी के बोरिया छपारा में एक हत्या कर दी थी। इस मामले में उसे 26 अप्रैल 2014 को अपर सत्र न्यायाधीश छिंदवाड़ा में हत्या, साजिश रचने और शव छुपाने का दोषी मानते हुए आजीवन कारावास, तीन साल के सश्रम कारावास और अर्थदंड से दंडित किया था। 18 दिसंबर 2016 को उसे जिला जेल सिवनी से केंद्रीय जेल जबलपुर में दाखिल किया गया था।

बाबू उर्फ लाडू चौधरी की गिरफ्तारी पर एसपी ने सात हजार रुपए का इनाम घोषित किया था।
बाबू उर्फ लाडू चौधरी की गिरफ्तारी पर एसपी ने सात हजार रुपए का इनाम घोषित किया था।

सात हजार का इनामी गिरफ्तार

सिविल लाइंस पुलिस ने इसी तरह चोरी के मामले में फरार छुई खदान निवासी बाबू उर्फ लाडू चौधरी को शुक्रवार 05 नवंबर को गिरफ्तार कर लिया। उसकी गिरफ्तारी पर एसपी ने 7 हजार रुपए का इनाम घोषित किया था। उसके खिलाफ 18 मई को आशीष यादव ने चोरी का मामला दर्ज कराया था। इस मामले में एक आरोपी अभिषेक उर्फ लाला विश्वकर्मा को पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर लिया था। तब से बाबू की तलाश जारी थी।