• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Right Now The Water Level In The Dam Reached Only 416.60 Meters, The Decision Had To Be Postponed Due To Less Than Two Days Of Rain

आज नहीं खुलेंगे बरगी डैम के गेट:अभी डैम में 416.60 मीटर ही जलस्तर पहुंचा; दो दिन से कम बारिश के चलते टालना पड़ा निर्णय

जबलपुरएक वर्ष पहले
बरगी डैम के गेट आज 29 जुलाई को नहीं खुल पाएंगे।

बरगी बांध के गेट आज को नहीं खुलेंगे। बांध में अभी 31 जुलाई तक निर्धारित 417.50 मीटर के निशान से 90 सेमी कम है। कैचमेंट एरिया में पिछले दो दिनों से कम बारिश के चलते आखिरी समय में गेट खोलने का निर्णय टालना पड़ा। डैम प्रबंधन के मुताबिक अभी कैचमेंट एरिया में 1586 क्यूसेक प्रति सेकेंड पानी की आवक हो रही है। वहीं 186 क्यूसेक बिजली बनाने के लिए डिस्चार्ज करना पड़ रहा है। तो दायीं व बायीं तट की नहरों में 15 क्यूसेक पानी डिस्चार्ज किया जा रहा है।

कार्यपालन यंत्री अजय सूरे के मुताबिक कैचमेंट एरिया का जलस्तर निर्धारित क्षमता तक पहुंचने के चलते 48 घंटे के पहले गेट खोलने का अलर्ट जारी करना पड़ा था। जिससे नर्मदा तट के आसपास रहने वालों को समय रहते हटाया जा सके। डैम के कैचमेंट क्षेत्र में यदि 29 जुलाई गुरुवार को बारिश ठीक-ठाक हुई तो संभव है कि शुक्रवार 30 जुलाई को कुछ गेट खोलने पड़े। हालांकि इसका निर्णय कैचमेंट के जलस्तर को देखने के बाद ही लिया जाएगा।

बरगी डैम, जिसका अधिकमत वाटर लेवल 422.76 मीटर है।
बरगी डैम, जिसका अधिकमत वाटर लेवल 422.76 मीटर है।

गेट खोलने का निर्धारित है मैन्युअल

बांध आपरेशन मैन्युअल के अनुसार 31 जुलाई तक बांध का लेवल 417.50 मीटर होना चाहिए। इस लेवल के पार करने पर ही गेट खोलने का निर्णय लिया जाएगा। जितना पानी डैम में आ रहा होगा, उतना डिस्चार्ज किया जाएगा। अभी डैम का जलस्तर धीरे-धीरे बढ़ रहा है। अब 90 सेमी निर्धारित लेवल से डैम में कम पानी है। नर्मदा के सभी तटों पर दो दिन पहले ही अलर्ट जारी कर दिया गया है। क्योंकि डैम से पानी छोड़े जाने पर िनचले घाटों ग्वारीघाट, तिलवारा घाट, लम्हेटाघाट, भेड़ाघाट, होशंगाबाद में नर्मदा के पानी का जलस्तर 6 से 8 फीट बढ़ जाता है।

बरगी डैम का केचमेंट एरिया 14556 वर्ग किमी है

बरगी डैम के जल ग्रहण क्षेत्र में डिंडौरी, मोहगांव, मानोट, मुक्की, मवई, बम्हनी बंजर, मंडला तथा बरगी नगर सहित 8 रेनगेज स्टेशन है। यहां होने वाली बारिश का असर डैम पर पड़ता है। इन सभी स्टेशनों पर बारिश रिकॉर्ड की जाती है। इसी से अनुमान लगाया जाता है कि डैम में पानी की आवक कितनी हो रही है। डैम से कब पानी छोड़ना है, ये जलस्तर पर निर्धारित है। डैम मैन्युअल के मुताबिक 31 जुलाई तक जल स्तर 417.50 मीटर होना चाहिए। इसी तरह 15 अगस्त तक 421 मीटर रखा जाना चाहिए। 422.76 मीटर डैम का अधिकतम जलस्तर निर्धारित किया गया है।

खबरें और भी हैं...