पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्लाज्मा डोनेट कर जान बचा रही खाकी:तीन गंभीर मरीजों की बचाई जान, रेडक्राॅस प्लाज्मा डोनेट करने वालों की लिस्ट तैयार कर रही ​​​​​​​

जबलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
टीआई केंट विजय तिवारी प्लाज्मा डोनेट करते हुए। - Dainik Bhaskar
टीआई केंट विजय तिवारी प्लाज्मा डोनेट करते हुए।

गैलेक्सी में ऑक्सीजन संकट के बीच जज्बा दिखा चुकी खाकी अब प्लाज्मा डोनेट कर उदाहरण पेश कर रही है। पुलिसकर्मियों ने तीन गंभीर मरीजों की जान प्लाज्मा डोनेट कर बचाई। अब जबलपुर मेडिकल कॉलेज में भी प्लाज्मा डोनेट के लिए कैम्प लगाया जा रहा है।

जानकारी के अनुसार सतना जिले से आई महिला और छिंदवाड़ा के पुरुष कोरोना से संक्रमित हैं। दोनों निजी अस्पताल में भर्ती हैं। उनकी हालत गंभीर है। डॉक्टर ने तत्काल प्लाज्मा चढ़ाने की जरूरत परिजनों को बताई। इसके बाद परिजन प्लाज्मा के लिए रेडक्राॅस पहुंचे। वहां से टीआई केंट विजय तिवारी और लाइन में पदस्थ आरक्षक रामकृष्ण शर्मा से संपर्क किया। दोनों लोगों का ब्लड ग्रुप बी पॉजिटिव है। दोनों तुरंत प्लाज्मा दान करने के लिए ब्लड बैंक पहुंचे। वहां प्लाज्मा का दान कर मानवता की मिसाल पेश की।

पुलिस लाइन में पदस्थ आरक्षक रामकृष्ण शर्मा प्लाज्मा डोनेट करते हुए।
पुलिस लाइन में पदस्थ आरक्षक रामकृष्ण शर्मा प्लाज्मा डोनेट करते हुए।

प्लाज्मा डोनेट करने से कमजोरी नहीं आती
आरक्षक रामकृष्ण शर्मा के मुताबिक प्लाज्मा डोनेट करने को लेकर कई लोगों में भ्रांतियां हैं। प्लाज्मा डोनेट करने से ना डरें। इससे कमजोरी नहीं आती और न ही संक्रमित होंगे। कोरोना पीड़ितों की जान जरूर बचाई जा सकती है। आरक्षक रामकृष्ण शर्मा के मुताबिक उनके सोशल अकाउंट में मदद का मैसेज आया था।

दो दिन पहले एसआई ने दिया प्लाज्मा
ओमती थाने में पदस्थ एसआई सतीश झारिया ने दो दिन पहले लाइफ केयर अस्पताल में भर्ती एक मरीज को प्लाज्मा डोनेट किया। एसआई झारिया के मुताबिक संक्रमित की हालत गंभीर थी। मैसेज मिलने पर वह प्लाज्मा डोनेट करने पहुंचे थे। रेडक्राॅस में उन्होंने अपना नंबर लिखवा रखा है। इससे जरूरतमंद की जान बचाने में मदद हो सकेगी।

ओमती थाने में पदस्थ एसआई सतीश झारिया प्लाज्मा डोनेट करते हुए।
ओमती थाने में पदस्थ एसआई सतीश झारिया प्लाज्मा डोनेट करते हुए।

मेडिकल कॉलेज अस्पताल में प्लाज्मा थेरेपी का लिया निर्णय
रेमडेसिविर इंजेक्शन की किल्लत को देखते हुए जबलपुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल ने गंभीर मरीजों को प्लाज्मा थेरेपी देने का निर्णय लिया है। रविवार 25 अप्रैल को मेडिकल कॉलेज अस्पताल में प्लाज्मा डोनेशन कैम्प लगाने का निर्णय लिया है। यह मेडिसिन विभाग की ओपीडी नंबर एक में सुबह 11 बजे से दोपहर एक बजे तक लगेगा। चिकित्सकों के मुताबिक कोरोना से संक्रमित होकर स्वस्थ हो चुका व्यक्ति एक माह में प्लाज्मा डोनेट कर सकता है।

खबरें और भी हैं...