पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रशासन की अनदेखी:नर्मदा तट के पास अंडा तक बिकना प्रतिबंधित, वहां चल रहा पोल्ट्री फार्म

जबलपुर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • साकेतधाम के पीछे वर्षों से चल रहा मुर्गी पालने का धंधा, नर्मदा में जाती है सीधे गंदगी

नर्मदा लाखों-करोड़ों लोगों की आस्था का केन्द्र है और यही कारण है कि नर्मदा तट के साथ ही आसपास के क्षेत्र को पवित्र क्षेत्र घोषित किया गया है। इसका सीधा सा मतलब है कि इस पवित्र क्षेत्र में अंडा, मांस-मछली और चिकन का विक्रय पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा, लेकिन इसी प्रतिबंधित क्षेत्र में बेधड़क पोल्ट्री फार्म का संचालन किया जा रहा है। हजारों मुर्गियों को पाला जा रहा है और वहाँ से निकलने वाली गंदगी सीधे नर्मदा में जाकर जल को प्रदूषित कर रही है।

इस मामले में नगर निगम अधिकारियों का कहना है कि कुछ लोग पोल्ट्री फार्म संचालित करने की अनुमति माँग रहे थे लेकिन अनुमति नहीं दी गई है। ग्वारीघाट साकेत धाम के ठीक पीछे की ओर वर्षों से पोल्ट्री फार्म संचालित किया जा रहा है। पिछले दिनों कुछ स्थानीय लोगों ने इसकी शिकायत नगर निगम में की, लेकिन वह शिकायत गुपचुप तरीके से की गई थी। इसलिए निगम के कुछ अधिकारियों ने इसका निरीक्षण किया। निगम अधिकारी खुद इस मामले में दबी जुबान से ये कह रहे हैं कि पोल्ट्री फार्म तो चल रहा है लेकिन आज तक किसी भी वरिष्ठ अधिकारी ने यहाँ कार्रवाई के लिए आदेश नहीं दिया।

^हमारी जानकारी में यह है कि पोल्ट्री फार्म करीब 25-30 साल पुराना है और वह बंद है। कुछ लोगों ने पहले अनुमति माँगी थी लेकिन अनुमति दी नहीं गई। बिना अनुमति यदि पोल्ट्री फार्म संचालित किया जा रहा है, तो अवैध है और जल्द ही टीम भेजकर मामले की जाँच कराई जाएगी।
-शैलेन्द्र मिश्रा, जोन अधिकारी रामपुर

खबरें और भी हैं...