• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Mouse And 17 Cartridges Seized From The Henchmen Of The Vicious Crook Who Was Murdered Three Years Ago

जबलपुर में गैंगवार की थी तैयारी!:3 साल पहले हत्या हो चुके शातिर बदमाश के गुर्गे से माउजर और 17 कारतूस जब्त

जबलपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मर चुके शातिर बदमाश के गुर्गे से माउजर और 17 कारतूस जब्त हुए। - Dainik Bhaskar
मर चुके शातिर बदमाश के गुर्गे से माउजर और 17 कारतूस जब्त हुए।

शहर में नई उम्र के बदमाशों में विवाद नई बात नहीं है, लेकिन अब गैंगवार के लिए माउजर कारतूस जुटाए जा रहे हैं। क्राइम ब्रांच ने गोहलपुर पुलिस के साथ मिलकर एक शातिर बदमाश को दबोचा है। आरोपी के पास से 17 कारतूस और एक माउजर जब्त किए हैं। आरोपी शातिर बदमाश पिंकू काला का शार्गिद रह चुका है। उसकी हत्या के बाद वह इस गैंग का मुखिया बन गया है।

गोहलपुर पुलिस के मुताबिक शांतिनगर निवासी आकर्ष पटेल को रविवार रात क्राइम ब्रांच की टीम ने काली मंदिर वाली गली में रोका था। आरोपी की स्कूटी की तलाशी लेने पर डिक्की में में रखा देशी माउजर और 17 कारतूस मिले। इतनी बड़ी मात्रा में कारतूस की जब्त से पुलिस भी हैरान है।

पिंकू काला ने दी थी माउजर

गोहलपुर टीआई अरविंद चौबे के मुताबिक आरोपी आकर्ष पटेल ने पूछताछ में बताया कि तीन साल पहले उक्त माउजर उसे पिंकू काला ने रखने के लिए दिया था। यहां बताते चलें कि पिंकू काला शातिर बदमाश था। तीन साल पहले उसकी हत्या कर दी गई थी। आकर्ष उसका खास गुर्गा था। उसकी हत्या के बाद वहीं उसके गैंग को लीड कर रहा है। 23 वर्षीय आकर्ष माउजर के दम पर डॉन बनने की चाहत रखता था।

दो लोगों से 17 कारतूस खरीदने की बात स्वीकारी

आरोपी आकर्ष ने 17 कारतूस उपरैनगंज निवासी एक बदमाश से और बाबा सोनकर से खरीदने की बात स्वीकार की है। पुलिस द्वारा युवक से और भी पूछताछ की जा रही है कि उसने गोली क्यों खरीदी थी। उक्त दोनों आरोपियों की तलाश जारी है। सीएसपी अखिलेश गौर के मुताबिक दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद इस मामले में और खुलासे हो सकते हैं। दरअसल कारतूस किसी रिवॉल्वर या पिस्टल वाले को ही किसी आर्म्स की दुकान से मिली होगी। इसकी तह तक खंगालने की बात पुलिस ने कही है।

पंचायत चुनाव में बढ़ जाती है हथियारों की तस्करी

एमपी में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की तारीखों का ऐलान हो चुका है। पूर्व के वर्षों में देखा गया है कि पंचायत चुनाव के समय आर्म्स तस्कर सक्रिय हो जाते हैं। पंचायत खासकर सरपंच के चुनाव में गांव में रंजिश और खूनी संघर्ष की आशंका बनी रहती है। इस कारण कट्‌टे-माउजर और कारतूस की डिमांड बढ़ जाती है। आईजी उमेश जोगा के मुताबिक पंचायत चुनाव से पहले अवैध हथियार तस्करों के खिलाफ बड़ा अभियान चलाएंगे।

खबरें और भी हैं...