• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • The Miscreants Of UP Bihar Used To Come To Razzak's Place To Cut The Ferrari, Have Made Business Relations With Two People Of Mumbai Associated With D Company!

कुख्यात अब्दुल केस की जांच करेगी SIT:रज्जाक के यहां फरारी काटने आते थे यूपी-बिहार के बदमाश, डी-कंपनी के जुड़े मुम्बई के दो लोगों से हैं कारोबारी रिश्ते!

जबलपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अब्दुल रज्जाक के घर से जब्त असलहे। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
अब्दुल रज्जाक के घर से जब्त असलहे। (फाइल फोटो)

इटली मेड समेत 5 हथियारों के साथ गिरफ्तार अब्दुल रज्जाक के जुर्म और उससे बनाई अरबों की संपत्ति के पन्ने खुलने लगे हैं। SP सिद्धार्थ बहुगुणा ने मामले की जांच के लिए 17 सदस्यीय SIT गठित कर दी है। पता चला है, आरोपी के यहां यूपी-बिहार के बदमाश फरारी काटने आते थे। वहीं, आरोपी ने बाहुबल से अकूत संपत्ति जोड़ी है। डी-कंपनी से जुड़े मुंबई के दो लोगों से इसके कारोबारी रिश्ते हैं।

अब्दुल रज्जाक ने 31 वर्ष पहले टोल बैरियर से ठेकेदारी शुरू की, तो फिर मुड़कर नहीं देखा। उसके अपराध और ठेके साथ-साथ बढ़े। अब्दुल रज्जाक ने कई बेनामी संपत्ति अपने करीबियों और 100 से अधिक शैल कंपनियां के नाम पर बनाई है। रज्जाक ने सीधी में ग्रेनाइट का 800 हेक्टेयर में खनन पट्‌टा ले रखा है।

अनूपपुर-शहडोल में भी उसके ग्रेनाइट व आयरन ओर के 16 पट्‌टे हैं। बैतूल, शहगढ़ सागर, कटनी छपरा, स्लिमनाबाद, बहोरीबंद, सिहोरा, नरसिंहपुर, देवास, छतरपुर में बड़े पैमाने पर लीज ले रखी है। पिछले 12 वर्षों में 165 खनिज पट्‌टे करवा कर खुद भी खनन कर रहा है। बेटे से भी करवा रहा है। आरोपी को माइनिंग से ही करोड़ रुपए की कमाई हर महीने होती है।

बदमाश के समर्थकों का कोर्ट में हंगामा:वकीलों ने हथियारों से लैस बदमाशों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा, पुलिस पर मूकदर्शक बने रहने का आरोप

मुंबई-गोवा समेत देश के दूसरे शहरों में भी कारोबार

रज्जाक के मुंबई-गोवा, हैदराबाद समेत देश के कई दूसरे शहरों में कारोबार हैं। रज्जाक के विरार मुम्बई के भाई ठाकुर और वहीं के राजू भाई से कारोबारी रिश्ते हैं। राजू विरार और भाई ठाकुर के बारे में कहा जाता है कि दोनों दाउद इब्राहिम की डी-कंपनी से जुड़े हैं। आरोपी ने जबलपुर, सिहोरा, कटनी, नरसिंहपुर जिले में पिछले 10 सालों में 6000 एकड़ भूमि खरीदी है।

एसपी सिद्धार्थ बहुगणा ने रज्जाक के घर से जब्त असलहों का खुलासा किया था।
एसपी सिद्धार्थ बहुगणा ने रज्जाक के घर से जब्त असलहों का खुलासा किया था।

हथियार तस्कर उमर कट्‌टा से बड़े पैमाने पर खरीदे हैं हथियार

रज्जाक ने बांदा के हथियार तस्कर उमर कट्‌टा से बड़े पैमाने पर अवैध हथियार खरीदे हैं। आरोपी ने रकॉई, लिंगा पिपरिया, सर्रापीपर से लगे गांव में इन हथियारों को छुपा कर अपने करीबियों के यहां जमा करवा रखा है। जबलपुर में कई रियल स्टेट के धंधे में इसके डायरेक्ट या इन डायरेक्ट जुड़ाव है। आरोपी के यहां यूपी-बिहार के कई अपराधी फरारी काटने आते रहे हैं।

