• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Mindlogics Infratech Company Terminate, Withdrawal Of Deputation Of Exam Controller And Deputy Registrar, Babu Of Confidential Department Suspended

MP मेडिकल यूनिवर्सिटी में पास-फेल का मामला:रिजल्ट बनाने वाले माइंडलॉजिक्स इंफ्राटेक कंपनी टर्मिनेट, एग्जाम कंट्रोलर और उप कुलसचिव की प्रतिनियुक्ति वापस ली, गोपनीय विभाग का बाबू निलंबित

जबलपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मप्र आयुर्विज्ञान विश्वविद्याल में परीक्षा धांधली को लेकर बड़ी कार्रवाई हुई। - Dainik Bhaskar
मप्र आयुर्विज्ञान विश्वविद्याल में परीक्षा धांधली को लेकर बड़ी कार्रवाई हुई।

मध्यप्रदेश मेडिकल यूनिवर्सिटी में पास-फेल करने के मामले में बड़ी कार्रवाई की गई। रिजल्ट बनाने वाली ठेका कंपनी माइंडलाॅजिक्स इंफ्राटेक को टर्मिनेट कर दिया गया है। गाेपनीय विभाग के बाबू नीलेश जायसवाल को निलंबित कर दिया गया। जांच में घिरी इंदौर मेडिकल कॉलेज से प्रतिनियुक्ति पर आई एग्जाम कंट्रोलर डॉक्टर वृंदा सक्सेना की प्रतिनियुक्ति सेवा समाप्त कर दी गई है। वहीं उपकुलसचिव(अतिरिक्त प्रभार) डॉ. तृप्ति गुप्ता को भी उनके मूल विभाग में वापस कर दिया गया। चिकित्सा शिक्षा विभाग के निर्देशों पर यूनिवर्सिटी में कराई गई जांच में परीक्षा और गोपनीय विभाग की धांधली उजागर हुई थी।

सोमवार को मेडिकल यूनिवर्सिटी में परीक्षा गड़बड़ियों को लेकर की गई कार्रवाई के साथ प्रशासनिक प्रभार में भी बदलाव किया गया। एग्जाम कंट्रोलर डॉक्टर वृंदा सक्सेना को हटाए जाने के बाद उप कुलसचिव प्रो. वीवी सिंह को परीक्षा नियंत्रक का प्रभार सौंपा गया है। कुछ दिन पहले ही कुलपति डॉक्टर टीएन दुबे ने परीक्षा नियंत्रक के पर कतरते हुए प्रो. वीवी सिंह को परीक्षा एवं गोपनीय विभाग में अहम जिम्मेदारी सौंपी थी। इस फेरबदल में विवि में उपकुलसचिव (अतिरिक्त प्रभार) डॉ. तृप्ति गुप्ता की प्रतिनियुक्ति पर ली गई सेवा भी चिकित्सा शिक्षा विभाग को वापस कर दी गई है।

मेडिकल विश्वविद्यालय की परीक्षा में धांधली पर बड़ी कार्रवाई।
मेडिकल विश्वविद्यालय की परीक्षा में धांधली पर बड़ी कार्रवाई।

परीक्षा में बड़ी धांधली आई थी सामने, पास-फेल का हुआ था खेल

मेडिकल विवि में रिजल्ट बनाने वाली कंपनी माइंडलॉजिक्स इंफ्राटेक ने सॉफ्टवेयर में बदलाव कर एग्जाम कंट्रोलर डॉक्टर वृंदा सक्सेना और गापेनीय विभाग के बाबू नीलेश जायसवाल के निजी ईमेल अंक भेजे थे। उनके कहने पर छात्रों के अंक में बदलाव किए गए। कोविड के चलते एग्जाम कंट्रोलर अवकाश पर रहीं, तब भी उनके निजी मेल पर परीक्षा परिणाम भेजे गए और उसमें बदलाव किए गए। कई ऐसे छात्रों को पास कर दिए, जो फेल थे। वहीं परीक्षा में न शामिल होने वाले भी कुछ छात्र को पास कर दिए गए।

मेडिकल यूनिवर्सिटी में रिजल्ट फर्जीवाड़ा:सॉफ्टवेयर कंपनी ने आईपी एड्रेस की जगह मेक एड्रेस किया रजिस्टर, जांच समिति ने SQL फाॅर्मेट में डाटा मांगा, दे दिया एक्सल में

ऐसे हुआ परीक्षा परिणामों में धांधली का खुलासा

अप्रैल में कोरोना संक्रमित होने पर प्रभारी एग्जाम कंट्रोलर डॉ. वृंदा सक्सेना अवकाश पर थीं। तब अन्य अधिकारी को परीक्षा नियंत्रक का प्रभार सौंपा गया, लेकिन अवकाश पर रहते हुए परीक्षा नियंत्रक ने डेंटल और नर्सिंग पाठ्क्रम के प्रेक्टिकल परीक्षा के अंकों में बदलाव के लिए माइंडलॉजिक्स कंपनी को ई-मेल किया। यही नंबर कंपनी के असिस्टेंट मैनेजर सुधीर शर्मा ने पोर्टल में दर्ज किए। अंकों में परिवर्तन से पूर्व कंपनी ने न तो तत्कालीन प्रभारी परीक्षा नियंत्रक और न ही कुलपति से अनुमोदन प्राप्त किया। इसी शिकायत पर कुलसचिव डॉक्टर जेके गुप्ता की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय समिति ने जांच की तो निजी कंपनी की परीक्षा परिणाम की प्रक्रिया में कई गड़बड़ी उजागर हुई।

