पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • His Majesty Will Reach Singourgarh, The First Capital Of Rani Durgavati Today, To Perform Bhumi Pujan For Development Works Costing 26 Crores.

बुंदेलखंड की धरती दमोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद:बोले - समाज के सबसे कमजोर वर्ग का जब तक विकास नहीं, तब तक मैं इसे अधूरा कहूंगा

जबलपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राज्य स्तरीय जनजातीय सम्मेलन और सिंगौरगढ़ किले के संरक्षण कार्य के शिलान्यास कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के साथ अन्य। - Dainik Bhaskar
राज्य स्तरीय जनजातीय सम्मेलन और सिंगौरगढ़ किले के संरक्षण कार्य के शिलान्यास कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के साथ अन्य।
  • राज्य स्तरीय जनजातीय सम्मेलन और सिंगौरगढ़ किले के संरक्षण कार्य के शिलान्यास कार्यक्रम में पहुंचे थे, दोपहर 3:30 बजे दिल्ली रवाना
  • राष्ट्रपति ने आदिरंग नाम के पोर्टल का शुभारंभ किया, तो सीएम ने वानिकी पुस्तिका का विमोचन कर राष्ट्रपति को सौंपी प्रति

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद रविवार 7 मार्च की सुबह 9.30 बजे डुमना एयरपोर्ट से वायुसेना के हेलीकॉप्टर द्वारा दमोह पहुंचे। वे यहां विभिन्न आयोजन में शामिल हुए। दमोह में जनजातीय सम्मेलन में राष्ट्रपति ने कहा - जब तक समाज के सबसे कमजोर वर्ग का विकास नहीं होगा, तब तक विकास को मैं अधूरा ही कहूंगा।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद रविवार को दमोह जिले के सिंग्रामपुर पहुंचे। राष्ट्रपति ने राज्य स्तरीय जनजातीय सम्मेलन में कहा, जनजातीय समुदाय में स्त्री-पुरुष का अनुपात सबसे बेहतर है। उनकी जीवनशैली में प्रकृति को सर्वोच्च स्थान दिया जाता है। उनके जीवन मूल्यों अनुकरणीय हैं। बैगा समुदाय की परंपरागत औषधि ज्ञान को सहेजने की जरूरत है। रविवार को राष्ट्रपति का दो दिवसीय प्रवास समाप्त हो गया। दोपहर 3.30 बजे वायुसेना के विमान से नई दिल्ली रवाना हो गए।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी को किया याद
सुशासन की बात आती है, तो पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी का विशेष स्मरण हो जाता है। पीएम रहते हुए उन्होंने सबसे पहले भारत सरकार में जनजातीय कल्याण मंत्रालय का गठन किया था। इसके बाद राज्य सरकारों ने भी अपनाया। भाव ये था, जब हम समाज के सभी वर्गों का उनकी भावना का कद्र करते हैं। जब विकास करते हैं, तो जनजातीय व्यक्ति व समुदाय पीछे छूट जाता है।

महिला दिवस की अग्रिम बधाई दी

राष्ट्रपति ने आठ मार्च को आयोजित अंतर राष्ट्रीय महिला दिवस को लेकर अग्रिम बधाई दी। बोले- ये दिन विश्व की सभी महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए संकल्पबद्ध होने का दिन है। 400 वर्ष पहले रानी दुर्गावती ने महिला शक्ति का अद्भुत प्रदर्शन किया था।

शहरी लाेगों को सीख देने के लिए बहुत कुछ: राज्यपाल

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा, रानी दुर्गावती ने 1584 से 1564 तक सिंगौरगढ़ किले से शासन किया। कुशलता से सेना का नेतृत्व करते हुए जबलपुर के नरई में वीरगति को प्राप्त हुई थी। इस किले के संरक्षण से हमारी पीढ़ियों को उनके आदर्शों पर चलने की प्रेरणा मिलेगी। जनजातीय समुदाय हमें जीवन जीने की कला, समूह में रहना और कदम से कदम मिलाकर चलने का मूल मंत्र देता है।

