• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • The Parents Had Become Infected, Brought Both From Singrauli To The Medical College Hospital, Together They Performed The Duty Of Daughter And Doctor.

मेडिकल की पीजी छात्रा के समर्पण को सलाम:माता-पिता हो गए थे संक्रमित, दोनाें को सिंगरौली से मेडिकल कॉलेज अस्पताल लाई, बेटी और डॉक्टर का फर्ज एक साथ निभाया

जबलपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पीजी सेकंड ईयर की छात्रा डॉ. साधना वर्मा। - Dainik Bhaskar
पीजी सेकंड ईयर की छात्रा डॉ. साधना वर्मा।

मेडिकल कॉलेज अस्पताल में पीजी सेकंड ईयर की छात्रा के समर्पण की चहुंओर प्रशंसा हो रही है। छात्रा के मां-पिता सिंगरौली में संक्रमित हो गए थे। उसकी ड्यूटी कोविड वार्ड में थी। उसके सामने दोहरी चुनौती थी, वह छुट्‌टी लेकर माता-पिता के पास जाए या ड्यूटी करती रहे। क्योंकि मां-पिता की सेवा करने वाला कोई नहीं था। मां-पिता को मेडिकल कॉलेज के कोविड वार्ड में भर्ती कराया। दोनाें जिम्मेदारी एक साथ निभाई।

कोरोना महामारी की दूसरी लहर में कई लोगों के सामने चुनौती सामने आती रही हैं। बावजूद लोग धैर्य से कठिनाई का सामना कर रहे हैं। ऐसे कठिन समय में चिकित्सकों व पैरामेडिकल स्टाफ का सेवा भाव, समर्पण, कर्तव्यनिष्ठा और कठिन परिस्थितियों से जूझने की संघर्ष क्षमता देखी जा सकती है। ऐसा ही एक उदाहरण जबलपुर में सामने आया।

कोरोना संक्रमित मां-पिता के साथ मरीजों को संभाला।
कोरोना संक्रमित मां-पिता के साथ मरीजों को संभाला।

सिंगरौली में माता-पिता हो गए थे संक्रमित
नेताजी सुभाष चंद्र बोस मेडिकल कॉलेज से पीजी सेकंड ईयर की छात्रा डॉ. साधना वर्मा की कोविड वार्ड में ड्यूटी लगाई गई है। उसी दौरान सिंगरौली में निवासरत पिता राजकुमार वर्मा (55) और मां शीला वर्मा (53) कोरोना से संक्रमित हो गए। दोनों की देखभाल के लिए सिंगरौली में कोई नहीं था। ऐसे में उनके सामने दुविधा खड़ी हो गई थी। ऐसे में धैर्य व संयम के साथ हालात को संभाला।

दोहरी जिम्मेदारियों को बखूबी निभाया
उसने माता-पिता को जबलपुर बुलाकर मेडिकल के कोविड वार्ड में भर्ती कर दिया। अन्य मरीजों की सेवा के साथ माता-पिता के प्रति दायित्व को भी निभाया। 24 अप्रैल को उनके माता-पिता स्वस्थ होकर हॉस्पिटल से डिस्चार्ज हो चुके हैं। अब घर पर स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं।