हाईकोर्ट की कार्यवाही:अभ्यावेदन के निराकरण तक मकान को तोड़ने पर यथास्थिति का आदेश

जबलपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हाईकोर्ट ने कहा- कारण सहित पारित करो निर्णय

मप्र हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस मोहम्मद रफीक और जस्टिस संजय द्विवेदी की डिवीजन बैंच ने याचिकाकर्ता के अभ्यावेदन के निराकरण तक नेपियर टाउन स्थित उसके मकान तोड़ने पर यथास्थिति का आदेश दिया है। डिवीजन बैंच ने याचिका का निराकरण करते हुए नगर निगम आयुक्त को चार सप्ताह में अभ्यावेदन का कारण सहित निराकरण करने का निर्देश दिया है।

यह है मामला

यह याचिका नेपियर टाउन निवासी रिचर्ड एरिक रॉबिन्सन ने दायर की थी। याचिका में बताया गया कि वे वर्तमान में ऑस्ट्रेलिया में प्रोफेसर के पद पर कार्यरत हैं। नेपियर टाउन में उन्होंने जमीन खरीदी थी। नगर निगम से नक्शा पास कराने और अनुमति लेने के बाद उन्होंने मकान का निर्माण किया है। नगर निगम के भवन अधिकारी ने 7 अप्रैल 2021 को उन्हें नोटिस देकर कहा कि उनका निर्माण अवैध है। तीन दिन के भीतर यदि मकान के दस्तावेज प्रस्तुत नहीं किए जाते हैं तो उनका मकान तोड़ दिया जाएगा।

याचिकाकर्ता के पास सभी दस्तावेज मौजूद

वरिष्ठ अधिवक्ता ब्रायन डिसिल्वा और अधिवक्ता अभिषेक दिलराज ने तर्क दिया कि याचिकाकर्ता के पास जमीन के स्वामित्व और मकान निर्माण के लिए नगर निगम की अनुमति के सभी दस्तावेज हैं। इसके बाद भी उन्हें परेशान किया जा रहा है। राज्य सरकार की ओर से उपमहाधिवक्ता स्वप्निल गांगुली और नगर निगम की ओर से अधिवक्ता हरप्रीत सिंह रूपराह हाजिर हुए। सुनवाई के बाद डिवीजन बैंच ने याचिकाकर्ता के अभ्यावेदन के निराकरण तक मकान तोड़ने पर यथास्थिति का आदेश दिया है।

खबरें और भी हैं...