• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • The Principal In Charge Of The Government School Had Gone Out For Morning Walk In Jabalpur, Even After 8 Days, There Was A Dispute With The Villagers

8 दिन से लापता शिक्षक:जबलपुर में मॉर्निंग वॉक को निकले थे शासकीय स्कूल के प्रभारी प्राचार्य, गांव वालों से हुआ था विवाद

जबलपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिक्षक मंगल सिंह करोपे (55) बीते 10 अक्टूबर को रहस्यमय ढंग से लापता हो गए, तो आज तक पता नहीं चला। - Dainik Bhaskar
शिक्षक मंगल सिंह करोपे (55) बीते 10 अक्टूबर को रहस्यमय ढंग से लापता हो गए, तो आज तक पता नहीं चला।

जबलपुर में शासकीय विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य रहस्यमय ढंग से गायब हो गए हैं। 10 अक्टूबर को वे घर से मार्निंग वॉक पर निकले थे, इसके बाद से पता नहीं चल रहा है। परिवार के लोगों ने इसके पीछे गांव वालों से हुए विवाद को जोड़कर देख रहे हैं। मझगवां पुलिस ने गुम इंसान कायम कर मामला जांच में लिया है। हालांकि पुलिस की जांच से परिवार वाले संतुष्ट नहीं हैं।

सिहोरा ब्लॉक के शासकीय हायर सेकंडरी स्कूल अगरिया में प्रभारी प्राचार्य मंगल सिंह करोपे (55) बीते 10 अक्टूबर से गायब हैं। वे 10 अक्टूबर की सुबह 4:30 बजे मॉर्निंग वॉक पर निकले थे। वह रोज 3 से 4 किमी दूर तक जाते थे और लौट आते थे। 10 अक्टूबर की सुबह को निकले, तो अब तक पता नहीं चला।

तलाश के लिए जगह-जगह लगवाए हैं परिजनों ने।
तलाश के लिए जगह-जगह लगवाए हैं परिजनों ने।

तलाश के बाद थाने में दर्ज कराई गुमशुदगी

परिजनों ने सभी जगह उनकी तलाश की, लेकिन कुछ भी पता नहीं चला। इसके बाद उन्होंने मझगवां थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई। मंगल सिंह करोपे मढ़ा बंजर गांव के रहने वाले हैं। बेटी हेमलता करोपे के मुताबिक वह सुबह 4.30 बजे निकलते थे और 6:30 बजे लौट आते थे। वे अपना मोबाइल भी घर में चार्ज में लगा कर छोड़ गए थे। बनियान और टॉवल में निकले थे।

9 अगस्त को हुआ था विवाद

आदिवासी दिवस पर 9 अगस्त को गांव के सामाजिक लोगों से उनका विवाद हुआ था। बेटी हेमलता करोपे के मुताबिक उस दिन विवाद के दौरान उसके पिता के साथ मारपीट भी गई थी। हालांकि तब मामला शांत हो गया था, लेकिन तनाव बना हुआ था। बेटी ने आशंका व्यक्त की है कि उक्त लोगों से पूछताछ हो तो पिता के गायब होने की गुत्थी सुलझ सकती है।

सामाजिक गतिविधियों में रहते थे सक्रिय

बिजली कंपनी बघराजी में पदस्थ बेटी हेमलता के मुताबिक उनके पिताजी शिक्षक हैं और कुछ समय से वे प्रभारी प्राचार्य के रूप में भी शासकीय हायर सेकंडरी स्कूल अगरिया में पदस्थ हैं। वे लगातार सामाजिक कार्यों में जुटे रहते हैं। इस तरह वे बिना बताए कभी घर से नहीं निकले थे। परिवार के लोग मार्निंग वॉक वाले रोड पर भी तलाश करते हुए गए, लेकिन कोई साक्ष्य नहीं मिला। परिजनों को संदेह है कि या तो उनके पिता को कहीं बंधक बना कर रखा गया है, या फिर कुछ अनहोनी हो चुकी है। एएसपी ग्रामीण शिवेश सिंह बघेल के मुताबिक तलाश जारी है।