काली कमाई करीबियों के यहां रखता है रज्जाक

रज्जाक के बारे में कहा जाता है, वह काली कमाई से होने वाली आमदनी अपने पास नहीं रखता है। वह इतना शातिर है कि अपना सारा पैसा चश्मे के व्यापार से जुड़े, एक राजनीतिक दल के प्रवक्ता, मुन्ना मालवीय, शरीफ तकला वाले के घरों में रखता था। इसी तरह नया मोहल्ला, बड़ी ओमती, रद्दी चौकी व आनंद नगर के कई घरों में इसके पैसे रखे जाते हैं। वह 80 से 100 करोड़ तो इन लोगों के पास हर वक्त कैश रखता था।

एसआईटी ने शुरू की जांच

विजय नगर क्षेत्र में मारपीट, बलवा व हत्या के प्रयास सहित ओमती में दर्ज आर्म्स एक्ट के प्रकरण की जांच अब 17 सदस्यीय एसआईटी करेगी। एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने एएसपी सिटी रोहित काशवानी की अगुवाई में एसआईटी का गठन किया है। विवेचना की कमान एक बार फिर मोखा के प्रकरण में खरे उतर चुके सीएसपी गोहलपुर अखिलेश गौर को सौंपी है।

जबलपुर में मिली विदेशी राइफल:गैंगस्टर अब्दुल रज्जाक के घर छिपे भतीजे को दबोचने पहुंची थी पुलिस; 5 राइफल,10 कारतूस और 15 चाकू मिले, रासुका भी लगाई

एसआईटी में अनुभवी एएसपी क्राइम ब्रांच गोपाल खांडेल, सीएसपी ओमती आरडी भारद्धाज, सीएसपी गढ़ा तुषार सिंह, डीएसपी अजाक पंकज मिश्रा, डीएसपी सीआईडी सुशील चौहान, टीआई ओमती एसपीएस बघेल, टीआई लार्डगंज प्रफुल्ल श्रीवास्तव, टीआई कैंट विजय तिवारी, टीआई खमरिया निरूपमा पांडेय, एएसआई राम सनेही शर्मा, आरक्षक राजेश केवट, मानस उपाध्याय, अमित पटेल, आदित्य, ऋषी नामदेव व द्रौपदी कुशवाहा को शामिल किया गया है।

अब्दुल रज्जाक को आर्म्स एक्ट, बलवा व हत्या के प्रयास की साजिश में शामिल होने और एनएसए में गिरफ्तार कर चुकी है पुलिस।
अब्दुल रज्जाक को आर्म्स एक्ट, बलवा व हत्या के प्रयास की साजिश में शामिल होने और एनएसए में गिरफ्तार कर चुकी है पुलिस।

दर्ज हो सकती है और एफआईआर

अब्दुल रज्जाक के यहां से जब्त इटली मेड विदेशी रायफल सहित पांच हथियारों के बारे में दावे किए जा रहे हैं कि उनके लाइसेंस हैं। कुछ के लाइसेंस कटनी व अनूपपुर से जारी कराने की बात सामने आ रही है। रज्जाक के अपराधाें को छुपाकर और दूसरे के नामों पर लाइसेंस जारी कराकर खुद के उपयोग में लाने को लेकर जल्द ही एक और एफआईआर दर्ज हो सकती है। एसआईटी कटनी व अनूपपुर जिला प्रशासन ने इन असलहों के सीरियल नंबर के आधार पर लाइसेंस के बारे में पता लगाने के लिए पत्र लिखेगी।

डीजीपी बोले... वेलडन जबलपुर पुलिस

महाकौशल के मशहूर हिस्ट्रीशीटर अब्दुल रज्जाक उर्फ पहलवान पर जबलपुर पुलिस की कार्रवाई को डीजीपी विवेक जौहरी ने भी सराहा है। डीजीपी जौहरी ने अपने सोशल एकाउंट से जबलपुर पुलिस को अपराधियों के खिलाफ चलाई जा रही मुहिम को वेलडन बताते हुए इसे निरंतर जारी रखने की बात कही है।

दूध वाले से गैंगस्टर बनने की कहानी:62 साल पहले नरसिंहपुर से जबलपुर शिफ्ट हुआ था रज्जाक का परिवार, टोल टैक्स के धंधे से बना क्रिमिनल

खबरें और भी हैं...