• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Wife Conspired To Kill Truck Driver In Jabalpur Along With Mother in law, Elder Sister, Brother in law

22 हजार की सुपारी देकर पति को मरवाया:जबलपुर में ट्रक ड्राइवर की हत्या की साजिश पत्नी ने सास, बहन, जीजा के साथ मिलकर रची

जबलपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पत्नी सरोज बाई, बड़ी साली ओमबाई और सास बाई रतनी बाई ने परेशान होकर रची थी हत्या की साजिश। - Dainik Bhaskar
पत्नी सरोज बाई, बड़ी साली ओमबाई और सास बाई रतनी बाई ने परेशान होकर रची थी हत्या की साजिश।

कुंडम काराघाट एवं खैरी मडई कला के बीच में 14 नवंबर को हत्या कर फेंके गए ओमप्रकाश यादव (37) की हत्या 22 हजार रुपए की सुपारी देकर कराई गई थी। हत्या की साजिश उसकी पत्नी सरोज बाई ने अपनी मां रतनी बाई, बड़ी बहन ओमबाई यादव और जीजा राजेंद्र यादव के साथ मिलकर रची थी। हत्या की सुपारी कटनी जिले के शातिर बदमाश बंटी उर्फ रामकिशोर पटेल को 22 हजार रुपए में दी गई थी। बंटी ने अपने दोस्त सत्यम पटेल के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया था।

ASP संजय अग्रवाल ने प्रकरण का खुलासा करते हुए बताया कि 14 नवंबर को ओमप्रकाश यादव की लाश मिली थी। घटनास्थल से 500 मीटर दूर रामा यादव के खेत में छिवला के पेड़ के पास काफी खून फैला था। मौके पर मोबाइल कवर, सिम, भाजीबड़ा का टुकड़ा, नमकीन के दो पैकेट, तीन प्लास्टिक गिलास पड़े थे। पुलिस ने ओमप्रकाश के मोबाइल का सीडीआर निकाला तो कड़ी दर कड़ी जुड़ती चली गई।

हत्या के बाद बंटी ने राजेंद्र को कॉल कर बोला था कि काम हो गया

एएसपी के मुताबिक डीएसपी अपूर्वा किलेदार की अगुवाई में कुंडम टीआई की एक टीम प्रकरण की विवेचना में लगाया गया। मृतक ओमप्रकाश के गायब मोबाइल की सीडीआर निकलवाई गई। उसके मोबाइल पर आखिरी कॉल कटनी जिले के ढीमरखेड़ा बांध निवासी बंटी उर्फ रामकिशोर पटेल की मिली।

बंटी के मोबाइल का कॉल डिटेल निकलवाया तो उसकी बातचीत संजय नगर अधारताल निवसी सत्यम पटेल और मृतक के बड़े साढ़ू राजेंद्र से होना पाया गया। पुलिस ने पहले सत्यम को उठाया और फिर राजेंद्र को उठाया। पूछताछ में राजेंद्र ने बताया कि हत्या के बाद बंटी ने काम होने की सूचना राजेंद्र को दी थी।

राजेंद्र यादव, सत्यम पटेल और फरार बंटी उर्फ रामकिशोर यादव।
राजेंद्र यादव, सत्यम पटेल और फरार बंटी उर्फ रामकिशोर यादव।

ओमप्रकाश यादव शराब पीकर करता था घरवालों के साथ मारपीट

सत्यम और राजेंद्र पटेल से पूछताछ के आधार पर कुंडम पुलिस ने पत्नी सरोज बाई, ओमबाई और रतनी बाई को भी उठा लिया। तीनों ने पूछताछ में बताया कि ओमप्रकाश शराब पीकर अक्सर मारपीट करता था। पत्नी सरोज बाई पर कई बार उसने मिट्‌टी का तेल डालकर जलाने की भी कोशिश की थी। राजेंद्र व ओमबाई बीच-बचाव की कोशिश करते थे, तो वह उनसे भी लड़ने लगता था। बीच में राजेंद्र ने ओमप्रकाश को दो-तीन थप्पड़ मार दिया था।

