• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Palledar Could Not Bear The Beating By The Shopkeeper And The Police Alleging Theft In Jabalpur, Hanged Himself By Hanging

20KG मूंग के लिए पीटने पर दी जान:चोरी का आरोप लगाकर दुकानदार व 3 पुलिसवालों ने पीटा; अपमान से आहत पल्लेदार फांसी पर झूला

जबलपुर3 महीने पहले
शरीर पर पिटाई के मौजूद थे निशान।

जबलपुर से 25 किमी दूर पाटन मंडी में पल्लेदार ने पिटाई के अपमान से दुखी होकर सुसाइड कर लिया। पल्लेदार पर दुकानदार के बेटों ने चोरी का आरोप लगाते हुए थाने के 3 सिपाहियों के साथ मिलकर पहले सबके सामने और फिर शटर बंद करके बेरहमी से मारा-पीटा। इस अपमान से व्यथित होकर पल्लेदार घर पहुंचा और कमरे में रस्सी का फंदा लगाकर झूल गया। पत्नी ने एसपी आफिस पहुंच कर न्याय की गुहार लगाई है। वहीं आरोपी पुलिस कर्मियों के खिलाफ हत्या का प्रकरण दर्ज करने की मांग की है।

पाटन क्षेत्र के वार्ड नंबर चार चौधरी मोहल्ला निवासी सुरेश अहिरवार (55) अनाज मंडी में पल्लेदार था। वह पिछले 30 सालों से वहां पल्लेदारी कर रहा था। एसपी के पास पहुंची पत्नी लाडली बाई ने बताया कि 15 जुलाई को पति को अनाज मंडी में सिंघई ट्रेडर्स के मुनीम संदीप ने 20 किलो मूंग बेच कर पैसा लाने के लिए दिया था। सुरेश पैसे लेकर पहुंचा तो वहां दुकानदार के बेटे पंकज और कित्तू ने उसे पकड़ लिया। थोड़ी ही देर में पाटन थाने में पदस्थ जवान फिरोज सहित तीन आरक्षक वहां पहुंचे
बेरहमी से मारपीट करते रहे आराेपी

पत्नी लाडली के मुताबिक उसके पति पर मूंग चोरी का आरोप लगाते हुए पंकज, कित्तू और तीनों सिपाही ने बेरहमी से मारपीट की। पहले सबके सामने मारपीट करते रहे। इसकी कुछ लोग वीडियो बनाने लगे तो उसके पति को दुकान के अंदर ले गए। वहां शटर बंद कर बेरहमी से मारापीटा। इसकी जानकारी साथी पल्लेदारों ने बाद में दी थी। सुरेश बुझे मन से घर लौटा और पानी पीकर छत पर बने कमरे में सोने चला गया था।

पत्नी लाडली ने रोते हुए बताया कि उसका पति लाइसेंसी पल्लेदार था। पर अपमान से व्यथितक होकर दी जान, मुझे चाहिए न्याय।
पत्नी लाडली ने रोते हुए बताया कि उसका पति लाइसेंसी पल्लेदार था। पर अपमान से व्यथितक होकर दी जान, मुझे चाहिए न्याय।

भोजन के लिए पति काे जगाने पहुंची तो वे फंद से लटके मिले

पत्नी लाडली ने रोते हुए बताया कि वह रात आठ बजे के लगभग खाना बनाकर पति को बुलाने पहुंची तो वे फंदे से लटके हुए थे। मेरी चीख सुनकर पड़ोस में रहने वाले देवर चंद चौधरी दौड़ कर आया। रस्सी काटकर पति को फंदे से उतारा गया। सूचना पाकर गांव का कोटवार डब्बू भी पहुंचा और पाटन थाने में इसकी सूचना दी। पुलिस ने 16 जुलाई को उसे मानसिक रूप से कमजोर बताते हुए पीएम के लिए ले गए।

चार दिन बाद भी आरोपियों के खिलाफ एफआईआर नहीं

पत्नी लाडली बाई के मुताबिक उसकी तीन बेटियों की शादी हाे चुकी है। परिवार में पति के अलावां कोई नहीं था। पीएम के दौरान शरीर के चोट दिखाते हुए आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग थाने में की थी, लेकिन चार दिन बाद भी आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई। लाडली बाई के साथ एसपी कार्यालय पहुंचे भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने एएसपी रोहित काशवानी को ज्ञापन सौंपकर इस मामले की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग की है। मामले में दोषी पुलिस वाले और दुकानदार के बेटों के खिलाफ हत्या के लिए मजबूर करने का प्रकरण दर्ज करने सहित पीड़िता को 10 लाख रुपए मुआवजा दिलाने की मांग की है।

एएसपी रोहित काशवानी को पीड़ित पत्नी और भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने ज्ञापन सौंपकर जांच की मांग की।
एएसपी रोहित काशवानी को पीड़ित पत्नी और भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने ज्ञापन सौंपकर जांच की मांग की।

शिकायत के बाद पाटन पुलिस हुई एक्टिव

परिवार की एसपी कार्यालय में शिकायत के बाद पाटन पुलिस एक्टिव हो गई है। एएसपी के निर्देश के बाद मामले की जांच शुरू की गई। प्रकरण में सामने आई वीडियो फुटेज, साथी पल्लेदारों और पत्नी के बयान लेकर जांच की जा रही है। टीआई आसिफ इकबाल के मुताबिक जांच में जो तथ्य सामने आएगा। उसके अनुसार आगे की कार्रवाई होगी। वहीं एएसपी रोहित काशवानी ने बताया कि प्रकरण में जांच के निर्देश दिए गए हैं। अभी मर्ग जांच में है।

खबरें और भी हैं...