अब MP की मेडिकल यूनिवर्सिटी में फर्जीवाड़ा:परीक्षा में नहीं बैठने वाले भी हो गए पास; छुट्‌टी पर होते हुए भी एग्जाम कंट्रोलर ने नंबर बदलवाए

परीक्षा नियंत्रक की संलिप्तता आई सामने

इस मामले में गठित जांच समिति ने माइंडलॉजिक्स कंपनी के सिस्टम की जांच के लिए राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय से 3 आईटी विशेषज्ञ बुलवाए। इन विशेषज्ञों को जांच में सहयोग के लिए परीक्षा नियंत्रक डॉ. वृंदा सक्सेना को निर्देश दिए गए, लेकिन वे सरकारी कार्य का हवाला देकर भोपाल चली गईं। जांच समिति ने रिपोर्ट में कहा है कि नियंत्रक ने आईटी विशेषज्ञों को कंपनी से आवश्यक जानकारी उपलब्ध नहीं कराई और न ही अपना प्रभार किसी को सौंपा।

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने दिए थे जांच के निर्देश

छात्रनेता अंशुल सिंह, शुभम, संदेश, हीरेंद्र सहित अन्य ने इस मामले की चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग से मिलकर व्यापम की तर्ज पर परीक्षा घोटाला का आरोप लगाया था। आरोपों में कहा गया कि एमयू से परीक्षा को लेकर अनुबंधित कंपनी माइंडलॉजिक्स कंपनी ने पास-फेल का खेल रचा है। आश्चर्यजनक तरीके से उपस्थित छात्र फेल और अनुपस्थित पास हो गए। मार्क्स एंट्री पोर्टल में नंबर में भी फेरबदल किया गया। इस पर मंत्री सारंग ने दो जून को जांच के निर्देश दिए थे। मामले में विवि के कुलसचिव डॉक्टर जेके गुप्ता, वित्त नियंत्रक आरएस डेकाटे और लेखाधिकारी राकेश चौधरी के साथ भोपाल से तीन तकनीकी विशेषज्ञों को जांच समिति में नामित किया गया था।

रिजल्ट बनाने वाली ठेका कंपनी को भी किया गया टर्मिनेट।
रिजल्ट बनाने वाली ठेका कंपनी को भी किया गया टर्मिनेट।

रिपोर्ट में इन बिंदुओं पर धांधली की हुई थी पुष्टि

  • जांच के दौरान सरकारी कार्य पर भोपाल जाने का आदेश परीक्षा नियंत्रक ने समिति के समाने पेश नहीं किया।
  • कॉलेजों के साथ साठगांठ कर अंकाें में फेरबदल की मौखिक शिकायत समिति को मिली है।
  • परीक्षा परिणाम जारी होने से पहले ही एक कर्मी के पास रिजल्ट का ब्योरा आने से गोपनीयता भंग हुई।
  • कर्मचारी के खिलाफ एक पेमेंट ऐप पर छात्रों से रुपए मांगने की मौखिक शिकायत समिति को मिली।
  • परीक्षा विभाग के एक आउटसोर्स कर्मी के खाते में ई-वॉलेट के माध्यम से पैसे भेजे जाने की शिकायत मिली।

MP की मेडिकल यूनिवर्सिटी में खेला:एग्जाम कंट्रोलर को हटाकर 24 घंटे में फिर बहाल किया, भोपाल से फोन आने पर कुलपति ने बदला आदेश

जांच रिपोर्ट पर हटाई गईं एग्जाम कंट्रोलर 24 घंटे में हो गई थी बहाल

इस मामले की जांच रिपोर्ट सामने आने के बाद कुलपति के आदेश पर कुलसचिव ने 18 जून को एग्जाम कंट्रोलर डाॅक्टर वृंदा सक्सेना को पद से हटा दिया था। पर भोपाल के एक अधिकारी के दबाव और कुछ राजनीतिक दखलअंदाजी के चलते कुलपति को अपने आदेश 24 घंटे में बदलने पड़ गए थे। इसे लेकर कुलपति की काफी किरकिरी भी हुई थी। पर सोमवार को हुई इस कार्रवाई ने विश्वविद्यालय से लेकर भोपाल तक हड़कंप मचा दिया है।
मप्र आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा कार्रवाई से संबंधित जारी आदेश पत्र-

माइंडलॉजिक्स कंपनी का टर्मिनेशन लेटर।
माइंडलॉजिक्स कंपनी का टर्मिनेशन लेटर।
एग्जाम कंट्रोलर डॉक्टर वृंदा सक्सेना को हटाया गया। मूल विभाग में वापस भेजा गया।
एग्जाम कंट्रोलर डॉक्टर वृंदा सक्सेना को हटाया गया। मूल विभाग में वापस भेजा गया।
एग्जाम कंट्रोलर का प्रभारी प्रो. वीवी सिंह को सौंपने संबंधी आदेश पत्र।
एग्जाम कंट्रोलर का प्रभारी प्रो. वीवी सिंह को सौंपने संबंधी आदेश पत्र।
उप कुलसचिव डॉक्टर तृप्ति गुप्ता मूल विभाग में वापस।
उप कुलसचिव डॉक्टर तृप्ति गुप्ता मूल विभाग में वापस।
गोपनीय विभाग का बाबू नीलेश जायसवाल के निलंबन संबंधी आदेश पत्र।
गोपनीय विभाग का बाबू नीलेश जायसवाल के निलंबन संबंधी आदेश पत्र।
खबरें और भी हैं...