तब से वह पूरे परिवार को जान से मारने की धमकी दे रहा था। 14 वर्ष और 13 वर्ष के दोनों बच्चों का भी ध्यान नहीं देता था। रोज-रोज के विवाद और जान से मारने की धमकी से परेशान होकर सभी ने उसकी हत्या की साजिश रची थी। बंटी कटनी का शातिर बदमाश है और मढ़ई कला मरकामन टोला में फरारी काटने आता था। इस कारण उनका परिचय था।

सुपारी के पैसे ननिहाल से मांग कर लाई थी

सास रतनी बाई ने सुपारी में दी गई रकम की व्यवस्था अपने मायके में भाई रामकुमार यादव से मांग कर की थी। ये पैसे पत्नी सरोज बाई मांग कर लाई थी। सरोज ने 22 हजार रुपए जीजा राजेंद्र को दिए। दिवाली के चार दिन बाद बंटी ने राजेंद्र से उक्त पैसे ले लिए थे। इसमें से 10 हजार रुपए बंटी ने सत्यम काे दिए थे।

बंटी का ओमप्रकाश से भी दोस्ती थी। ओमप्रकाश को काम दिलाने के बहाने 13 नवंबर को बंटी ने चौरई में बुलाया था। बंटी और सत्यम उसे बाइक के साथ मिले। बंटी व सत्यम ने कुंडम से पहले ही शराब, समोसा, नमकीन, भाजीबड़ा , डिस्पोजल आदि ले लिए थे। चौरई पेट्रोल पंप के पास तीनों ने शराब पी। वहां काफी देर तक रुके रहे।

14 नवंबर को मिली थी लाश।
14 नवंबर को मिली थी लाश।

रामा यादव के खेत में छिवला पेड़ के नीचे वारदात को दिया अंजाम

शाम 6 बजे अंधेरा होने पर दोनों ओमप्रकाश को बीच में बैठाकर मड़ईकला निकले थे। रास्ते में तीनों फिर रुक गए। रामा यादव के छिवला के पेड़ के नीचे तीनों ने फिर बैठकर शराब पी। ओमप्रकाश नशे में धुत हो चुका था। बंटी बाइक तक गया और रॉड लेकर आया। उसने ओमप्रकाश के सिर पर ताबड़तोड़ कई वार किए।

ओमप्रकाश मौके पर ही बेहोश हो गया। वारदात के बाद सत्यम डर गया। बंटी ने उसे भी जान से मारने की धमकी दी। दोनों लाश को उठाकर बाइक तक ले गए। बाइक पर बिठाते समय वह ओमप्रकाश गिर गया। दोनों ने देखा तो उसकी सांस चल रही थी। इस पर बंटी ने फिर उसके सिर पर राॅड से वार किया।

डॉग स्क्वॉड और एफएसएल टीम मौके पर जांच करने पहुंची थी।
डॉग स्क्वॉड और एफएसएल टीम मौके पर जांच करने पहुंची थी।

आरोपी भी बाइक सहित गिर गए थे

ओमप्रकाश के मरने के बाद दोनों ने फिर बाइक के बीच में लाश को बिठाया। खेत से रोड पर जाते समय बाइक अनियंत्रित हो गई और सभी गिर पड़े। बंटी व सत्यम को चोटें भी आई थी। इसके बाद दोनों फिर बाइक पर लाश लेकर रोड पर फेंक दिए कि देखने वाले को ये एक्सीडेंट लगे। ओमप्रकाश के मोबाइल का सिम व कवर निकाल कर पहले ही फेंक दिया था।

रास्ते में बंटी ने ओमप्रकाश के मारने की खबर राजेंद्र को मोबाइल चालू कर दी थी। रास्ते में आरोपियों ने एक नदी पर हाथ में लगे खून व बाइक में लगे खून को धोया। रास्ते में दोनों को एक ढाबे के सामने आग लगी हुई दिखी। उसी में दोनों खून सना टी-शर्ट जला दिया। वहां से वे जबलपुर आ गए थे। मुख्य आरोपी बंटी अभी फरार है। उसकी तलाश जारी है। बंटी पर पूर्व से लूट, अवैध वसूली आदि के प्रकरण कटनी व अधारताल में दर्ज है।

जबलपुर में ड्राइवर हत्याकांड का खुलासा:मर्डर में शामिल पत्नी, सास, साढ़ू सहित 6 आरोपी में 5 गिरफ्तार, शराब पिलाने के बाद की थी हत्या

खबरें और भी हैं...