• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • The Fraudster Took The Aadhaar Number Of The Merchant Of Jabalpur, Took A Photo Of Someone Else And Cheated The Merchant Of Jodhpur By Taking A Mobile SIM From Sagar.

राजस्थान में ठगी का MP कनेक्शन:जालसाज ने आधार नंबर जबलपुर के व्यापारी का लिया, फोटो किसी और का लगाया और सागर से मोबाइल सिम लेकर जोधपुर के व्यापारी को ठग लिया

जबलपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ऑनलाइन फ्रॉड। - Dainik Bhaskar
ऑनलाइन फ्रॉड।
  • जोधपुर पुलिस की एक टीम पहुंची जबलपुर जांच करने, व्यापारी के बयान दर्ज कर वापस लौटी

राजस्थान के जोधपुर में एक व्यापारी से हुई ठगी का एमपी कनेक्शन सामने आया है। इसी कनेक्शन की जांच करने जोधपुर की पुलिस पहले सागर और फिर जबलपुर पहुंची थी। जोधपुर पुलिस की टीम ने शहर के हनुमानताल क्षेत्र स्थित शुक्रवारी बजरिया में एक जैन व्यापारी से पूछताछ की है। उसका बयान दर्ज कर टीम लौट गई।

शुक्रवार बजरिया में कपड़ा व्यापारी जैन सरनेम के दुकानदार से जोधपुर की पुलिस पूछताछ करने पहुंची थी। हनुमानताल टीआई उमेश गोल्हानी के मुताबिक कपड़ा व्यापारी के आधार कार्ड नंबर का प्रयोग एक ठगी में हुआ है। इसी के सिलसिले में टीम पूछताछ करने जबलपुर आई थी। हालांकि कपड़ा व्यापारी की संलिप्तता नहीं मिलने पर टीम बयान दर्ज कर लौट गई।

ये है पूरा मामला

जोधपुर पुलिस अधिकारी रूप सिंह के मुताबिक जोधपुर के एक बड़े व्यापारी से ऑनलाइन ठगी हुई है। इस ठगी में उक्त पीड़ित व्यापारी के बैंक खाते से ऑनलाइन खरीदी कर भुगतान किया गया है। जालसाज ने ऑनलाइन खरीदी करने के लिए जो मोबाइल नंबर का प्रयोग किया, उसका सिम सागर जिले से जारी हुआ है। इसी सिम की कड़ी को जोड़ते हुए जोधपुर की पुलिस पहले सागर पहुंचा। वहां सिम जारी करने वाले एजेंट के बयान दर्ज किए और फिर सिम लेने के लिए लगाए गए आधार कार्ड के एड्रस को ढूंढ़ते हुए जबलपुर पहुंची थी।

सिम लेने के लिए भी जालसाज ने किया फर्जीवाड़ा

जोधपुर पुलिस अधिकारी रूप सिंह के मुताबिक ठगी में प्रयुक्त मोबाइल सिम नंबर आधार कार्ड पर जारी कराया गया था। संचार कंपनी से आधार कार्ड धारी का एड्रस निकलवाया गया तो वह जबलपुर का निकला। इसी की जांच करने टीम जबलपुर आई थी। टीम ने जब व्यापारी के आधार कार्ड का मिलान किया तो फोटो में अंतर मिला। दरअसल फर्जी सिम लेने के लिए जो आधार कार्ड लगाया गया था, उसकी फोटो और जबलपुर के कपड़ा व्यापारी के आधार कार्ड के फोटो में अंतर है। उनका नंबर एक समान है। जालसाज ने कपड़ा व्यापारी के आधार कार्ड नंबर का प्रयोग करते हुए किसी और के फोटाे का प्रयोग कर सिम खरीदी है।

कपड़ा व्यापारी का दावा कि वह कभी सागर गया ही नहीं

इस मामले में एक और दिलचस्प पहलू ये है कि जबलपुर के कपड़ा व्यापारी ने बयान में बताया है कि वह कभी सागर गया ही नहीं है। फिर वहां से मोबाइल सिम खरीदने की जरूरत ही क्या पड़ेगी। उसके आधार कार्ड का दुरुपयोग करते हुए किसी जालसाज ने ये फर्जीवाड़ा किया है। जोधपुर के व्यापारी के खाते से 19 हजार रुपए के लगभग ऑनलाइन खरीदी होने का प्रकरण है। पर व्यापारी के रसूख के चलते जोधपुर पुलिस जांच में जुटी है।

खबरें और भी हैं...