रानी दुर्गावती बलिदान दिवस पर हर वर्ष कार्यक्रम होंगे : सीएम

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने घोषणा की, हर वर्ष रानी दुर्गावती के बलिदान दिवस पर तीन दिवसीय जनजातीय समाज का सम्मेलन होगा। जनजातीय स्वतंत्रता सेनानियों की वीरगाथा को आम लोगों के सामने लाने के लिए छिंदवाड़ा में संग्रहालय बनाया जा रहा है। सीएम बोले कि वनाधिकार पट्‌टा से जो वंचित रह गया हो, उसे भी मौका मिलेगा। उन्होंने प्रदेश सरकार द्वारा जनजातीय समुदाय व बच्चों के लिए चलाए जा रहे स्कीम की जानकारी दी।

26 करोड़ की लागत से किले के संरक्षण कार्य का शिलान्यास
राष्ट्रपति ने 26 करोड़ की लागत से सिंगौरगढ़ किले के संरक्षण कार्य का शिलान्यास किया। वहीं, पर्यटन मंत्रालय द्वारा 23 करोड़ 16 लाख की लागत से बेलाताल झील के विकास कार्यों का लोकार्पण किया। दमोह में ही बेला ताल में अहिंसा के पुजारी राष्ट्रपिता गांधीजी, राम मनोहर लोहिया व दीनदयाल की स्थापित कांस्य मूर्तियों का लोकार्पण किया। इस दौरान राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और सीएम शिवराज सिंह चौहान के साथ केंद्रीय पर्यटन एवं सांस्कृतिक राज्य मंत्री प्रहलाद पटेल, इस्पात राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते, प्रदेश सरकार के मंत्री भूपेंद्र सिंह और मीना सिंह मौजूद रहीं।

प्रतिभाशाली छात्र-छात्राओं को किया सम्मानित
इस अवसर पर बालकों में 12वीं में 93.6 प्रतिशत अंक पाने पंकज धुर्वे और 10वीं में 99.5 रवींद्र को शंकरशाह और बालिकाओं में 12वीं में 94.2 प्रतिशत अंक लाने वाली सारिका ठाकुर व 10वीं में 99 प्रतिशत पाने वाली कुमारी मुस्कान रावत को रानी दुर्गावती पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

मुख्यमंत्री ने लगाया रुद्राक्ष का पौधा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जबलपुर प्रवास के दूसरे दिन रविवार सुबह विश्राम भवन-क्रमांक दो में रुद्राक्ष का पौधा रोपा। कार्यक्रम में केंद्रीय इस्पात राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते एवं आयुष एवं जल संसाधन राज्यमंत्री रामकिशोर नानो कांवरे भी मौजूद थे।

26 करोड़ की राशि से होगा किले के आसपास का क्षेत्र का विकास
केंद्रीय मंत्री प्रहलाद के मुताबिक सिंगौरगढ़ किला व आसपास के क्षेत्र में 26 करोड़ से विकास कार्य कराए जाएंगे। इसमें दलपतशाह की समाधि, मंदिर स्थान, सिंगौरगढ़ का किला, फीडरलेक आफ निरान वाटरफाल, प्रवेश द्वार, निदान फाल, बैसा घाट विश्राम गृह, नजारा व्यू पाइंट, वलचर प्वाइंट व विजिटर फेसीलिटी जोन आदि के मरम्मत व सौंदर्यीकरण कार्य होंगे। भविष्य में यह क्षेत्र पर्यटक स्थलों के रूप में अलग पहचान बना पाएगा।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल व सीएम शिवराज सिंह चौहान।
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल व सीएम शिवराज सिंह चौहान।

गौरवशाली इतिहास को समेटे है किला
सिंग्रामपुर में स्थित सिंगौरगढ़ किला आज भी रानी दुर्गावती की वीरता का गौरवशाली इतिहास लिए है। किले की सुरक्षा को भेद पाना दुश्मनों के बस की बात नहीं थी। क्योंकि प्रकृति प्रदत्त भौगोलिक पर्वत श्रृंखलाओं के बीच बने किले की सुरक्षा में पहाड़ सुरक्षा दीवार बनकर खड़े थे, तो किले के तहखानों से निकली सुरंग का अंतिम छोर रानी व रानी की सैनिक टुकड़ियों को ही पता था। सिंगौरगढ़ जलाशय की प्राकृतिक सौंदर्यता देखते ही बनती है। सैकड़ों वर्ष पुराने जलाशय में पानी कभी खत्म नहीं हुआ। मान्यता है कि सिंगौरगढ़ तालाब के अथाह जल के अंदर अनेकों रहस्य समेटे है।

खबरें और भी हैं...