• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • JNKV's Research Student Built A Mobile Laboratory, By Investing 15 Lakhs, The Unemployed Will Also Be Able To Earn Five Lakhs Annually.

मिट्‌टी की जांच खेत में ही:MP की सबसे बड़ी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के रिसर्च स्टूडेंट ने बनाई चलित प्रयोगशाला, 15 लाख खर्च, कमाई हर साल पांच लाख

जबलपुरएक महीने पहले

खेती-किसानी में नई-नई तकनीक आने के साथ जहां किसानों को नकदी फसल अपनाने का विकल्प मिला है। वहीं बेरोजगारों को भी खेती से जुड़े नवाचार कर कमाई का अवसर खुल गया है। किसानों की सबसे बड़ी समस्या मिट्‌टी की जांच, फसल में रोग और उपज की बिक्री का सही मूल्य न मिलना रहता है। भास्कर खेती-किसानी सीरीज-11 में किसानों की ऐसी ही समस्याओं का हल निकाला है जेएनकेवी के रिसर्च स्टूडेंट ने। उन्होंने चलित मृदा प्रयोगशाला बनाया है। आईए जानते हैं-एक्सपर्ट विनोद कुमार साहू (पीएचडी बायोटेक, जवाहर लाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय) से कि इससे किसान और बेरोजगार कैसे दोहरा फायदा उठा सकते हैं…

किसान की तीन प्रमुख समस्याें का समाधान है चलित प्रयोगशाला

किसान की तीन प्रमुख समस्या पहला कृषि लागत, दूसरा फसल के रोग और उपज की कीमत न मिलना। हमने एक चलित प्रयोगशाला का कांसेप्ट तैयार किया है। इसके पेटेंट की प्रक्रिया चल रही है। ये लैब टू लैंड के कांसेप्ट पर बनाया गया है। इसमें किसान के मृदा (खेत) के परीक्षण, फसल में लगने वाले रोग की पहचान करने की सुविधा रहती है।

इस इनोवेशन पर मिला चुका है अवार्ड।
इस इनोवेशन पर मिला चुका है अवार्ड।

किसान मिट्‌टी परीक्षण कराना चाहता है, लेकिन अभी तक उनके खेत पर ऐसी सुविधा नहीं मिल पाती थी। इसकी वजह से वह नहीं करा पाता था। मिट्‌टी में कौन से पोषक तत्व की कमी है। इसका पता होगा तो उसको बेवजह दूसरे खाद पर होने वाला खर्च बचाने में मदद मिलेगी।

फसल में कोई रोग लगा होगा तो मौके पर ही उसका पता चल जाएगा और कंसल्टेंट के माध्यम से उसका सही उपचार मिल जाएगा। वहीं इस चलित प्रयोगशाला का एक फायदा ये होगा कि किसान को अपने खेत में कौन सी फसल लें, ये भी वह तय कर पाएगा। अच्छी फसल होगी तो उसकी कीमत भी मिलेगी।

पीएचडी कर रहे विनोद साहू लैब में।
पीएचडी कर रहे विनोद साहू लैब में।

मिट्‌टी की 10 तरह की जांच हो सकेगी

खुद का एनजीओ बनाकर किसानों के बीच जाने पर उनकी समस्याओं को समझा। 2018 से इस लैब को तैयार करने का रिसर्च शुरू किया। अब जाकर ये पूरी तरह से फाइनल हो चुका है। इसे किसी कार या वैन को चलित लैब में बदला जाता है। इस लैब से किसानों को कई तरह के फायदे होंगे।

  • मिनी स्वाइल लैब किट से किसान के खेत की 10 तरह की जांच हो सकती है। खेत का पीएच लेवल, उसमें मौजूद खनिज जैसे नाइट्रोजन, जिंक, सल्फर, फास्फाेरस आदि तत्वों की जानकारी प्राप्त हो सकती है। इसका फायदा ये होगा कि किसान को पता चल जाएगा कि उसके खेत में किस पोषक वाली खाद की जरूरत है। इससे उसकी दूसरे खाद पर होने वाला खर्च बचेगा।
  • डिजिटल एग्रीकल्चर डेटा बेस सिस्टम में फसल में लगने वाले कीट और रोग के बारे में विजुअल इफेक्ट के साथ डाटा रहेगा। इसकी मदद से मौके पर किसान के फसल में लगने वाले कीट और रोग को चिन्हित किया जा सकेगा। फिर उसे कंसल्टेंट की मदद से जरूरी दवा और कीटनाशक स्प्रे की सलाह मिल जाएगी।
  • जियोग्राफिकल स्वाइल डाटा से क्षेत्र विशेष का वर्गीकरण किया जा सकेगा कि इस विशेष क्षेत्र की मिट्‌टी में कौन से खनिज और पोषक तत्वों की कमी है। इसके लिए जरूरी कौन से खाद हैं। सरकार इसकी मदद से चाहे तो उस क्षेत्र में मिट्‌टी की जरूरत वाली खाद की उपलब्धता सुनिश्चित करा सकेगी।
  • डिजिटल कंसल्टेंसी सर्विस इस चलित प्रयोगशाला से जुड़ने वाले किसानों को डिजिटल कंसल्टेंसी के माध्यम से कृषि वैज्ञानिकों, कृषि विशेषज्ञों और किसान केंद्रों के अधिकारियों से बात कर उनकी समस्या का त्वरित समाधान उनके मोबाइल पर मैसेज के माध्यम से उपलब्ध कराया जा सकता है।

