पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

लड़खड़ाई व्यवस्था:एक हफ्ते पहले हुआ सैम्पल नहीं मिल रही रिपोर्ट की जानकारी, लोग परेशान

जबलपुर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • विक्टोरिया में फोन नहीं उठता, निगेटिव या पॉजिटिव के संशय में बन रही दुविधा

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी भले ही अधिकतम 48 घंटे में सैम्पल रिपोर्ट आने, निगेटिव होने पर उसकी सूचना मैसेज के द्वारा मोबाइल पर भेजने का दावा करें, लेकिन हकीकत इससे काफी अलग है। सच्चाई यह है कि एक सप्ताह पहले सैम्पल देने वाले अभी भी विक्टोरिया के चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन उनकी रिपोर्ट के बारे में बताने वाला काेई नहीं है। 6 महीने से कोरोना से जूझने की बात करने वाला महकमा अभी तक रिपोर्टिंग को ही व्यवस्थित नहीं कर सका है। कहने को तो विक्टोरिया में फोन कर अपने नाम और सैम्पल के बाद आए मैसेज के नंबर के आधार पर दो दिन बाद रिपोर्ट का पता किया जा सकता है, लेकिन यह सब कहने की बातेें ही साबित हो रही हैं।

कोरोना रफ्तार- अब 5 दिन में हजार
कोरोना के मरीजों की बढ़ती संख्या संक्रमण की बेकाबू गति को बयाँ कर रही है। इस बार अब तक के सबसे कम 5 दिनों में रोज 200 की औसत से एक हजार नए मरीज मिले हैं। 20 मार्च से शुरू हुआ कोरोना सफर में पहले हजार मरीज 128 दिनों में 25 जुलाई को मिले थे, इस आँकड़े तक पहुँचने के दौरान 24 मौतें भी हुईं थीं। इसके बाद अगले हजार मरीजों के आने में 18, 10, 8, 7 और 6 दिन लगे। अब यह समय पाँच दिन का हो गया है।

काम पर न गए तो नौकरी जाएगी
प्राइवेट नौकरी करने वाले राम पटैल ने बताया कि वह सुपर मार्केट की एक दुकान में सेल्समैन का काम करता है। बीच में तबियत खराब हुई तो मालिक ने छुट्टी देकर कोरोना जाँच कराने कहा। 9 सितंबर को सुहागी में सैम्पल दिया, लेकिन अभी तक रिपोर्ट नहीं मिली है। वह लगातार विक्टोरिया में संपर्क कर रहा है, लेकिन जानकारी नहीं मिल रही।

बिजली कर्मी असमंजस में
शहर में पदस्थ एक बिजली अधिकारी के काेरोना पॉजिटिव आने के बाद सिटी सर्कल में उनके निकट संपर्क रखने वाले अधिकारी व कर्मचारियों ने 11 सितंबर को पोलीपाथर फीवर क्लीनिक में सैम्पल दिए थे। वे सभी रिपोर्ट आने तक होम क्वारंटीन हो गए, लेकिन पाँच दिन बीतने के बाद भी अभी रिपोर्ट पता नहीं चल सकी है।

सिंधु नेत्रालय कोविड में देने का प्रस्ताव
कोरोना संक्रमण के चलते अस्पतालों में जगह और ऑक्सीजन की समस्या को देखते हुए जनहित में सिंधु नेत्रालय समिति ने ग्वारीघाट स्थित अपना हॉस्पिटल प्रशासन को सौंपने का प्रस्ताव दिया है। बुधवार को समिति सदस्यों ने केंट विधायक अशोक रोहाणी के साथ संभागायुक्त महेशचंद्र चौधरी से मुलाकात कर कहा कि इलाज के दौरान ऑक्सीजन, दवाइयों के साथ ही मरीज के खान-पान का खर्च भी समिति वहन करेगी। समिति के अर्जुन दास पुरुसवानी एवं हरीश रिझवानी ने बताया का कोरोना महामारी से बचाव को लेकर उनकी समिति लगातार सेवा कार्य कर रही है। इस मौके पर सोनू बचवानी, तारू खत्री, आशीष सेन व अन्य मौजूद रहे।

कोरोना संक्रमण को लेकर सांसद आज अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे
बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर सांसद राकेश सिंह 17 सितम्बर को सुबह 10:30 बजे दिल्ली से वर्चुअल संवाद के जरिए जबलपुर के अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। अस्पतालों की व्यवस्थाओं के संदर्भ में सांसद श्री सिंह, आईजी जबलपुर, कलेक्टर, नगर निगम आयुक्त, जिला पंचायत सीईओ, सीएमओ एवं डीन मेडिकल अस्पताल के साथ वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक करेंगे।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें