रशियन यात्री होटल में रुका, मचा हड़कंप:विदेशी पर्यटक कोविड जांच कराने से कर रहा था इनकार, अब तक 195 विदेश से आए लोगों की हो रही निगरानी

जबलपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जबलपुर रेलवे स्टेशन स्थित पोल� - Dainik Bhaskar
जबलपुर रेलवे स्टेशन स्थित पोल�

जबलपुर में एक रशियन यात्री के होटल में रुकने को लेकर हड़कंप मच गया। दरअसल हेल्थ विभाग की टीम आरटीपीसीआर सेम्पल लेने पहुुंची तो यात्री भड़क गया। बाद में पुलिस बुलाकर उसके सेम्पल लिए गए। अब तक जिले में विदेश से आए देशी-विदेशी 195 लोगों के सेम्पल कराए जा चुके हैं। कई को होम क्वारंटीन में रखा गया है।

सीएमएचओ डॉ. रत्नेश कुरारिया के मुताबिक रशियन यात्री पोलपिसन एंड्री यहां अधारताल में रहने वाले एक मित्र के यहां शादी समारोह में शामिल होने आया है। वह रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 6 स्थित पोलो मैक्स होटल में रुका था। होटल से इसकी सूचना पर एक टीम उसका आरटीपीसीआर जांच के लिए सेम्पल लेने पहुंची तो उसने हंगामा कर दिया। दरअसल सभी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर विदेश से आने वाले यात्रियों की आरटीपीसीआर जांच पहले ही हो जाती है। इस कारण कई यात्री फिर से सेम्पल देने में मना करते हैं।

सेम्पल लेने के लिए पुलिस बुलाना पड़ा

विदेशी यात्री के हंगामा करने पर हेल्थ विभाग को पुलिस बुलाना पड़ा। सिविल लाइंस पुलिस की मौजूदगी में यात्री को समझाया गया। इसके बाद वह सेम्पल देने को तैयार हुआ। सीएमएचओ डॉक्टर रत्नेश कुरारिया के मुताबिक वह शहर हित में कोई रिस्क नहीं उठा सकते हैं, इस कारण विदेश से जिले में आने वाले हर देशी-विदेशी नागरिक का आरटीपीसीआर जांच अनिवार्य रूप से कराई जा रही है।

अब तक 195 लोग विदेश से आ चुके

जबलपुर में ओमिक्रॉन के खतरा सामने आने के बाद से जिले में अब तक 195 लोग विदेश से आए हैं। इसमें देशी-विदेशी दोनों तरह के नागरिक शामिल हैं। इसमें 60 लोगों को क्वांरटीन में रखा गया है। एक नवंबर से 05 दिसंबर तक आए इन 195 लोगों में तीन दक्षिण अफ्रीका से आए थे। इसमें दक्षिण अफ्रीका की महिला आर्मी का होम क्वारंटीन पूरा हो चुका है। वह प्रशिक्षण के लिए जबलपुर आई हैं। दो अन्य लोगों को 14 दिन के लिए होम क्वारंटीन में रखा गया है। दोनों ग्वारीघाट क्षेत्र के रहने वाले हैं। इसके अलावा जिले में यूके, यूएसए और खाड़ी देशों से आए व्यक्तियों की संख्या ज्यादा है। लगभग 25 लोग दुबई से लौटे है। चार ऑस्ट्रेलिया से आए है।

एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन पर रेंडम नमूने लिए जा रहे

सीएमएचओ डॉक्टर रत्नेश कुरारिया के मुताबिक ओमिक्रॉन के देश में इंट्री के बाद से ही सतर्कता और बढ़ा दी गई है। एयरपोर्ट पर दो टीम तो रेलवे स्टेशन पर ही इतनी ही टीम रोज रेंडम यात्रियों के सेम्पल ले रही हैं। एयरपोर्ट पर जहां 200 के लगभग यात्रियों के सेम्पल लिए जा रहे हैं। वहीं रेलवे स्टेशन पर 400 से 500 के बीच सेम्पल जांच के लिए लिए जा रहे हैं। आईएसबीटी में भी यात्रियों की स्क्रीनिंग शुरू की गई है। सर्दी-जुकाम, बुखार सहित अन्य संदिग्ध लक्षणों वाले मरीजों की सेम्पलिंग अनिवार्य रूप से कराई जा रही है।

ओमिक्रॉन प्रभावित देश से आने वाले की जांच अनिवार्य

सीएमएचओ कुरारिया के मुताबिक ओमिक्रॉन प्रभावित देशों से आने वाले सभी लोगों की आरटीपीसीआर जांच अनिवार्य रूप से कराई जा रही है। ऐसे लोगों की रिपोर्ट आने तक एयरपोर्ट में ही रखने के निर्देश जारी हुए हैं। निगेटिव रिपोर्ट आने पर भी एक सप्ताह तक उन्हें होम आइसोलेशन में रहना होगा। आठवें दिन दुबारा आरटीपीसीआर जांच के बाद ही वे स्वतंत्र रूप से भ्रमण कर पाएंगे।

दो मरीज आए सामने, मेडिकल में भर्ती एक महिला की हालत बिगड़ी

इधर, बीते 24 घंटे में वायरोलॉजी लैब से 5495 सेम्पल की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इसमें दो नए संक्रमित मिले हैं। अब तक पांच दिन में कोविड के कुल 6 संक्रमित सामने आ चुके हैं। जबलपुर मेडिकल कॉलेज के कोविड वार्ड में भर्ती एक महिला की हालत नाजुक बनी हुई है। उसे वेंटीलेटर सपोर्ट पर रखा गया था। शनिवार से उसकी हालत में कुछ सुधार हुआ है। कोविड के नए संक्रमितों का जीनोम सिक्वेसिंग के लिए सेम्पल दिल्ली भेजा जा रहा है।

खबरें और भी हैं...