पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Maharani Jiteshwari Devi Arrested For Pointing Pistol At Rajmata, Said Taking Advantage Of Maharaj's Illness, Action Under Conspiracy

पन्ना राजपरिवार का संपत्ति विवाद:राजमाता पर पिस्टल तानने के आरोप में महारानी जीतेश्वरी देवी गिरफ्तार, बोलीं- महाराज की बीमारी का फायदा उठाकर साजिश के तहत कार्रवाई

पन्ना2 महीने पहले
महारानी जीतेश्वरी देवी को गिरफ्तार कर ले जाती पवई पुलिस।

पन्ना राजपरिवार की संपत्ति के मालिकों का आपसी विवाद एक बार फिर सामने आया है। पवई पुलिस ने पन्ना महारानी जीतेश्वरी देवी को राजमाता दिलहर कुमारी पर पिस्टल तानने और मारपीट करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। पुलिस ने महारानी को न्यायालय में पेश किया है। गिरफ्तारी के बाद महारानी जीतेश्वरी देवी ने कहा कि महाराज की बीमारी का फायदा उठाकर साजिश के तहत कार्रवाई की जा रही है।

क्या आप भास्कर की निर्भीक पत्रकारिता के साथ हैं? जवाब देने के लिए क्लिक कीजिए...

पन्ना राज परिवार की सबसे वरिष्ठ सदस्य राजमाता दिलहर कुमारी की शिकायत पर पुलिस ने महारानी जीतेश्वरी देवी, उनके पति महाराज राघवेंद्र सिंह, बेटा, बेटियों और अन्य सहयोगियों के खिलाफ आर्म्स एक्ट, घर में अवैध प्रवेश, गालीगलौज, धमकी सहित विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है।

पन्ना राजपरिवार का संपत्ति विवाद कोई नई बात नहीं है। बीते डेढ़ दशक से यह विवाद चल रहा है। परिवार के कई वरिष्ठ सदस्य आमने-सामने आते रहे हैं, लेकिन महाराजा की मौत के बाद कुछ दिनों के लिए शांत यह विवाद एक बार फिर सामने आया है।

पन्ना महारानी जीतेश्वरी देवी को गिरफ्तार करती पुलिस।
पन्ना महारानी जीतेश्वरी देवी को गिरफ्तार करती पुलिस।

संपत्ति को लेकर पन्ना का सबसे प्रतिष्ठित परिवार बीते दो दशक से एक दूसरे का दुश्मन बना हुआ है। इसके पहले भी कई बार ऐसी मारपीट, गालीगलौज संपत्ति हड़पने के आरोप लगते और लगाते रहे हैं। कुछ साल पहले ही राजमाता दिलहर कुमारी की रिपोर्ट पर हुई शिकायत में तबके युवराज और अब महाराजा राघवेंद्र सिंह 1 साल तक तिहाड़ जेल में बन्द रह चुके हैं।

मामले में पन्ना पुलिस अधीक्षक धर्मराज मीणा ने कहा कि आरोपियों के खिलाफ कोतवाली थाने में मामला रजिस्टर्ड किया गया है। पहले भी एक आरोपी को गिरफ्तार करके न्यायालय में पेश किया गया था। जहां से उसे जेल भेजा जा चुका है। आज एक और आरोपी की गिरफ्तारी पवई से हुई है। उसे भी न्यायालय में पेश कर रहे हैं।

15 सालों से चल रहा है विवाद

पन्ना राजघराने के सदस्यों में संपत्ति का विवाद 2005- 2006 से चल रहा है। पन्ना के दिवंगत महाराजा मानवेंद्र सिंह के निधन के बाद उनके इकलौते पुत्र राघवेंद्र सिंह ने पन्ना राजघराने की गद्दी संभाली थी। जिसके बाद से ही राघवेंद्र सिंह की पत्नी जीतेश्वरी देवी और उनकी माता दिलहर कुमारी के बीच में संपत्ति को लेकर विवाद चल रहा है।

पहला कारण

संपत्ति विवाद का एक कारण पन्ना राजा राघवेंद्र सिंह के पिता मानवेंद्र सिंह और उनकी बहनों की संपत्ति से जुड़ा हुआ है। दिवंगत महाराज मानवेंद्र सिंह के एक भाई और दो बहनें थी। उनके भाई लोकेंद्र सिंह पन्ना से सांसद और विधायक रह चुके हैं। उनकी दोनों बहनें पन्ना में ही रहती थीं। उनकी कोई औलाद नहीं है। बंटवारे में लोकेंद्र सिंह का हिस्सा उन्हें दिया जा चुका है। जबकि दोनों बहनों के हिस्से में राजमाता का दावा है कि उनकी ननदों की संपत्तियों पर उनका अधिकार है। जबकि महारानी जीतेश्वरी देवी का कहना है कि अब वह पन्ना की महारानी है। इसलिए राज परिवार की सभी संपत्तियों पर सिर्फ और सिर्फ उनका अधिकार है।

दूसरा कारण

विवाद का दूसरा कारण राजा राघवेंद्र सिंह की बहन कृष्णा राजे हैं। जिनका अपने पति से तलाक हो चुका है। वह पन्ना में अपनी मां राजमाता दिलहर कुमारी के साथ रहती हैं। राजमाता का दावा है कि दिवंगत महाराजा मानवेन्द्र सिंह की सभी संपत्तियों के आधे भाग पर कृष्णा राजे का हिस्सा है और शेष आधे पर राघवेंद्र सिंह का हिस्सा है, लेकिन महारानी कृष्णा राजे की संपत्ति को भी अपनी संपत्ति मानती हैं। जिसका विवाद चल रहा है।

हीरे का एक हार

महल के सूत्रों की माने तो विवाद का तीसरा कारण हीरे का एक हार है। जिसमें बहुमूल्य हीरे जड़ित है। जो बीते दिनों रहस्यमयी तरीके से गायब हो गया था। जिसपर राजमाता और महारानी के बीच जमकर विवाद हुआ था। इसी विवाद के बीच बचाव में धक्का लगने के कारण पन्ना महाराज सीढ़ियों से गिरकर घायल हो गए थे और बीमार चल रहे हैं। बीते दिनों जगन्नाथ रथयात्रा में महाराज की जगह युवराज ने रथ की आगवानी की थी।

तिहाड़ जेल की हवा खा चुके हैं पन्ना महाराज

पन्ना महाराज राघवेंद्र सिंह तिहाड़ जेल की हवा खा चुके हैं। उन्हें उनकी माता दिलहर कुमारी ने पैसों के गबन की शिकायत पर जेल भेजवाया था। वह तकरीबन 1 साल तिहाड़ जेल में रहे। उसके बाद उनकी जमानत हुई थी। पन्ना महाराज पर आरोप था कि उन्होंने अपने पिता के फर्जी हस्ताक्षर कर चेक से एक करोड़ निकाल लिए थे। जिसकी शिकायत उनकी मां ने पुलिस से की थी और बेटे को जेल भेजवा दिया था।

खबरें और भी हैं...