पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एक्सट्रा खर्च का हवाला:शैल्बी प्रबंधन ने कहा- कोविड में शर्तें नहीं चलेंगी, क्योंकि खर्चा ज्यादा है

जबलपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

निजी अस्पतालों ने कोविड-19 के मामले में किस तरह से अंधाधुंध वसूली की अब यह किसी से छिपा नहीं है। ऐसे ही एक मामले में शैल्बी हॉस्पिटल मैनेजमेंट ने सीजीएचएस को लिखकर दे दिया है कि कोविड ट्रीटमेंट में आपकी शर्तें नहीं मानी जा सकेंगी। इसके पीछे मरीजों पर होने वाले एक्सट्रा खर्च का हवाला दिया गया है। बहरहाल, सीजीएचएस के एडीशनल डायरेक्टर ने मान्यता समाप्त करने के लिए फाइल दिल्ली मुख्यालय रवाना कर दी है।

चंद रोज पहले डेढ़ लाख का जुर्माना ठोंके जाने के बावजूद शैल्बी हॉस्पिटल की वर्किंग में कोई बदलाव नहीं आया है। मंगलवार को भी एक मारीज को 4.33 लाख रुपए का बिल थमाए जाने का मामला सामने आया। सीजीएचएस एडीशनल डायरेक्टर राजेंद्र रावत ने जब शैल्बी हॉस्पिटल प्रबंधन को तलब किया तो उनका साफ कहना रहा कि कोविड केसों में सीजीएचएस की गाइड लाइन का पालन नहीं किया जा सकता है। इसके बाद तमाम शिकायतों और साक्ष्यों को अटैच कर मान्यता समाप्त करने की अनुशंसा दिल्ली भेज दी है।

प्रशासन की टीम ने बिल कम कराया| निर्धारित रेट से ज्यादा फीस वसूली की शिकायत पर प्रशासन की टीम बुधवार को शैल्बी हॉस्पिटल पहुँची। एसडीएम नम: शिवाय अरजरिया के साथ पहुँचे चिकित्सकों ने पाया कि कई जाँचे ऐसी हैं, जिनमें जरूरत से ज्यादा बिलिंग की गई है। समझाइश के बाद मैनेजमेंट ने 1.34 लाख की कटौती कर नया बिल जारी किया। प्रशासन ने अस्पताल प्रबंधन को कोरोना काल में नियमों के साथ संवेदनशीलता पर ध्यान देने हिदायत दी।

खबरें और भी हैं...