• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • On The Arrest Of Union Minister Narayan Rane In Maharashtra, Only An Impotent And Fearful Government Can Do Such An Act

नारायण राणे की गिरफ्तारी पर बिफरे मंत्री भार्गव:महाराष्ट्र में केंद्रीय मंत्री को हिरासत में लेने पर बोले- ऐसा काम नपुंसक और भयभीत सरकार ही कर सकती है..

जबलपुर3 महीने पहले
गोपाल भार्गव ने महाराष्ट्र प्रकरण में तीखा हमला बोला।

महाराष्ट्र में आशीर्वाद यात्रा के दौरान एक बयान के चलते गिरफ्तार केंद्रीय मंत्री नारायण राणे को लेकर MP सरकार के कैबिनेट मंत्री गोपाल भार्गव ने महाराष्ट्र की उद्धव सरकार पर तीखी टिप्पणी की है। मंत्री गोपाल भार्गव ने कहा कि खाना खाते वक्त किसी को जलील करते हुए गिरफ्तार करवाना मैं मानता हूं कि एक नपुंसक और भयभीत सरकार का ही कृत्य हो सकता है। यह काम किसी लोकतांत्रिक सरकार का नहीं।

गोपाल भार्गव जबलपुर जिले के प्रभारी मंत्री भी हैं। बुधवार को जबलपुर में दैनिक भास्कर ने उनसे सवाल किए थे। मंत्री गोपाल भार्गव ने कहा कि ये गलत है। संवैधानिक दृष्टि से भी एक केंद्रीय मंत्री को इस तरह गिरफ्तार नहीं किया जा सकता है। राणे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। महाराष्ट्र सरकार के इशारे पर यह सब हुआ है।

महाराष्ट्र के पूर्व सीएम और मौजूदा केंद्रीय मंत्री नारायण राणे की गिरफ्तारी पर सियासत जारी।
महाराष्ट्र के पूर्व सीएम और मौजूदा केंद्रीय मंत्री नारायण राणे की गिरफ्तारी पर सियासत जारी।

ये है पूरा मामला
महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर वर्ष का उच्चारण गलत बोल गए थे। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए केंद्रीय मंत्री नारायण राणे ने आशीर्वाद यात्रा के दौरान कह दिया कि मैं वहां मौजूद रहता तो एक जोरदार थप्पड़ मारा होता। इस बयान ने राजनीतिक रूप से तूल पकड़ लिया। ठाणे की नौपाड़ा पुलिस ने केंद्रीय मंत्री के खिलाफ FIR दर्ज करते हुए उन्हें रत्नागिरी से उस समय गिरफ्तार कर लिया, जब वे भोजन कर रहे थे। कोर्ट से उन्हें मंगलवार की रात को ही जमानत भी मिल चुकी है।

शिवसेना कोटे से ही बने थे CM
नारायण राणे पूर्व में शिवसेना में रह चुके हैं। वह 1999 में शिवसेना-भाजपा गठबंधन से महाराष्ट्र के CM भी बने थे। पर उद्धव ठाकरे से मतभेदों के चलते उन्होंने पार्टी छोड़ दी थी। कांग्रेस से होकर वर्तमान में वह भाजपा के सांसद हैं और पिछले दिनों मोदी कैबिनेट में मंत्री भी बनाए गए हैं। नारायण राणे और उद्धव ठाकरे के बीच 25 सालों से छत्तीस का आंकड़ा रहा है। कोंकड से आने वाले नारायण राणे दिग्गज मराठा नेता हैं। अपनी आक्रामकता के लिए वह जाने जाते हैं।

खबरें और भी हैं...