बेरोजगारों के लिए नया स्टार्टअप बन सकता है

चलित प्रयोगशाला बेरोजगार युवकों के लिए नया स्टार्टअप बन सकता है। कोई भी बेरोजगार युवक 12 से 15 लाख रुपए खर्च कर चलित मृदा प्रयोगशाला को अपना सकता है। यदि उसके पास खुद का पहले से चार पहिया वाहन है, तो उसका खर्च 6 से 7 लाख रुपए ही आएंगे। इस प्रयोगशाला से एक साल में 5000 किसानों के खेत की मिट्‌टी की जांच की जा सकती है। इससे वह पांच लाख रुपए तक की बचत कर सकता है।

तीन महीने के ऑर्डर पर होगा तैयार, 15 दिन की लेनी होगी ट्रेनिंग

चलित लैब को तैयार करने में तीन महीने का वक्त लगेगा। वहीं इच्छुक व्यक्ति को इसे ऑपरेट करने के लिए 15 दिन का प्रशिक्षण लेना पड़ेगा। इसमें वह मिट्‌टी की हर तरह की जांच करना सीख जाएंगे। फसल में रोग की पहचान करना सीख जाएंगे। फिर वह किसान को कंसल्टेंट की मदद से जरूरी खाद, बीज, कीटनाशक के बारे मौके पर ही जानकारी मुहैया करा पाएगा।

नई दिल्ली में केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर कर चुके हैं पुरुस्कृत।
नई दिल्ली में केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर कर चुके हैं पुरुस्कृत।

इनोवेशन को मिला चुका है पुरस्कार

चलित प्रयोगशाला के इस इनोवेशन को केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर 12 अगस्त को दिल्ली में पुरस्कृत कर चुके हैं। इनाम के तौर पर एक लाख रुपए और प्रशस्ति पत्र मिले थे। देश भर से 800 युवा ने यूएनडीपी द्वारा आयोजित स्वाॅल्ड चैलेंज में शामिल हुए थे। तीन राउंड में पहले टॉप-100, फिर टॉप-50 और आखिरी राउंड में टॉप-10 में इसे पहला अवार्ड मिला था। वर्तमान में जबलपुर स्मार्ट सिटी और हैदराबाद की एक संस्थान उनके इनोवेशन को फंडिंग करने जा रही हैं।

भास्कर खेती-किसानी एक्सपर्ट सीरीज में अगली स्टोरी होगी मशरूम की खेती कैसे करें। आप भी इसे अपनी छोटी सी जगह या एक कमरे वाले स्थान पर भी लगा कर कमाई कर सकते हैं। यदि आपका कोई सवाल हो तो इस नंबर 9406575355 वाॅट्सऐप पर कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें-

शिमला मिर्च से ऐसे कमाएं लाखों:फसल को गलन और कीट-पतंगे नुकसान पहुंचाते हैं, 20 दिन में उपचार करना जरूरी

टमाटर की खेती से ऐसे कमाएं लाखों:रिटायर DSP का सब्जी की खेती में कमाल, 8 महीने में ढाई एकड़ से 3 लाख रुपए की कमाई

जबलपुर में सेब उगाने की तैयारी में JNKV:दो साल के पौधे तैयार, संभावनाएं तलाशने में जुटी MP की सबसे बड़ी एग्रिकल्चर यूनिवर्सिटी

बॉयो फर्टिलाइजर से करें स्टार्टअप:JNKV में जैविक खाद बनाने की दी जाती है ट्रेनिंग, दो से चार सप्ताह में सिख जाएंगे प्रोडक्शन टेक्नोलॉजी

बायो फर्टिलाइजर से बढ़ाएं पैदावार:प्रदेश की सबसे बड़ी कृषि यूनिवर्सिटी ने कमाल के जैविक खाद बनाए, कम खर्च में 20% तक बढ़ जाएगी पैदावार

संतरे-आम की अच्छी फसल की तैयारी अभी करें:थाला बनाकर दें खाद और सिंचाई करें, फूल आने पर पानी नहीं दें

मोदी का सपना पूरा करेगा MP का जवाहर मॉडल!:बोरियों में उगा सकेंगे 29 तरह की फसल-सब्जियां, आइडिया बंजर जमीन के साथ छत पर भी कारगर

धनिया और मेथी से दोगुनी कमाई के फंडे:एक्सपर्ट बोले- फसल को माहू से बचाने के लिए बायोपेस्टीसाइड, तो भभूती रोग लगने पर वेटेबल सल्फर छिड़कें

गेहूं पर सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी के एक्सपर्ट की राय:दिसंबर में बुवाई करना है तो HD-2864 किस्म का इस्तेमाल करें, 100 दिन में पक जाती है यह फसल

सबसे बड़ी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी की एक्सपर्ट की राय:चना को उकठा रोग से बचाने के लिए ट्राइकोडर्मा छिड़कें, इल्ली के लिए मेड़ पर गेंदे के पौधे लगाएं

अब हार्वेस्टर से काट पाएंगे चना फसल:चने के बीज की नई JG-24 प्रजाति विकसित, अगले साल से आम किसानों को मिलेगा