• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Organizing Kisan Mahapanchayat To Garner Support Against Agricultural Laws, Rakesh Tikait Of Bhakiyu Will Be Involved

जबलपुर में किसान महापंचायत 15 को:कृषि कानूनों के खिलाफ समर्थन जुटाने किसान महापंचायत का आयोजन, भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत होंगे शामिल

जबलपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्त राकेश टिकैत 15 मार्च को जबलपुर के सिहोरा में किसान पंचायत करेंगे। - Dainik Bhaskar
भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्त राकेश टिकैत 15 मार्च को जबलपुर के सिहोरा में किसान पंचायत करेंगे।
  • सिहोरा में होगी रैली और फिर कृषि मंडी में जनसभा का आयोजन
  • कांग्रेस ने दिया किसान महापंचायत को समर्थन, गांव-गांव जुटाया जा रहा समर्थन

दिल्ली का किसान आंदोलन अब मध्यप्रदेश में भी पांव पसार रहा है। किसान आंदोलन के प्रमुख चेहरे के तौर पर उभरे राकेश टिकैत अब मप्र में समर्थन जुटाने पहुंच रहे हैं। आठ मार्च को शिवपुरी, 14 मार्च को रीवा और 15 मार्च को जबलपुर के सिहोरा में किसान महापंचायत का आयोजन किया जा रहा है। तीनों ही किसान महापंचायत में राकेश टिकैत शामिल होंगे। सिहोरा में ट्रैक्टर रैली के साथ सभा होगी।

जानकारी के अनुसार किसान आंदाेलन के बहाने कांग्रेस अपनी खोई हुई राजनीतिक जमीन भी तलाशने में जुटी है। सिहोरा में होने वाली किसान पंचायत को कांग्रेस ने समर्थन दिया है। कांग्रेस नेता और पनागर से विधानसभा चुनाव में किस्मत आजमा चुके सम्मति सैनी ने बताया कि देश भर में केंद्र सरकार के कृषि बिलों का विरोध हो रहा है। बावजूद केन्द्र सरकार अपने कदम पीछे लेने को तैयार नहीं है। देश भर में किसानों में केन्द्र सरकार के प्रति भारी नाराजगी है। यही कारण है कि कांग्रेस इस आंदोलन को अपना समर्थन दे रही है।
रैली के बाद सभा का आयोजन
भारतीय किसान यूनियन के संभागीय अध्यक्ष रमेश पटेल के मुताबिक किसान आंदोलन को लेकर सिहोरा में गहरी नाराजगी है। यह किसानों की भूमि है और यहां पूर्व में भी बड़ी सभाएं हो चुकी हैं। 15 मार्च को एक बार फिर किसान बड़ी संख्या में पहुंच कर अपनी ताकत दिखाएंगे। यहां का किसान अपने हक के लिए हमेशा से मुखर रहा है। इस किसान महापंचायत में किसानों को शामिल होने के लिए गांव-गांव न्यौता दिया जा रहा है।
निकल चुकी है जोरदार ट्रैक्टर रैली
किसान बिल के खिलाफ शहर व आसपास एक महीने में कई प्रदर्शन व विरोध के आयोजन हुए हैं। इसमें शहर में ही 3 ट्रैक्टर रैलियों, सभा और बरेला, पनागर, सिहोरा, पाटन में हुए विरोध प्रदर्शन मुख्य हैं। सभी रैलियों में किसानों ने बढ़-चढ़ कर भागीदारी दिखाई है। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत के आगमन को लेकर जहां प्रशासन की चिंता बढ़ गई है। वहीं किसानों में उन्हें सुनने की उत्सुकता देखी जा रही है।

खबरें और भी हैं...