पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

विडंबना :जुगाड़ की लकड़ी से करना पड़ रहा अंतिम संस्कार

कटंगी15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कटंगी वन डिपो में नहीं है जलाऊ लकड़ी, मृतकों के परिजन सहित रिश्तेदार हो रहे परेशान, अफसर अनजान
Advertisement
Advertisement

जीते जी तो आदमी परेशान है ही, कुछ लोगों को मौत के बाद भी इसका सामना करना पड़ रहा है। इन्हीं में शामिल हैं कटंगी के वाशिंदे। यहां मृतकों के अंतिम संस्कार के लिए लकड़ी तक नसीब नहीं हो पा रही है। कारण यह है कि कटंगी वन डिपो में जलाऊ लकड़ी उपलब्ध नहीं है। इसलिए लोगों को अंतिम संस्कार के लिए जहां-तहां से लकड़ी का जुगाड़ करना पड़ रहा है।  आस-पास के ग्रामीण क्षेत्रों से अग्नि संस्कार के लिए लकड़ी बुलाई जाती है। स्थानीय लोगों का कहना है कि लकड़ी की कमी की समस्या से कई बार वन विभाग के अधिकारियों को अवगत भी कराया गया, लेकिन आज तक कोई समाधान नहीं हो पाया है। जानकारी के अनुसार कटंगी नगर की आबादी करीब 30 हजार है। आए दिन यहां लोगों की मौत होती है। मौत के बाद परिजनों के सामने अंतिम संस्कार की समस्या खड़ी हो जाती है, क्योंकि यहां वन विभाग के डिपो में जलाऊ लकड़ी नहीं है। इससे लोगों को अंतिम संस्कार की लकड़ी के लिए यहां-वहां भटकना पड़ रहा है। स्थानीय लोगों ने बताया कि करीब दो साल पहले तक वन विभाग के डिपो से जलाऊ लकड़ी मिल जाती थी। लेकिन पिछले दो वर्षों से डिपो में भी जलाऊ लकड़ी नहीं है। इससे लोगों को अंतिम संस्कार के लिए लकड़ी नहीं मिल पा रही है।

चार मुक्तिधामों में नहीं है व्यवस्था

कटंगी नगर में चार स्थानों पर अंतिम संस्कार की व्यवस्था है। हिरन नदी के तट पर, बजरिया में, कुंडा प्रेमनगर में व कूडऩ में अंतिम संस्कार के लिए मुक्तिधाम बनाए गए हैं। इन मुक्तिधामों में जलाऊ लकड़ी का कोई प्रबंध नहीं है। अंतिम संस्कार के लिए पहुंचने वाले परिजनों को ही लकड़ी का प्रबंध करना पड़ता है। स्थानीय लोगों का कहना है कि वन डिपो में लकड़ी नहीं होने से यह समस्या सालों से बनी हुई है। 

ग्रामीण क्षेत्रों से करते हैं इंतजाम
वन विभाग के उपभोक्ता डिपो में जलाऊ लकड़ी उपलब्ध नहीं होने के कारण लोगों को अंतिम संस्कार के लिए जलाऊ लकड़ी आस-पास के ग्रामीण क्षेत्रों से मंगानी पड़ती है। स्थानीय लोगों ने बताया कि मौत होने के बाद से ही परिजन लकड़ी के प्रबंध में जुट जाते हैं। रिश्तेदारों को आसपास के गांवों में लकड़ी के लिए भेजा जाता है। सबसे ज्यादा परेशानी बारिश में समय होती है। इस दौरान कई बार केवल गीली लकड़ी मिलती है। जिससे अंतिम संस्कार में लोगों को परेशानी उठानी पड़ती है।
इनका कहना है
वर्तमान में डिपो में जलाऊ लकड़ी उपलब्ध नहीं है, लोगों ने जलाऊ लकड़ी की मांग की है, इस संबंध में डीएफओ से चर्चा की जाएगी, ताकि अंतिम संस्कार के लिए लोगों को जलाऊ लकड़ी मिल सके।
हुकुम ठाकुर, रेंजर कटंगी

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज का दिन पारिवारिक और आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदायी है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति का अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ निश्चय से पूरा करने की क्षमत...

और पढ़ें

Advertisement