पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • On The 75th Foundation Day Of JEC, CM Said That Agriculture Has Been Fully Exploited, Now The Picture Of The State Will Change With Fast Industrialization And Tourism

MP में तीन इंडस्ट्रियल कॉरिडोर बनेंगे:JEC के 75वें स्थापना दिवस पर सीएम बोले- खेती का भरपूर दोहन कर लिया, अब औद्योगिकीकरण और पयर्टन से बदलेंगे प्रदेश की तस्वीर

जबलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जेईसी के 75वें स्थापना दिवस पर सीएम ने छात्रों से किया जनसवांद। - Dainik Bhaskar
जेईसी के 75वें स्थापना दिवस पर सीएम ने छात्रों से किया जनसवांद।

शासकीय जबलपुर इंजीनियरिंग कॉलेज के 75वें स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शिक्षा, रोजगार और उद्योग से जुड़ी नीतियों पर युवा संवाद के जरिए छात्रों के सवालों के जवाब दिए। बताया कि कृषि का भरपूर दोहन कर चुके हैं। अब तेज औद्योगिकीकरण की जरूरत है।

प्रदेश में तीन इंडस्ट्रियल कॉरिडोर चंबल अंचल से अटल एक्सप्रेस वे निकालने, जबलपुर-रीवा-सतना से सिंगरौली होते हुए एक काॅरिडोर और तीसरा नर्मदा एक्सप्रेस अमरकंटक से जबलपुर होते हुए गुजरात की सीमा तक जाएगा। इस मार्ग के दोनों तरफ छोटे-बड़े औद्योगिक क्षेत्र विकसित करेंगे।

सीएम ने जबलपुर इंजीनियरिंग कॉलेज (जेईसी) के छात्रों से जनसंवाद किया और उनके सवालों के जवाब दिए। प्रदेश को टूरिज्म और इंडस्ट्रियल हब बनाकर इसकी तस्वीर बदलनी है। इसमें तीनों कॉरिडोर बड़ी भूमिका निभाएंगे। छात्रों से सीएम ने सीधा संवाद किया।

जनसंवाद में छात्रों के सवालों का सीएम ने दिया जवाब।
जनसंवाद में छात्रों के सवालों का सीएम ने दिया जवाब।

​​​​आर्या सिंह ठाकुर, इंड्रस्ट्रियल प्रोडक्शन ब्रांच की तृतीय वर्ष छात्रा
Q- औद्योगिकीकरण जरूरी है, इसे कैसे बढ़ावा देंगे?
CM- रोजगार जरूरी है। कृषि का पूरा दोहन कर हम पंजाब को भी पीछे छोड़ चुके हैं। अब औद्योगिकीकरण की रफ्तार बढ़ानी है। स्टार्ट योर बिजनेस इन 30 डेज में अपना बिजनेस शुरू करें। कोशिश है बाहर से उद्योगपति आए, लेकिन मप्र के युवा भी उद्योग लगाने की सोचे। इसलिए तीन इंडस्ट्रियल कॉरिडोर बनाने की कल्पना की गई है। युवा के लिए धन की बाधा होती है। उनके लिए इनोवेटिव युवा उद्यमी योजना बनाई है।

रितिका शर्मा, द्वितीय वर्ष, इंफाॅर्मेशन टेक्नोलाॅजी
Q- मप्र में कई बेहतरीन कॉलेज है फिर भी कौशल के मामले में हम पीछे क्यों?
CM- शिक्षा के तीन उद्देश्य है। ज्ञान देना। अच्छा नागरिक बनाना और कौशल देना। देश में स्किल्डमैन पॉवर की कमी है। इस अंतर को भरना है। पहले टपरे वाली आईटीआई चलती थी। अब संभागीय स्तर पर मॉडल आईटीआई बन रही है। हम भोपाल में ग्लोबल स्किल पार्क बना रहे हैं, जहां 6 हजार बच्चे पढ़कर देश-विदेश में नौकरी लायक बनाएंगे।

शिरीन दुबे, इलेक्ट्रानिक कम्युनिकेशन
Q- कोरोना काल में दिन-रात कार्य किया। इस ऊर्जा का स्रोत क्या है?

CM- कोरोना की दूसरी लहर के वो सात दिन कभी नहीं भूल सकता। सात दिन व सात रात नहीं सोया था। अस्पतालों में ऑक्सीजन और बेड़ की मारामारी थी। आधी रात को फोन बजते थे। कहीं एक घंटे कहीं दो घंटे की ऑक्सीजन बची है। समय कठिन था, पर ईमानदारी से रोडमैप बनाकर चले तो कोई भी चुनौती पार कर सकते हैं। कोरोना बहरुपिया है इसलिए लापरवाह न हो। सावधानी जरूरी है। तीसरी लहर आ सकती है। इसकी तैयारी में जुटे हैं। जिला क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप बनाया। जिला, ब्लाक और गांव के स्तर पर खुद निर्णय करने की छूट दी। सभी के सहयोग से कोरोना के दूसरी लहर पर काबू पाया।

पूर्णिमा श्रीवास्तव, द्वितीय वर्ष कम्प्यूटर साइंस
Q- मप्र प्राकृतिक और ऐतिहासिक धरोहरों से ओतप्रेत है। पर्यटकों काे आकर्षित करने का क्या प्लान है और युवा शक्ति को कैसे जोड़ा जा सकता है?

CM-पर्यटन मप्र की ताकत है। पर्यटन के क्षेत्र में एक साथ 11 पुरस्कार जीतने का काम किया है। जबलपुर के आसपास ही प्राकृतिक स्थल बिखरे पड़े हैं। टूरिज्म की बेहतर नीति बनाई। हमारे पास बरगी जैसा डैम हैं। इंदिरा सागर में हनुवंतिया को डेवलेप कर किया। जबलपुर के आसपास पर्यटक बढ़े। रोड बेहतर हो। रहने की बेहतर सुविधा हो। मार्केटिंग हो अपने स्थलों की। टाइगर रिजर्व हैं। बारिश में बफर में सफर योजना चालू की है। हाट बैलून जैसी नए इनोवेटिव आईडिया लेकर आए हैं। मैनेजमेंट, पर्यटन का रोजगार से गहरा नाता है। अमरकंटक गया वहां छोटी-छोटी कुटिया बनाने का निर्णय लिया। कुटिया में किराए से रहकर ध्यान, लेखन कर सकते हैं।

रजनीश कुशवाहा, द्वितीय वर्ष, आईटी
Q-मप्र में युवा इंजीनियर्स को आगे बढ़ाने के लिए सरकार के क्या प्रयास है?

CM- हमारी सरकार ने मेधावी योजना चालू की है। इस योजना में गरीब परिवार मेधावी बच्चों की पढ़ाई का सारा खर्च सरकार उठाती है। इंजीनियरिंग का भविष्य बनाने के लिए इंफ्राॅस्ट्रक्चर बढ़ाने की तैयारी है। कोविड-19 महामारी में आर्थिक संकट है, फिर भी कही से भी पैसा लाकर इन्फ्रास्ट्रक्चर को बढ़ाएंगे। मुख्यमंत्री युवा कॉन्ट्रैक्टर योजना बनाई थी, इसे फिर से चालू करेंगे। आपके इनोवेटिव आइडिया है, तो उसे मूर्त रूप देने के लिए वेंचर कैपिटल फंड बनाएंगे। इसमें बिजनेस करने वालों कम ब्याज पर पैसे देंगे।

खबरें और भी हैं...