• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Black Turmeric Is Sold For 800 To Thousand Rupees, Farmers Of Tribal Belt Can Become Rich By Growing Black Turmeric

काली हल्दी उगाइए, मालामाल हो जाइए..:800 से एक हजार रुपए किलो में बिकती है, ट्राइबल बेल्ट के किसानों को सबसे ज्यादा फायदा देगी

मध्यप्रदेशएक वर्ष पहले

हल्दी हर घर की रोज खाने वाली स्पाइस है। पर पीली की बजाए काली हल्दी की खेती किसानों की किस्मत बदल सकती है। काली हल्दी विलुप्त श्रेणी में पहुंच गई है। भारत सरकार ने इसके व्यवसायिक उपयोग पर रोक लगा दी है। प्रदेश के सबसे बड़े कृषि विश्वविद्यालय को भारत सरकार के आयुष मंत्रालय ने 67 लाख रुपए का प्रोजेक्ट काली हल्दी के विकास की खातिर दिया है। काली हल्दी की खेती किसानों के लिए कैसे फायदेमंद हो सकती है? जानिए भास्कर खेती-किसानी सीरीज-25 में एक्सपर्ट डॉक्टर राधेश्याम शर्मा (वैज्ञानिक, जैव प्रौद्योगिकी, जवाहर लाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय) से

काली हल्दी इस तरह दिखती है।
काली हल्दी इस तरह दिखती है।

काली हल्दी का मार्केट वैल्यू सबसे अधिक

किसानों की सामान्य पीली हल्दी 60 से 100 रुपए प्रति किलो के भाव में बिकती है। वहीं काली हल्दी की कीमत 800 से एक हजार रुपए होती है। सबसे बड़ी बात ये कि वर्तमान में काली हल्दी बड़ी मुश्किल से मिल पाएगी। कोविड के बाद इसकी डिमांड काफी बढ़ गई है। इम्यूनिटी बुस्टर के तौर पर भी इसका उपयोग किया जाता है। काली हल्दी अपनी औषधीय गुणों के लिए प्रसिद्ध है। आयुर्वेद, होम्योपैथ और कई जरूरी ड्रग बनाने में इसका उपयोग होता है।

काली हल्दी की सबसे अच्छी किस्म विकसित करने में जुटा जेएनकेवी।
काली हल्दी की सबसे अच्छी किस्म विकसित करने में जुटा जेएनकेवी।

एमपी व छग काली हल्दी के लिए उपयुक्त

20 साल पहले एमपी का बालाघाट, अमरकंटक, मंडला, डिंडोरी जैसे आदिवासी बेल्ट और छत्तीसगढ़ में इसका बड़े पैमाने पर उत्पादन होता था। आदिवासी लोग इसका उपयोग खाने सहित आयुर्वेदिक उत्पाद बनाने में करते थे। अब इस क्षेत्र में भी ये नाम मात्र की बची है। काली हल्दी में करक्यूमिन सबसे अधिक पाई जाती है। इस कारण इसका व्यवसायिक डिमांड कहीं अधिक है। इसके अलावा काली हल्दी में ऑयल भी मिलता है, जो कई तरह से फायदेमंद है।

देश के अलग-अलग हिस्सों से 64 तरह के काली हल्दी पर चल रहा रिसर्च।
देश के अलग-अलग हिस्सों से 64 तरह के काली हल्दी पर चल रहा रिसर्च।

जेएनकेवी को ये मिला है प्रोजेक्ट

भारत सरकार के आयुष मंत्रालय की ओर से जवाहर लाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय के जैव प्रौद्योगिकी विभाग को काली हल्दी का प्रोजेक्ट मिला है। इसके लिए 67 लाख रुपए का फंड जारी हुआ है। जेएनकेवी इसका उत्पादन टिशू कल्चर से करने की तैयारी में है। विवि ने आदिवासी सहित देश के कई हिस्सों खासकर पूर्वोत्तर भारत में मिलने वाली काली हल्दी की प्रजाति लाकर रिसर्च शुरू की है। रिसर्च कर देखा जा रहा है कि किस प्रजाति की काली हल्दी में अधिक करक्यूमिन मिलता है। इसी तरह हल्दी ऑयल (कपूर जैसे सुगंध वाला) किस प्रजाति में अधिक मिलेगा।

