• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Three Employees Engaged In Procurement At Different Centers In Shahdol Division Died, More Than 45 Infected

गेहूं खरीदी पर कोरोना का साया:शहडोल संभाग में अलग-अलग केंद्रों में खरीदी में लगे तीन कर्मचारियों की मौत, 45 से ज्यादा संक्रमित

शहडोल7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो  - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो 

समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी में इस बार कोरोना संक्रमण का असर साफ दिख रहा है। शहडोल संभाग के तीन जिले शहडोल, उमरिया और अनूपपुर में किसानों से गेहूं खरीदी में लगे तीन कर्मचारियों की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई है। इसमें ब्यौहारी के खैरा समिति और उमरिया जिले के मानपुर ब्लाक के दो कर्मचारी शामिल हैं।

इसके अलावा संभाग में 45 से ज्यादा कोरोना संक्रमित हैं। कोरोना संक्रमण की चपेट में आने वाले कर्मचारियों की संख्या में बढ़ोतरी के साथ ही खरीदी कार्य में लगे कर्मचारी अब प्रदेश सरकार से उन्हें कोरोना योद्धा कल्याण योजना में शामिल करने की मांग कर रहे हैं।

यहा सौ से ज्यादा समितियों में सात सौ से ज्यादा कर्मचारी गेहूं खरीदी और सार्वजनिक वितरण प्रणाली में राशन वितरण कार्य में लगे हैं। एक अप्रैल से समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी प्रारंभ हुई है। अंतिम तिथि 15 मई से बढ़ाकर 25 मई कर दी गई है। इस बीच शहडोल जिले के 38 उपार्जन केंद्रों में 31 हजार मीट्रिक टन लक्ष्य की तुलना में 1 हजार 260 मीट्रिक टन गेहूं खरीदी हुई है।

कोरोना संक्रमण का सबसे ज्यादा प्रभाव सार्वजनिक वितरण प्रणाली से राशन वितरण पर पड़ रहा है। संक्रमण को देखते हुए प्रदेश सरकार ने कुल उपभोक्ताओं में बीस प्रतिशत का अंगूठा पीओएस मशीन में दर्ज करने की सुविधा दी है, लेकिन राशन दुकान संचालकों का कहना है कि कैसे पता चलेगा कि कौन कोरोना संक्रमित है और कौन नहीं। दूसरी ओर सैनेटाइजर की उपलब्धता में भी नागरिक आपूर्ति निगम और खाद्य आपूर्ति विभाग के अधिकारी लापरवाही बरत रहे हैं। सैनेटाइजर की कमी के कारण पीओएस मशीन में अंगूठा लगाने से हाथ सैनेटाइज करना मुश्किल हो जा रहा है।

नागरिक आपूर्ति निगम के प्रबंधक एमएस उपाध्याय बताते हैं कि समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी में अंतिम तारीख बढ़ाकर 25 मई तक कर दी गई है, लेकिन संक्रमण के बढ़ते प्रभाव कर्मचारियों के चपेट में आने का असर लक्ष्य प्राप्ति पर पड़ेगा।

खबरें और भी हैं...