तस्करी में मां-बेटा अरेस्ट:ओड़िशा से गांजा लेकर बाइक से जबलपुर आ रहे थे, बैग और सीट के नीचे भर रखा था 15kg गांजा

जबलपुर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बाइक के सीट कवर के नीचे 7 किलो गांजा छुपाया था। - Dainik Bhaskar
बाइक के सीट कवर के नीचे 7 किलो गांजा छुपाया था।

क्राइम ब्रांच और तिलवारा पुलिस ने गांजा तस्कर मां-बेटे को गिरफ्तार किया है। दोनों बिना नंबर की बाइक से ओड़िशा से 15 किलो 100 ग्राम गांजा लेकर जबलपुर पहुंचे थे। आरोपियों ने बैग के अलावा बाइक की सीट कवर के नीचे गांजा छुपाया था। तिलवारा पुलिस ने दोनों के खिलाफ NDPS एक्ट का प्रकरण दर्ज किया है।

ASP शिवेश सिंह बघेल के मुताबिक, मुखबिर से मां-बेटे के बारे में जानकारी मिली थी। मां-बेटा गांजा लेकर तिलवारा घाट में किसी ग्राहक के इंतजार में खड़े थे, तभी तिलवारा थाना प्रभारी DSP राहुल सैयाम और उनकी टीम ने मौके पर दबिश देकर दोनों को दबोच लिया। दोनों तिलवाराघाट में कालीजी की मूर्ति के सामने पुराने बड़े पुल के नीचे खड़े थे।

बिना नंबर की बाइक से मां-बेटा ओड़िशा से लेकर जबलपुर पहुंचे थे गांजा।
बिना नंबर की बाइक से मां-बेटा ओड़िशा से लेकर जबलपुर पहुंचे थे गांजा।

कटंगी के रहने वाले हैं मां-बेटा

दोनों की पहचान निदान फॉल कटंगी निवासी पुखराज लोधी और उसकी मां दशोदा बाई लोधी के रूप में हुई। बिना नम्बर की बाइक के रैगजीन बैग और मोटरसाइकिल की शीट की रैगजीन के अंदर और बैग में 4 खाकी रंग के पैकेट टेप कुल 15 किलो 100 ग्राम गांजा जब्त किए। इसकी कीमत 1.50 लाख रुपए बताई जा रही है।

आरोपियों ने बैग में और डिक्की में 8 किलो गांजा छुपाया था।
आरोपियों ने बैग में और डिक्की में 8 किलो गांजा छुपाया था।

12 हजार रुपए भी मिले

जशोदा बाई के पास से 11 हजार 990 मिले। टीम ने पैसे के साथ बाइक और गांजा जब्त कर लिए। प्रकरण में NDPS एक्ट का प्रकरण दर्ज कर पुलिस पूछताछ में जुटी है। आरोपियों ने ओड़िसा से बाइक से गांजा लाना स्वीकार किए हैं। इससे पहले 5 अक्टूबर की रात रोहाणी ट्रैवल्स की बस से लाया जा रहा 19 किलो और सिहोरा पुलिस द्वारा तीन किलो गांजा जब्त किया गया था।

खबरें और भी हैं...