• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • There Was A Midnight Fire In The Central Bank, 10 Lives Trapped In The Upper Floor, Villagers Saved Their Lives By Playing On Their Lives

जबलपुर में पड़ोसियों ने बचाई 10 लोगों की जान:घर के नीचे बैंक में आधी रात लगी आग, ऊपर रहने वाला परिवार लपटों में घिरा; दहशत में 72 वर्षीय बुजुर्ग छत से कूदे

जबलपुर4 महीने पहले
इस परिवार को लोगों ने रेस्क्यू किया।

जबलपुर के गोराबाजार स्थित पिंक सिटी में शुक्रवार को घर में आग लगने से 7 साल की बच्ची और दो महिलाओं की मौत हो गई। वहीं, देर रात शहर से 55 km दूर बेलखेड़ा में इसी तरह का एक और बड़ा हादसा होने से टल गया। दरअसल, बेलखेड़ा स्थित सेंट्रल बैंक में रात करीब 2 बजे आग लग गई। बैंक के ऊपर बने घर में 10 लोगों का परिवार फंस गया। आग बढ़ने से पहले एक बुजुर्ग छत से कूद गए। बाकी 9 लोगों को पड़ोसियों ने रस्सी और सीढ़ी की मदद से बाहर निकाला। घटना में सभी लोग सुरक्षित बच गए, हालांकि छत से कूदने वजह से बुजुर्ग के पैर में चोट आई है। इसके बाद फायर ब्रिगेड ने आकर आग पर काबू पाया। आग लगने की वजह शॉर्ट-सर्किट बताई जा रही है।

घर के बाहर निकल कर आए लोगों ने बताया कि देर रात बैंक में लगी आग नीचली मंजिल पर फैल चुकी थी। ऊपर मौजूद परिवार सो रहा था। लेकिन, घुटन की वजह से सभी की नींद खुल गई। देखा तो चारों ओर धुआं भरा था। एक-दूसरे तक को देख नहीं पा रहे थे। नीचे जाने का रास्ता बंद हो चुका था। परिवार का कहना है कि आग से फर्श इतना गर्म हो गया था कि हमारी चप्पलें तक पिघल गईं थीं।

3 साल की बच्ची समेत 9 को बचाया
आग लगने का पता चलते ही पड़ोसियों ने फायर ब्रिगेड और बेलखेड़ा पुलिस को सूचना दी। घरों से पाइप लगाकर आग बुझाने की कोशिश में जुट गए। लेकिन घर के पीछे रखे बांस के ढेर की वजह से आग तेजी से बढ़ने लगी। दहशत में ऊपर की मंजिल में फंसे नारायण प्रसाद छत से कूद गए। आग बेकाबू होती देख लोगों ने सीढ़ी और रस्सी की मदद से घर में फंसे बाकी के 9 लोगों- इमरती बाई (65), किशन साहू (44), रुकमणी साहू (38), रवि साहू (38), पिंकी (37), श्वेता (18), सुमित साहू (12), सेजल साहू (12) और सानिया साहू (3) को बचाया।

जबलपुर की पिंक सिटी में 3 लोग जिंदा जले: घर में आग लगने से रेलवे के प्रोटोकॉल इंस्पेक्टर की पत्नी, बहन और भांजी की मौत

फायर ब्रिगेड के पहुंचने से पहले ग्रामीण खुद सटक लगाकर आग बुझाने में जुटे रहे।
फायर ब्रिगेड के पहुंचने से पहले ग्रामीण खुद सटक लगाकर आग बुझाने में जुटे रहे।

38 मिनट में पहुंच गई फायर ब्रिगेड
जबलपुर नगर निगम की फायर ब्रिगेड सूचना मिलने के बाद 38 में ही 55 किमी की दूरी तय कर मौके पर पहुंच गई। दमकल की दूसरी गाड़ी शहपुरा नगर पंचायत से बुला ली गई थी। दो घंटे में आग को बुझाया गया।

हादसे की खबर मिलते ही बेलखेड़ा पुलिस मौके पर पहुंची।
हादसे की खबर मिलते ही बेलखेड़ा पुलिस मौके पर पहुंची।

बैंक वाले भी पहुंचे रात में
बैंक में रखे दस्तावेज, फर्नीचर, कम्प्यूटर, टेबल-कुर्सी सब कुछ जल गए, हालांकि आग कैश चैम्बर तक नहीं पहुंची। इसमें रखे 13 लाख रुपए सुरक्षित बताए जा रहे हैं। मैनेजर आनंद कुमार जबलपुर से तो स्टाफ शहपुरा और आसपास के सुबह 4 बजे पहुंच गए थे। बैंक चपरासी जदगीश श्रीपाल पास में ही रहता है। वह हादसे के बाद ही मौके पर पहुंच गया था। बेटे राज श्रीपाल और आस पास के लोगों की मदद से आग बुझाने की कोशिशों में जुटा रहा।

आग लगने के चलते काली पड़ गई छत की सीलिंग।
आग लगने के चलते काली पड़ गई छत की सीलिंग।

इन्होंने दिखाई दिलेरी
आग में घिरे परिवार को बचाने वालों में लोकेशन नवेरिया, अमित साहू, मूलचंद साहू, गुलजार ठाकुर, विक्की साहू, तुलसी राम साहू, राजीव लोचन गुप्ता, शुभांशु साहू, सुदामा प्रसाद साहू ,दीपक साहू, दीपक जायसवाल, बैंक चपरासी जगदीश श्रीपाल, उसका बेटा राज श्रीपाल शामिल हैं। परिवार का कहना है कि हमारे पड़ोसियों ने हमें नई जिंदगी दी है।

शनिवार 7 अगस्त को पहुंचे बैंक के अधिकारी और ग्रामीण।
शनिवार 7 अगस्त को पहुंचे बैंक के अधिकारी और ग्रामीण।

कियोस्क से बैंक का काम-काज चलेगा
जबलपुर से RM महावीर प्रसाद मीणा भी बैंक में हुए नुकसान का आकलन करने पहुंचे थे। उन्होंने बताया कि अभी के हालत में बैंक को चालू करने में महीने भर लग जाएगा। तब तक लोगों की सुविधा के लिए सामने संचालित कियोस्क से बैंक का काम-काज चलेगा। दस्तावेज दिखवाए जा रहे हैं कि क्या बचा है। बैंक में फायर अलार्म लगा है, लेकिन हादसे के बाद ये नहीं बजा। आरएम ने कहा कि यह खराब हो गया था। बेलखेड़ा टीआई विजय अंभोरे के मुताबिक हादसे की जांच की जा रही है।

खबरें और भी हैं...