• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Major Incident In Jabalpur, Death Of Protocol Inspector's Wife, Sister And Niece In WCL, 70 year old Mother Including Her Own Life

जबलपुर में 3 लोग जिंदा जले:घर में आग लगने से रेलवे के प्रोटोकॉल इंस्पेक्टर की पत्नी, बहन और भांजी की मौत; 70 साल की मां और अफसर की जान बची

जबलपुर6 महीने पहले
नेहा सोनी (32), परी (7) और रितु सोनी (37) की मौत।

जबलपुर के गोराबाजार बिलहरी स्थित पिंक सिटी में आग लगने के चलते 7 साल के मासूम और दो महिलाओं की जलने और दम घुटने से मौत हो गई। वहीं 70 साल की महिला और पश्चिम मध्य रेलवे (WCR) में तैनात उनके बेटे को कॉलोनी के गार्ड और आसपास के लोगों ने बचा लिया। अंदेशा जताया जा रहा है कि आग शार्टसर्किट से लगी होगी।

गोराबाजार पुलिस के मुताबिक गुरुवार 5 अगस्त की देर रात 2.30 बजे के लगभग की ये घटना है। पिंक सिटी गेट नंबर तीन के अंदर बीच कॉलोनी में मकान नंबर 78 में ये दुखद हादसा हुआ। मकान WCR जीएम के दफ्तर में तैनात प्रोटोकॉल इंस्पेक्टर आदित्य सोनी का है। गुरुवार रात को वह घर पर थे। भूतल सहित प्रथम मंजिल का ये मकान बना है। भूतल में उनकी 70 साल की मां कैंसर पीड़िता अरुणबाला सोनी किचन के सामने लगे बेडरूम में सो रही थी। वहीं आदित्य, उनकी पत्नी नेहा सोनी (32), भोपाल निवासी बहन रितु सोनी (37) भांजी परी उर्फ धनविस्टा सोनी ( 7) पहली मंजिल पर सो रहे थे।

जबलपुर हादसा, गार्ड की आंखों-देखी:एक मां अपनी बेटी को सीने से चिपकाए पुकारती रही- कोई तो बचा लो..., दोनों नहीं बचीं; तीन बार हथौड़ा मारकर गेट तोड़ा, तब बच्ची की नानी को बचा सके

देर रात ढाई बजे गार्ड ने आग देख शोर मचाया
कॉलोनी के गार्ड ने देर रात ढाई बजे आदित्य सोनी के मकान में आग देख शोर मचाया। कॉलोनीवासियों के साथ वह पहुंचा तो 70 साल की अरुणबाला सोनी चीख रही थी। सामने आग लगी थी, जो फैलकर पहली मंजिल तक पहुंच गई थी। वहीं बालकनी से आदित्य सोनी चीख रहे थे। लोगों ने मां-बेटे को किसी तरह निकाला, लेकिन नेहा, रितु और परी कमरे में ही फंस गईं। नेहा बचने के लिए बाथरूम में छुप गई थी, लेकिन धुआं और आग की गरमी ने जान ले ली। नेहा की लाश बाथरूम में मिली। वहीं रितु और परी की लाश बेड पर पड़ी थी।

हादसे के बाद मौके पर कॉलोनी के लोग भी तीन मौत से सन्न रह गए।
हादसे के बाद मौके पर कॉलोनी के लोग भी तीन मौत से सन्न रह गए।

फायर ब्रिगेड की गाड़ी ने बुझाई आग
रात 2.39 बजे फायर ब्रिगेड को सूचना मिली थी। ड्राइवर अजय कुमार शर्मा दल के साथ मौके पर पहुंचे और आग बुझाई। आग बुझने के बाद लोग अंदर पहुंचे तो तीनों की लाश मिली। सूचना पर गोराबाजार टीआई सहित केंट सीएसपी भावना मरावी, एएसपी गोपाल खांडेल, एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा, विधायक केंट अशोक रोहाणी, नगर निगम कमिश्नर संदीप जीआर, नायब तहसीलदार नीरज कथरिया, एफएसएल डॉ. सुनीता तिवारी और फायर ब्रिगेड प्रभारी कुशाग्र ठाकुर पहुंचे थे।

भीषण अग्निहादसे में भी मां की ममता सब पर भारी:बालकनी में फंसे बेटे को बूढ़ी मां की चिंता थी, तो दमघोटू धुएं और लपटों से घिरी रितु मौत के बाद भी बेटी को बचाने की कोशिश की

भीड़ को देखते हुए भारी बल तैनात
घटना को देखते हुए मौके पर पुलिस बल तैनात किया गया है। तीनों शवों को मेडिकल कॉलेज की मरचुरी भिजवा दिया गया है। वहीं 70 वर्षीय अरुणबाला सोनी की तबीयत खराब होने पर निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। आदित्य सोनी की एक बहन वर्षा सोनी आस्ट्रेलिया में रहती है। बहन रितु और भांजी परी 10 दिन पहले ही भाई के घर आए थे। पत्नी, बहन व भांजी की मौत से आदित्य सोनी बदहवास से हो गए हैं। मां अरुणबाला सोनी को अभी तीनों मौतों के बारे में नहीं बताया गया है।

पुलिस और एफएसएल टीम पंचनामा बनाते हुए।
पुलिस और एफएसएल टीम पंचनामा बनाते हुए।

सब कुछ जलने से स्पष्ट कारण का पता नहीं
मकान में आग से प्लास्टर तक उखड़ गया है। इन्वर्टर सहित टीवी, फ्रिज, घरेलू सामग्री, बिजली की लाइन आदि सब कुछ राख हो गया है। आग भूतल से फैला था। यह शार्ट-सर्किट ही था या कुछ और इसकी जांच की जा रही है। हादसे की खबर मिलते ही सोनी परिवार के करीबी भी पहुंचे हैं।

घर की दीवारें बयां कर रहे हादसे के जख्म:रेलवे कर्मी आदित्य के पड़ोसियों ने सुनाई आपबीती, बोले ऐसा हादसा कभी नहीं देखा था

खबरें और भी हैं...