जैव प्रौद्योगिकी विभाग कर रहा रिसर्च।
जैव प्रौद्योगिकी विभाग कर रहा रिसर्च।

व्यवसायिक उत्पादन के लिए किसानों को मिलेगा

रिसर्च के बाद काली हल्दी की सबसे अच्छी प्रजाति को मदर प्लांट के तौर पर टिशू कल्चर से विकसित किया जाएगा। इसके बाद एक वेरायटी को डेवपलेप किया जाएगा। फिर इसका रजिस्ट्रेशन कराकर किसानों तक पहुंचाएंगे। इसका बड़े स्तर पर उत्पादन करके किसान भी आत्मनिर्भर बन सकेंगे। अधिक उत्पादन कर काली हल्दी को लुप्त होने से बचा पाएंगे और इसका आयुर्वेदिक उपयोग भी हो सकेगा।

पॉली हाउस में लगाए हैं काली हल्दी के पौधे।
पॉली हाउस में लगाए हैं काली हल्दी के पौधे।

गंभीर बीमारियों में उपयोग

काली हल्दी सर्दी, खांसी, रक्तचाप में, माइग्रेन, सिरदर्द, दर्दनासक, इम्यूनिटी बुस्टर, कैंसर जैसी गंभीर बीमारी में इसका उपयोग होता है। बाजार उत्पादकता । बीज के तौर पर एक क्विंटल बीज लगता है। वहीं प्रति हेक्टयर 10 टन के लगभग उत्पादन होता है। रिसर्च के लिए पीएचडी शोधार्थी विनोद साहू ने काली हल्दी की कई प्रजातियों का कलेक्शन किया है। इसी में से किसी एक प्रजाति को आगे किसानों के लिए डेवलेप किया जाएगा।

भास्कर खेती-किसानी एक्सपर्ट सीरीज में अगली स्टोरी होगी ताजा एप से कैसे एक युवक बन गया आत्मनिर्भर, लोगाें तक ताजा सब्जी पहुंचा कर कमाई का नया फंडा। आपका कोई सवाल हो तो इस नंबर 9406575355 वॉट्सऐप पर मैसेज करें।

खेती से जुड़ी, ये खबरें भी पढ़िए:-

करियर का नया ट्रेंड किसान कंसल्टेंसी:जबलपुर में पिता-पुत्री का स्टार्टअप; किसानों की आमदनी बढ़ाने में मदद की, चार्ज- प्रॉफिट में हिस्सेदारी

टेरिस या छत पर उगाएं ऑर्गेनिक सब्जी:आईटी की नौकरी छोड़ युवक ने ‘केंचुआ ऑर्गेनिक’ नाम से खड़ी की कंपनी, किचन गार्डन-ऑर्गेनिक खेती की देते हैं टिप्स

बैक्टीरिया बनाएंगे पौधों के लिए खाद:MP की सबसे बड़ी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी ने 30 बैक्टीरिया खोजे, सूखे में भी पैदा करेंगे भरपूर फसल

खेत की मेड़ पर लगाएं चिरौंजी:JNKV ने टिशू कल्चर से चिरौंजी के 500 पौधे किए तैयार, 10 पेड़ से तीन लाख तक हो सकती है कमाई

फरवरी में लगाएं खीरा:दो महीने में होगी बम्पर कमाई, पॉली हाउस हैं, तो पूरे साल कर सकते हैं खेत

फरवरी में करें तिल की बुआई, नहीं लगेगा रोग:MP की सबसे बड़ी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी की चीफ साइंटिस्ट से जानें- कैसे यह खेती फायदेमंद

एक कमरे में उगाएं मशरूम:MP की सबसे बड़ी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी देती है ट्रेनिंग, 45 दिन में 3 बार ले सकते हैं उपज

मोदी का सपना पूरा करेगा MP का जवाहर मॉडल!:बोरियों में उगा सकेंगे 29 तरह की फसल-सब्जियां, आइडिया बंजर जमीन के साथ छत पर भी कारगर

बायो फर्टिलाइजर से बढ़ाएं पैदावार:प्रदेश की सबसे बड़ी कृषि यूनिवर्सिटी ने कमाल के जैविक खाद बनाए, कम खर्च में 20% तक बढ़ जाएगी पैदावार

जबलपुर के स्टूडेंट ने बनाया देश का सबसे बड़ा ड्रोन:30 लीटर केमिकल लेकर उड़ सकता है, 6 मिनट में छिड़क देता है एक एकड़ खेत में खाद

खबरें और भी हैं...