• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Presenting The Status Report In The High Court, The State Government Said That 45 Thousand Prisoners In State Jails, 22 Prisoners Released On Parole Absconded, 47 Died.

MP की जेलों में क्षमता से डबल बंदी:राज्य सरकार ने हाईकोर्ट में स्टेटस रिपोर्ट पेश कर कहा, जेलों में 28 हजार की क्षमता और बंद हैं 45 हजार बंदी; पैरोल पर छोड़े गए 22 कैदी फरार, 47 की मौत

जबलपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जबलपुर सेंट्रल जेल में कोरोना के दूसरी लहर में एक भी मौत नहीं हुई। इस जेल में 160 बंदी संक्रमित हुए थे। - Dainik Bhaskar
जबलपुर सेंट्रल जेल में कोरोना के दूसरी लहर में एक भी मौत नहीं हुई। इस जेल में 160 बंदी संक्रमित हुए थे।

मध्यप्रदेश पैरोल पर 4500 बंदियों को छोड़ने के बाद भी जेलों में जगह नहीं बची है। 28 हजार की क्षमता वाले प्रदेश की जेलों में 31 मई की स्थिति में 45 हजार बंदी थे। लॉकडाउन के 38 दिनों में प्रदेश में 8 हजार नए लोग जेल में पहुंच गए। ये खुलासा हाईकोर्ट में राज्य सरकार द्वारा पेश किए गए स्टेटस रिपोर्ट में हुआ है।

जेलों में क्षमता से अधिक बंदियों को लेकर हाईकोर्ट ने स्वत: संज्ञान लेते हुए राज्य सरकार से जवाब मांगा था। हाईकोर्ट ने 7 साल से कम सजा वाले प्रकरणों में जेल में बंद कैदियों को पैरोल पर छोड़ने की बात कही थी। कोरोना की पहली लहर के बाद जेलों से पैरोल पर 4500 कैदियों को छोड़ा गया था।

22 कैदी फरार तो 47 की हो चुकी है मौत

जनवरी 2021 में सभी को वापस होना था। पर 1536 कैदी नहीं लौटे। इसमें 22 तो फरार हो चुके हैं। इनका पता तक नहीं लग रहा। वहीं 47 कैदियों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा जेल में कोरोना संक्रमण से 13 कैदियों की मौत हो चुकी है।

कोरोना से बचाने पैरोल

मध्यप्रदेश की जेलों में क्षमता से ज्यादा कैदी बंदी होने पर हाईकोर्ट ने इस पर स्वत: संज्ञान लिया था। जेलों में कोरोना संक्रमण न फैले इसलिए हाईकोर्ट ने कैदियों की संख्या कम करने के लिए कई सुझाव दिए हैं। इनमें 7 साल से कम सजा वाले अपराधों में बंद कैदियों को पैरोल पर छोड़ने का सुझाव भी शामिल है

क्षमता से ज्यादा कैदी

राज्य सरकार ने हाईकोर्ट में पेश रिपोर्ट में बताया है कि कैदियों को पैरोल पर जरूर छोड़ा गया, लेकिन उसके बाद अपराध बढ़ने से पिछले 38 दिन में ही करीब 8 हजार नए आरोपियों को जेल में बंद करना पड़ा। प्रदेश की जेलों की क्षमता करीब 28 हजार कैदी रखने की है। मई 2021 में प्रदेश की जेलों में 45 हजार से ज्यादा कैदी बंद थे।

खबरें और भी हैं...