• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • In 20 Districts Of East Zone Electricity Company, 2.31 Lakh Houses Do Not Have Electricity, Kamal Nath's Chhindwara Has The Highest Number Of 83 Thousand Families Still In Lantern Era.

सरप्लस बिजली वाले MP का हाल:20 जिलों के 2.31 लाख घरों में बिजली नहीं, छिंदवाड़ा में सबसे ज्यादा 83 हजार परिवार लालटेन युग में

जबलपुर7 महीने पहले

पीएम नरेंद्र मोदी की सहज बिजली हर घर योजना चलाने के बावजूद एमपी के 20 जिलों के 2.31 लाख से अधिक घर अंधेरे में हैं। मतलब यहां बिजली नहीं है। ये हालत तब हैं, जब एमपी को सरप्लस स्टेट का तमगा हासिल है। पूर्व सीएम कमलनाथ के छिंदवाड़ा जिले में सबसे अधिक 84 हजार घर बिजली से वंचित हैं। कंपनी ने इन घरों में बिजली पहुंचाने के लिए 564 करोड़ रुपए की योजना तैयार की है।

पीएम मोदी ने अभियान चलाकर हर टोले-मजरे और गांव को बिजली से जोड़ने के लिए 900 करोड़ रुपए की सौभाग्य योजना चलाई थी। अब हर घर तक बिजली पहुंचाने के लिए प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना तैयार की गई है। पर कोविड का हवाला देकर कंपनी अब तक इस योजना पर अमल नहीं कर पाई है। कंपनी क्षेत्र के 20 जिलों में 2.31 लाख बिजली उपभोक्ता बिजली से वंचित हैं। इसमें से अधिकतर ढिबरी के भरोसे जिंदगी काट रहे हैं।

सौभाग्य में 900 करोड़ कंपनी को मिले, अब 564 करोड़ की दूसरी योजना तैयार।
सौभाग्य में 900 करोड़ कंपनी को मिले, अब 564 करोड़ की दूसरी योजना तैयार।

564 करोड़ रुपए की योजना हुई है तैयार
पूर्व क्षेत्र कंपनी ने प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना में छूटे टोले-मजरों तक बिजली पहुंचाने के लिए 564 करोड़ रुपए की योजना तैयार की है। इसके लिए कंपनी ने 2011 की जनगणना को आधार बनाया है। ऐसे सभी घरों को कंपनी चिन्हित कर चुकी है। वहीं आकलन भी करा चुकी है कि बिजली पहुंचाने के लिए कितने संसाधनों की जरूरत है। कंपनी का दावा है कि कोविड के चलते इस योजना को शुरू नहीं किया जा सका।

पांच हजार से अधिक ट्रांसफार्मर लगेंगे
कंपनी के मुख्य महाप्रबंधक ग्रामीण विद्युतीकरण योजना अशोक धुर्वे के मुताबिक सबसे अधिक विद्युत विहीन घर छिंदवाड़ा, मंडला और ऊर्जाधानी का तमगा रखने वाले सिंगरौली जिले में हैं। ये घर जंगल से लगे हुए हैं। दुर्गम स्थलों पर हैं। कई ऐसे घर मिले, जो गांव की आबादी से दूर खेतों में मकान बना लिए हैं। बिजली विहीन घरों को कनेक्शन देने से पहले यहां बिजली लाइन, ट्रांसफार्मर आदि लगाने का काम होना है। पांच हजार से अधिक तो ट्रांसफार्मर लगाने होंगे।

इतने संसाधन लगेंगे

  • 11 केवी लाइन- 4260 किमी
  • बिजली ट्रांसफार्मर-5388
  • एलटी लाइन-7250 किमी
  • कुल लागत-564 करोड़ रुपए
  • अभी पूर्व क्षेत्र कंपनी में उपभोक्ता हैं-43 लाख
  • बिजली विहीन घरों की संख्या-2.31 लाख

10 हजार से कम बिजली विहीन घर वाले जिले

  • शहडोल-8003
  • नरसिंहपुर- 7786
  • सतना-6520
  • सिवनी-6080
  • अनूपपुर-5773
  • छतरपुर-5666

पांच हजार से कम बिजली विहीन घर वाले जिले

  • सीधी-4672
  • टीकमगढ़-3738
  • पन्ना-3451
  • दमोह- 2684
  • उमरिया-2671
  • सागर-2626
  • जबलपुर -1682
  • कटनी-173
खबरें और भी हैं...